होम अवस्थाएँ | पलकों की सूजन  |  In English

पलकों की सूजन के कारण और उसके उपचार के तरीके

सूजी हुई पलक वाली महिला

पलकों की सूजन क्या है?

पलकों में सूजन आँख के चारों ओर के संयोजी ऊतक में तरल के जमा होने या शोथ के कारण पैदा होती है। पलकों के सूजने से दर्द हो भी सकता है या नहीं भी, और यह स्थिति ऊपरी और निचली, दोनों पलकों को प्रभावित कर सकती है। सबसे आम कारणों से होने वाली पलकों की सूजन का उपचार घर पर किया जा सकता है।

पलकों की सूजन मामूली से लेकर गंभीर तक हो सकती है और इसके कई कारण हो सकते हैं। कुछ मामलों में, पलकों की सूजन किसी अधिक गंभीर स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकती है जिसके कारण दृष्टि की हानि हो सकती है।

यदि घरेलू नुस्खे कारगर नहीं होते हैं तो डॉक्टर या पारिवारिक चिकित्सक आपकी पलकों की सूजन के कारण की पहचान कर सकता है।

पलकों की सूजन क्यों होती है?

पलकों की सूजन कई स्थितियों में हो सकती है, जिनमें शामिल हैं:

अपनी आँखों की सूजन के कारण को समझें ताकि आप सही इलाज करवा सकें।

पलकों की सूजन का उपचार कैसे करें?

पलकों की सूजन के हल्के-फुल्के मामलों का उपचार घरेलू नुस्खों से किया जा सकता है। अपनी आँखें बिल्कुल भी न मलें क्योंकि ऐसा करने से आपकी स्थिति और बिगड़ेगी।

पलकों की सूजन के मामूली मामलों के लिए ये घरेलू उपचार आजमाएं।

  • यदि आपकी पलकों की सूजन के साथ-साथ आँखों से स्राव भी हो रहा है, तो अपनी आँखों को धोने के लिए नमक के घोल का उपयोग करें।

  • तरल के जमाव को कम करने के लिए अपनी आँखों पर ठंडी, गीली पट्टी लगाएं। ठंडे टी बैग भी पलकों की सूजन में उपयोगी हो सकते हैं।

  • यदि आप कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं, तो कुछ घंटों के लिए कॉन्टैक्ट लेंस निकाल दें।

  • यदि आपको एलर्जी है, तो एंटीहिस्टमाइन से युक्त आई ड्रॉप्स या लगाने वाली क्रीम का उपयोग करें।

  • शोथ-रोधी आई ड्रॉप्स एलर्जी या वायरल कंजंक्टिवाइटिस जैसे मामूली संक्रमणों से होने वाली पलकों की सूजन की तकलीफ को कम करने में मदद कर सकती हैं। 

  • तरल का जमाव कम करने के लिए अपने सिर को ऊँचा रखकर लेटें या सोएं।

पलकों की सूजन के लक्षण

पलकों की सूजन किसी अंतर्निहित कारण, जैसे एलर्जी या संक्रमण का लक्षण है। आपको पलकों की सूजन के साथ-साथ इनमें से कुछ अन्य लक्षण हो सकते हैं:

  • आँखों में खुजली व जलन, जैसे खुजलाहट या खरोंच जैसी संवेदना।

  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता (फोटोफोबिया)

  • आँसुओं का अत्यधिक उत्पादन, जिससे आँखों से पानी बह सकता है।

  • बाधित दृष्टि (सूजन के स्तर पर निर्भर)।

  • पलक का लाल पड़ना।

  • लाल आँखें और कंजंक्टाइवा का शोथ।

  • आँखों का स्राव।

  • पलकें सूखना या पपड़ाना।

  • पीड़ा, खास तौर से, संक्रमण के कारण।

यहाँ पलकों की सूजन के सबसे आम लक्षणों को अधिक विस्तार से समझाया गया है:

आँखों में खुजली होना

आपकी पलकों की सूजन एलर्जी के कारण हो सकती है। अधिकांश तौर पर, एलर्जी के कारण आँखों में खुजली होती है। पराग कणों, धूल और पशुओं की रूसी के कारण आँखों के आसपास के ऊतकों में हिस्टमाइन निकलते हैं। हिस्टमाइन आपकी आँखों के आसपास खुजली, लालपन और सूजन पैदा करते हैं।

प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता

आपकी पलकों की सूजन का कारण फोटोफोबिया यानी प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता हो सकती है। सूरज की रोशनी, फ़्लोरेसेंट प्रकाश और इंकैंडीसेंट प्रकाश असुविधा का कारण बन सकते हैं, और आपको अधखुली आँखों से देखने या आँखें बंद करने के लिए मजबूर कर सकते हैं। प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता के साथ ही सिरदर्द भी हो सकता है।

पनीली आखें

पनीली आँखों के कारण आँखें सूज सकती हैं। ड्राई आई सिंड्रोम यानी शुष्क आँखों से होने वाली असाध्य जलन के परिणामस्वरूप आसुँओं में पानी की मात्रा बढ़ सकती है। यदि ऊपरी पलक की ग्रंथियाँ इस द्रव का अधिक उत्पादन करती हैं, तो पलकों में सूजन हो सकती है।

आँखों में लालपन

आपकी पलकों में सूजन आपकी आँखों के लालपन के परिणामस्वरूप हो सकती है। लाल या रक्तवर्ण आँखें बहुत आम हैं और इसके कई कारण हैं। लाल आँखें आम तौर पर आँख की अन्य स्थितियों का लक्षण होती हैं जो मामूली से लेकर गंभीर तक हो सकती हैं।

आँखों का स्राव

आँखों का स्राव, या आपकी आँखों में "नींद", आपकी पलकों की सूजन का कारण हो सकते हैं। आँखों का स्राव वह म्यूकस, तेल, त्वचा की कोशिकाएं और अन्य मलबा है जो आपके सोने के दौरान आपकी आँख के कोने में जमा हो जाता है। यह इस बात पर निर्भर करते हुए कि स्राव में से कितना द्रव भाप बन कर उड़ गया है, गीला और चिपचिपा या सूखा और पपड़ीदार हो सकता है।

आँखों में सूखापन

ड्राई आई सिंड्रोम के कारण पलकों की सूजन सहित, कई समस्याएं हो सकती हैं। आँख की सतह पर लंबे समय से चली आ रही चिकनाई और नमी के अभाव के कारण ड्राई आई सिंड्रोम हो सकता है। शुष्क आँखों के दुष्प्रभावों में आँख में हल्की सी जलन से लेकर आँखों की उल्लेखनीय सूजन शामिल हैं।

आँखों में दर्द

आँखों में दर्द के साथ-साथ धुँधला नज़र आना, रक्तवर्ण आँखें, प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता और पलकों की सूजन हो सकती है। आँखों में दर्द में आँखों के पीछे, अंदर या बाहर होने वाली तकलीफ शामिल है।

पलकों की सूजन के मामले में डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए

यदि आपको पलकों की सूजन के साथ-साथ निम्नलिखित में से कोई भी समस्या होती है तो आँखों की जाँच करवाने के लिए अपने डॉक्टर के पास जरूर जाएं:

  • लक्षण 48 घंटों से अधिक समय तक बने रहते हैं।

  • पलकों की सूजन घरेलू नुस्खों से दूर नहीं होती है।

  • देखने की क्षमता में परिवर्तन होने लगता है या नज़र और कमज़ोर हो जाती है।

  • आपको काले बिंदु, या “फ्लोटर्स” दिखने लगते हैं।

  • तकलीफ बढ़ जाती है या दूर नहीं होती है।

  • सूजन के भीतर गाँठ बनने लगती है।

  • आँखों को हिलाने-डुलाने में कठिनाई होती है।

एक चिकित्सक या आँख का डॉक्टर आपकी तकलीफ का निदान और सबसे कारगर उपचार करेगा। यदि पलकों की सूजन का कारण काफी गंभीर है तो किसी नेत्र विशेषज्ञ के पास जाने की जरूरत पड़ सकती है। 

आँखों की सूजन की रोकथाम के 4 सुझाव

  1. एलर्जियों का परीक्षण करवाएँ। यदि एलर्जी के कारण पलकों की सूजन बार-बार होने लगती है, तो यह पता लगा कर कि आपको किन चीजों से एलर्जी है, आप विशिष्ट एलर्जनों से बच सकते हैं या उनके संपर्क में आने के अवसरों को कम कर सकते हैं।

  2. एलर्जी के लक्षणों के अचानक होने से बचने के लिए हाइपोएलर्जनिक और इत्र-रहित सौंदर्य उत्पादों को चुनें। अपनी आँखों के करीब एलर्जी प्रतिक्रिया को होने से रोकने के लिए अपने चेहरे पर मेकअप का उपयोग करने से पहले अपनी कलाई के अंदरूनी भाग पर पैच टैस्ट करें।

  3. आई ड्रॉप्स का उपयोग करते समय, प्रिज़रवेटिव-रहित आई ड्रॉप्स की तलाश करें। नियमित आई ड्रॉप्स में मौजूद प्रिज़रवेटिव बैक्टीरिया की वृद्धि को कम करते हैं, पर कुछ लोगों को इन प्रिज़रवेटिव से एलर्जी हो सकती है।

  4. यदि आप कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं, तो आप उचित स्वच्छता नियमों का पालन करके पलकों की सूजन के जोखिम को कम कर सकते हैं। कॉन्टैक्ट लगाने या निकालने से पहले हमेशा अपने हाथ धोएं। कॉन्टैक्ट लेंसों और कॉन्टैक्ट लेंस के केस को बार-बार बदलते रहना भी उचित स्वच्छता नियमों का हिस्सा है।

फूली और सूजी हुई आँखों के बीच क्या अंतर है?

"फूली आँखों" का मतलब "पलकों की सूजन" नहीं है। दोनों शब्दों का संबंध अलग-अलग स्थितियों से है।

पलकों की सूजन, या आँखों के चारों ओर की सूजन एलर्जी, संक्रमण या चोट से उत्पन्न एक शोथजनक प्रतिक्रिया है। पलकों की सूजन केवल एक आँख या दोनों आँखों में हो सकती है। 

आँख फूलने का संबंध आम तौर पर नींद के अभाव, ऊतकों के उम्र के बढ़ने के साथ लटकने और पानी के सामान्य प्रतिधारण से होता है। यदि आपकी आँखें फूली हैं, तो आम तौर पर वह दोनों आँखों को प्रभावित करेगी।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें