होम अवस्थाएँ |  In English

मोतियाबिंद

संक्षिप्त विवरण

मोतियाबिंद आँख के प्राकृतिक लेंस, जो परितारिका और पुतली के पीछे रहता है, का एक धुंधलापन है। मोतियाबिंद आमतौर पर दोनों आँखों में विकसित होता है, पर कभी-कभी यह केवल एक को प्रभावित करता है। अधिकांश मोतियाबिंद 40 वर्ष की आयु के बाद, आम तौर पर उम्र बढ़ने के परिणामस्वरूप होते हैं।

मोतियाबिंद दुनिया भर में दृष्टि हानि के सबसे आम कारण हैं, परन्तु ये उपचार योग्य हैं।

मोतियाबिंद के कारण

हमारी उम्र बढ़ने के साथ, आँख के प्राकृतिक लेंस का निर्माण करने वाले प्रोटीन आपस में चिपक कर पिंड बन सकते हैं। ये पिंड मोतियाबिंद होते हैं और धुंधलेपर के कारण बनते हैं। समय के साथ, वे बड़े हो जा सकते हैं और लेंस के अधिक भाग को धुंधला बनाते हैं, और देखना और कठिन बनाते हैं।

आँख के भीतर का लेंस कैमरे के लेंस की तरह काम करता है, जो स्पष्ट दृष्टि के लिए रेटिना पर प्रकाश केंद्रित करता है। यह आँख के फोकस को भी समायोजित करता है, जिससे हम चीजों को पास और दूर दोनों देख सकते हैं।

पानी और प्रोटीन से आँख के लेंस का अधिकांश भाग बनता है। प्रोटीन एक सटीक तरीके से व्यवस्थित होता है जो लेंस को साफ रखता है और प्रकाश को इससे गुज़रने देता है।

कोई भी निश्चित रूप से नहीं जानता कि उम्र के साथ आँख के लेंस क्यों बदल कर, मोतियाबिंद उत्पन्न करते हैं। दुनिया भर के शोधकर्ताओं ने ऐसे कारकों की पहचान की है जो मोतियाबिंद के विकसित होने से संबंधित हो सकते हैं। उम्र के बढ़ने के अलावा, मोतियाबिंद के जोखिम कारकों में ये शामिल हैं:

  • सूर्य की रोशनी और अन्य स्रोतों से पराबैंगनी विकिरण

  • मधुमेह

  • उच्च रक्तचाप

  • मोटापा

  • धूम्रपान

  • कोर्टिकोस्टेरोइड दवाओं का लंबे समय तक उपयोग

  • कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए स्टैटिन दवाओं का उपयोग

  • पहले की आँख की सर्जरी

  • हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी

  • शराब का काफी सेवन

  • उच्च निकट दृष्टि

  • पारिवारिक इतिहास

वर्तमान में एक सिद्धांत यह है कि मानव लेंस में ऑक्सीडेटिव परिवर्तन मोतियाबिंद का कारण हो सकते हैं। अध्ययनों ने दिखाया है कि एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर फल और सब्जियाँ कुछ प्रकार के मोतियाबिंद को रोकने में मदद कर सकती हैं।

मोतियाबिंद के लक्षण

एक मोतियाबिंद छोटे से शुरू होता है और, शुरुआत में, आपकी दृष्टि पर बहुत कम प्रभाव पड़ता है। दृश्य लक्षणों प्रकट होने में महीनों से लेकर कई सालों तक का समय लग सकता है। आपको लगेगा कि आपकी दृष्टि थोड़ी धुंधली है, मानो कांच के एक धुंधले टुकड़े के माध्यम से देख रहे हों। 

मोतियाबिंद प्रत्येक आँख में एक अलग दर से विकसित हो सकता है, जिसके कारण एक आँख में दृश्य लक्षण और दूसरे में सामान्य दृष्टि हो सकती है। मोतियाबिंद के साथ आप निम्नलिखित लक्षणों का भी अनुभव सकते हैं:

एक विकसित मोतियाबिंद के कारण एक बाहरी दर्शक को पुतली काले के बजाय हल्के भूरे रंग की दिखाई दे सकती है।

जिस प्रकार का मोतियाबिंद आपको होता है वह इस बात को पूर्णतया प्रभावित करेगा कि आप किन लक्षणों का अनुभव करेंगे और कितनी जल्दी वे प्रकट होंगे। यदि आपको लगता है कि आपको मोतियाबिंद हुआ है, तो परीक्षा करवा कर सुनिश्चित होने के लिए एक नेत्र चिकित्सक से मिलें।

मोतियाबिंद के प्रकार

मोतियाबिंद के अनेक प्रकार हैं, परन्तु कुछ दूसरों से अधिक आम हैं।

  • परमाणु मोतियाबिंद मोतियाबिंद के सबसे आम रूप हैं। ये आँखों के लेंस के केंद्र में बनते हैं, और दृष्टि को धीरे-धीरे बिगाड़ते व प्रभावित करते हैं।

  • कॉर्टिकल मोतियाबिंद आमतौर पर तीली के जैसे अपारदर्शिताएँ (opacities) होते हैं जो लेंस के किनारे से शुरू होते हैं और इसके केंद्र की ओर बढ़ते हैं। ये आपको प्रकाश की अधिक चकाचौंध का अनुभव कराते हैं, जिससे रात को गाड़ी चलाना विशेष रूप से कठिन हो जाता है।

  • जन्मजात मोतियाबिंद लेंस अपारदर्शिताएँ हैं जो एक या दोनों आँखों में जन्म के समय मौजूद होती हैं। वे बहुत छोटे हो सकते हैं और दृष्टि पर बहुत कम प्रभाव डाल सकते हैं, या अधिक गंभीर हो सकते हैं।

  • चोट से उत्पन्न मोतियाबिंद लेंस पर कहीं भी बन सकते हैं और अक्सर फूल की पंखुड़ी या “रोज़ेट” के आकार में विकसित होते हैं।

  • पॉस्टीरियर सबकैप्स्यूलर मोतियाबिंद लेंस के पीछे की केंद्रीय सतह पर विकसित होते हैं। इस प्रकार के मोतियाबिंद दूसरों की तुलना में अधिक तेजी से विकसित होते हैं। आमतौर पर लक्षण उज्ज्वल प्रकाश और रंगों के आसपास आपकी दृष्टि को प्रभावित करते हैं।

  • Mayo ने 5 अलग-अलग प्रकार बताएँ हैं, क्या हम इस अनुभाग में तीन और जोड़ सकते हैं। 

मतियाबिंद का उपचार

जब लक्षण दिखाई देने लगते हैं, तो निम्न का उपयोग करके आप कुछ समय के लिए अपनी दृष्टि में सुधार करने में सक्षम हो सकते हैं:

  • नए चश्मे।

  • शक्तिशाली द्विफोकसी (बाइफोकल्स)

  • आवर्धन चश्मे।

  • उचित प्रकाश व्यवस्था या अन्य दृश्य एड्स (साधन)।

बढ़े हुए मोतियाबिंद के उपचार के अन्य विकल्पों में मोतियाबिंद की सर्जरी शामिल हो सकती है।

यदि मोतियाबिंद आपके जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करना शुरू कर देता है तो आपके नेत्र चिकित्सक सर्जरी का सुझाव दे सकते हैं। आपकी दृष्टि को पुनः ठीक करने के लिए इसे आमतौर पर एक कम जोखिम वाले और प्रभावी तरीके के रूप में देखा जाता है।

बहुत से लोग मंददृष्टि को उम्र बढ़ने का एक अपरिहार्य तथ्य मानते हैं, परन्तु मोतियाबिंद सर्जरी दृष्टि को पुनः प्राप्त करने की एक सरल, अपेक्षाकृत दर्द रहित प्रक्रिया है।

मोतियाबिंद सर्जरी से खोई हुई दृष्टि को सफलतापूर्वक बहाल किया जा सकता है। यह अमेरिका में सबसे अधिक की जाने वाली सर्जरी है, और प्रीवेंट ब्लाइंडनेस (Prevent Blindness) के अनुसार हर साल 20 लाख से अधिक अमेरिकी मोतियाबिंद की सर्जरी करवाते हैं।

मोतियाबिंद का निदान करना

मोतियाबिंद के निदान के लिए नेत्र चिकित्सक विभिन्न परीक्षणों का उपयोग कर सकते हैं।

  • स्लिट लैंप जाँच: एक स्लिट लैंप एक बड़ा, द्विनेत्री माइक्रोस्कोप है जिसमें एक उज्ज्वल प्रकाश स्रोत रहता है और जिसे एक छोटी मेज पर कसा जाता है। यह आपके नेत्र चिकित्सक को (मोतियाबिंद के लिए लेंस की जांच सहित) उच्च आवर्धन में आपके आँख की बारीकी से जाँच करने में सक्षम बनाता है।

  • रेटिना की परीक्षा: सबसे पहले, एक नेत्र चिकित्सक आपकी आँखों को आई-ड्रॉप से डायलेट करेगा, जिससे पुतलियाँ धीरे-धीरे खुलेंगी। यह चिकित्सक को आपकी आँख के भीतर का एक बहुत बेहतर दृश्य प्रदान करता है। फिर चिकित्सक आपकी आँख के पीछे रेटिना और ऑप्टिक तंत्रिका की जाँच करता है। एक डायलेटेड नेत्र परीक्षण भी लेंस पर किसी भी मोतियाबिंद गठन का सबसे अच्छा दृश्य प्रदान करता है।

मोतियाबिंद के निदान के बाद हमेशा उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, विशेषकर यदि वे आपको परेशान नहीं करते। प्रारंभ में, आपके चश्मे के पर्चे में एक सरल परिवर्तन स्वीकार्य दृष्टि को बहाल कर सकता है।

मोतियाबिंद को रोकना

वर्तमान में, मोतियाबिंद को विकसित होने से रोकने का कोई ज्ञात तरीका नहीं है। तथापि, यदि आप ऊपर दिए गए कुछ जोखिम कारकों को सीमित कर सकते हैं, तो यह उनकी प्रगति की दर को धीमा कर सकता है। मोतियाबिंद के जोखिम कारकों को सीमित करने के तरीकों में ये शामिल हैं:

  • सूरज के पराबैंगनी विकिरण में रहने से आपकी आँखों को होने वाले नुकसान से बचने के लिए दिन के दौरान धूप का चश्मा पहनना।

  • सिगरेट पीना छोड़ना।

  • एक स्वस्थ आहार लेना और नियमित व्यायाम करना।

  • मधुमेह या उच्च रक्तचाप जैसी सह-मौजूदा अवस्थाओं के प्रभावों को प्रबंधित करना और कम करना।

  • अक्सर आँखों की जाँच करवाना ताकि विकसित होते मोतियाबिंद का जल्दी निदान सुनिश्चित किया जा सके।

गैरी हीटिंग, ओडी, और जूडिथ ली ने भी इस लेख में योगदान दिया है।

मोतियाबिंद। अंधेपन को रोकें। अप्रैल 2021 को एक्सेस किया गया।

आयु से संबंधित मोतियाबिंद टाइप 2 मधुमेह और स्टैटिन के उपयोग से जुड़ा है. Optometry and Vision Science. अगस्त 2012.

आहार, शाकाहार और मोतियाबिंद का खतरा. The American Journal of Clinical Nutrition, मई 2011.

मधुमेह में मोतियाबिंद का प्रसार और जोखिम कारक: Sankara Nethralaya Diabetic Retinopathy Epidemiology and Molecular Genetics Study, report no. 17. Investigative Ophthalmology & Visual Science. दिसंबर 2010.

मोतियाबिंद के निष्कर्षण के जोखिम के संबंध में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी: महिलाओं में एक प्रत्याशित अध्ययन. Ophthalmology. मार्च 2010.

आहार कैरोटीनॉयड्स, विटामिन सी और ई, और महिलाओं में मोतियाबिंद का जोखिम। एक प्रत्याशित अध्ययन। Archives of Ophthalmology. जनवरी 2008.

शराब का सेवन और मोतियाबिंद के निष्कर्षण का जोखिम: महिलाओं का एक प्रत्याशित जनसांख्यिकीय-वर्ग अध्ययन. Ophthalmology. अप्रैल 2007.

अमेरिकी महिलाओं में आहार वसा और मोतियाबिंद के निष्कर्षण के जोखिम का प्रत्याशित अध्ययन. American Journal of Epidemiology. मई 2005.

अश्वेत आबादी में मोतियाबिंद जोखिम कारक के रूप मधुमेह, उच्च रक्तचाप, और केंद्रीय मोटापा: द बारबाडोस आई स्टडी। Ophthalmology. जनवरी 1999.

एक जनसंख्या पर आधारित अध्ययन में सूरज की रोशनी से अरक्षितता और लेंस की अस्पष्टता का जोखिम: सैलिस्बरी आई इवैल्यूएशन प्रोजेक्ट। The Journal of the American Medical Association (JAMA). अगस्त 1998.

शराब के सेवन और मोतियाबिंद के जोखिम पर एक प्रत्याशित अध्ययन। American Journal of Preventive Medicine. मई/जून 1994.

द लेंस ओपेसिटीज़ केस-कंट्रोल स्टडी: मोतियाबिंद के जोखिम कारक. Archives of Ophthalmology. फ़रवरी 1991.

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें