होमअवस्थाएँअवस्थाएँ | In English

बिलनी (गुहेरी) से कैसे छुटकारा पाएं

बिलनी (गुहेरी) क्या होती है?

बिलनी (या गुहेरी), पलक में होने वाला एक संक्रमण है जिसके कारण पलक के किनारे के पास एक नर्म,  लाल उभार  उत्पन्न हो जाता है। यह संक्रमण तेल ग्रंथियों के बंद हो जाने या बैक्टीरिया के कारण होता है, और बिलनियां (गुहेरियां) बरौनी के आधार पर (जहां उसे बाहरी बिलनी या गुहेरी कहते हैं) या फिर पलक के अंदर की किसी ग्रंथि में (जहां उसे अंदरूनी बिलनी या गुहेरी कहते हैं) हो सकती हैं।  

आपको एक बार में आमतौर पर एक आंख में ही बिलनी (गुहेरी) होती है, पर वे दोनों आंखों में भी हो सकती हैं, ख़ासतौर पर तब जब आप अपनी पहली बिलनी (गुहेरी) का उपचार न करवाएं। बिलनियां (गुहेरियां) आमतौर पर एक बार होने वाली समस्या होती हैं, उनका उपचार करवा लेने पर वे दोबारा नहीं होतीं — पर कभी-कभी वे दोबारा भी हो सकती हैं। हो सकता है जिसे आप बिलनी (गुहेरी) समझ रहे हों वह कलेज़ियन (पलक की गिल्टी) हो, यह दरअसल एक ठीक हो चुकी अंदरूनी बिलनी (गुहेरी) होती है जो अब संक्रामक नहीं रही है। 

बिलनी (गुहेरी) से छुटकारा कैसे पाएं? (बिलनियों (गुहेरियों) के उपचार)

हालांकि पलक के किनारे के नज़दीक मौजूद अधिकांश लाल उभार हानिकारक नहीं होते और अक्सर वे सब-के-सब बिलनी (गुहेरी) भी नहीं होते हैं, और एक या दो सप्ताह में अपने-आप ठीक हो जाते हैं, पर बिलनी (गुहेरी) परेशानी की जड़ हो सकती है। भाग्य से, हमारे पास कुछ घरेलू नुस्खे हैं जो बिलनी (गुहेरी) से तेज़ी से छुटकारा पाने में — या फिर, बिलनी (गुहेरी) के साथ अक्सर होने वाली तकलीफ़ और सूजन को घटाने में तो आपकी मदद कर ही सकते हैं।

1.  अपनी पलकों को साफ करें

बिलनी (गुहेरी) होने पर पहला काम आपको यह करना चाहिए कि अपनी पलकों को साफ करें। आप टिअर-फ़्री बेबी शैंपू में पानी मिलाकर उसे रुई के फ़ाहे, साफ कपड़े, या मेकअप हटाने वाले पैड पर लेकर प्रयोग कर सकते हैं। फिर अपनी आंखों को गुनगुने पानी से धोएं और उन्हें धीरे-धीरे थपथपाकर सुखाएं। आप हल्के नमकीन पानी से भी अपनी पलकें साफ कर सकते हैं।

2. अपने हाथ धोएं

बिलनी (गुहेरी) को छूने से पहले और बाद में अपने हाथ धोएं, और अपने तौलिये या वॉशक्लॉथ दूसरों के साथ साझा नहीं करें।

3. पलक साफ करने के पैड का उपयोग करें

एक अन्य विकल्प है पलकों की सफाई करने वाले पैड जो पहले से नम होते हैं। इनके लिए आपको चिकित्सक के पर्चे की ज़रूरत नहीं होती और ये आपको दवा की अधिकांश दुकानों में मिल जाएंगे।

4. आंखों का मेकअप करना रोक दें 

जब आपको बिलनी (गुहेरी) हो तो आंखों का मेकअप रोक देने में समझदारी होती है क्योंकि उसके ढक जाने से उसके ठीक होने की प्रक्रिया धीमी पड़ सकती है। साथ ही, पुराना मेकअप या एप्लिकेटर फेंक दें जो संक्रमित हो सकते हैं। 

5. अपना चश्मा पहनें (कॉन्टैक्ट लेंस नहीं)

जब तक बिलनी (गुहेरी) ठीक न हो जाए तब तक कॉन्टैक्ट लेंसों की बजाय चश्मा पहनें।

6.  गुनगुनी पट्टियां रखें 

आप दिन में तीन से चार बार, 10 से 15 मिनट के लिए गर्म पट्टियां रखकर बिलनी (गुहेरी) के ठीक होने की गति बढ़ा सकते हैं।.

7. टीबैग या हल्का गरम वॉशक्लॉथ आजमाएं 

कुछ लोग बिलनियों (गुहेरियों) के उपचार के लिए टीबैग्स का उपयोग करते हैं, पर (गर्म नहीं बल्कि) गुनगुने पानी में डूबे साधारण और साफ वॉशक्लॉथ से भी काम हो जाता है। कपड़े को निचोड़ लें (ताकि पानी नहीं टपके) और इसे अपनी बंद आंखों के ऊपर रखें। यदि आप टीबैग आजमाना चाहते हैं तो उसे गर्म इस्तेमाल न करें बल्कि हल्का गरम होने तक इंतजार करें और फिर उसे 5 से 10 मिनटों के लिए अपनी पलक पर रख लें। यदि आपको एक से अधिक बिलनी (गुहेरी) ने परेशान कर रखा हो तो हर आंख के लिए अलग टीबैग प्रयोग करें

8. बिलनी (गुहेरी) को न फोड़ें 

बिलनी (गुहेरी) को इसलिए फोड़ा जाता है ताकि मुंहासे को फोड़ने की तरह बिलनी (गुहेरी) से भी द्रव तेज़ी से निकलकर बह जाए। पर नहीं, चाहे जो हो जाए, घबराएं नहीं और बिलनी (गुहेरी) को फोड़ने की कोशिश न करें! हल्की गरम पट्टी से मिलने वाली गर्माहट से अक्सर बिलनी (गुहेरी) खुल जाती है, उसके अंदर का द्रव बह जाता है और वह पलक को नुकसान पहुंचाए बिना अपने-आप ठीक हो जाती है; साथ ही, उसे फोड़ने से संक्रमण के फैलने की जो संभावना होती है उससे भी बचाव हो जाता है।

9. एंटीबायोटिक क्रीम का उपयोग करें 

हालांकि आप बिलनी (गुहेरी) को ठीक होने में मदद देने के लिए चिकित्सक के पर्चे के बिना मिलने वाली एंटीबायोटिक क्रीम्स का उपयोग कर सकते हैं, पर सुनिश्चित करें कि आप केवल उन्हीं क्रीम्स का उपयोग करें जिन्हें ख़ासतौर पर आंख में उपयोग के लिए बनाया गया है, और, त्वचा पर लगाए जाने वाले स्टेरॉइड्स से बचें। साथ ही यह भी जान लें कि एंटीबायोटिक आई ड्रॉप्स बिलनियों (गुहेरियों) से छुटकारा दिलाने में ज़्यादा मददगार नहीं पाए गए हैं। यदि कोई बिलनी (गुहेरी) इतनी हठी है कि उसके लिए एंटीबायोटिक दवाएं ज़रूरी हैं, तो बेहतर यही होगा कि आप अपने चिकित्सक को दिखाएं। 

10. मालिश करें 

साफ हाथों से, या हल्की गरम पट्टी या हल्के गरम वॉशक्लॉथ से, हल्के-हल्के मालिश करने से कभी-कभी बिलनी (गुहेरी) के दर्द से राहत पाने में मदद मिल सकती है। मालिश से बिलनी (गुहेरी) का द्रव बाहर निकालने में भी मदद मिल सकती है। हल्की मालिश ही करें और यदि दर्द महसूस हो तो रुक जाएं। 

बिलनी (गुहेरी) के दर्द से राहत कैसे पाएं?

  • दर्दनाशी दवाएं: चिकित्सक के पर्चे के बिना मिलने वाली दर्दनाशी दवाएं जैसे एसिटेमिनोफेन या पैरासिटामॉल और आइबुप्रोफ़ेन दर्द या तकलीफ़ में राहत दे सकती हैं, पर वे आपकी बिलनी (गुहेरी) को तेज़ी से ठीक करने के मामले में शायद ज़्यादा कुछ नहीं कर पाएंगी। 

  • घरेलू नुस्खे: बिलनी (गुहेरी) के दर्द से राहत पाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप उस पर हल्की गरम पट्टियां या फ़ेस क्लॉथ रखें और बिलनी (गुहेरी) को जल्द से जल्द ठीक कर दें।

बिलनियों (गुहेरियों) की रोकथाम कैसे करें?

आप बिलनियों (गुहेरियों) की रोकथाम में मदद के लिए कुछ चीज़ें कर सकते हैं।

  • हर रात अपना चेहरा साफ करें और अपना मेकअप हटा दें। 

  • हर दिन अपनी पलकों को पानी मिले बेबी शैंपू से धोएं।

  • किसी OTC (चिकित्सक के पर्चे के बिना मिलने वाले) आईलिड वॉश का उपयोग करें।

  • अपने कॉन्टैक्ट लेंस को छूने से पहले हमेशा अपने हाथ धोएं और सुनिश्चित करें कि आप उन्हें निर्माता के निर्देशों के अनुसार विसंक्रमित और साफ करें।

  • बैक्टीरिया मेकअप पर पनप सकते हैं इसलिए हर 2-3 माह पर अपना आंखों का मेकअप बदल दें। मेकअप किसी के भी साथ साझा कभी न करें।

  • यदि आंखों में खुजली हो रही हो तो उन्हें रगड़ें या मलें नहीं, ख़ासतौर पर यदि आपने अभी-अभी अपने हाथ न धोए हों।

  • ऐसे किसी भी व्यक्ति से तौलिया या मास्क साझा करने से बचें जिसे बिलनी (गुहेरी) है।

बिलनी (गुहेरी) कितने समय में ठीक होती है?

अधिकांश मामलों में घरेलू नुस्खों के साथ बिलनी (गुहेरी) 3 से 5 दिनों में ठीक हो जाती है। 2 से 3 दिन बाद सूजन घटनी शुरू हो जानी चाहिए। यदि आपको किसी अधिक गंभीर बिलनी (गुहेरी) के लिए अपने चिकित्सक को दिखाना पड़े या एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करना पड़े, तो भी इसे लगभग एक सप्ताह में ख़त्म हो जाना चाहिए।

यदि आपको बारंबार बिलनियां (गुहेरियां) हो रही हों, तो हो सकता है कि आपको ब्लेफराइटिस (पलकों में शोथ) की समस्या हो। पलकों की इस समस्या के त्वरित उपचार के कदम उठाने से भी बिलनियों (गुहेरियों) के बार-बार होने की रोकथाम करने में मदद मिलेगी।

बिलनी (गुहेरी) के लिए आंखों के चिकित्सक को कब दिखाएं

आपको अपने चिकित्सक को दिखाना चाहिए यदि:

  • आपकी बिलनी (गुहेरी) कुछ दिनों बाद भी ठीक होना शुरू न करे।

  • आपकी बिलनी (गुहेरी) और बदतर हो जाए।

  • आपकी मात्र पलक के बजाय पूरी आंख में तकलीफ़ हो रही हो।

  • वह आपकी दृष्टि को प्रभावित कर रही हो।

  • आपकी पलक सूज जाए या बहुत लाल हो जाए।

  • यदि आपकी आंख पूरी तरह खुल न पाए।

  • वह अंदरूनी हो और घरेलू नुस्खों या OTC (चिकित्सक के पर्चे के बिना मिलने वाले) समाधानों से मदद न मिल रही हो

  • यदि बिलनी (गुहेरी) बढ़ती जाए

बिलनी (गुहेरी) की सर्जरी 

कुछ मामलों में, बिलनियों (गुहेरियों) के लिए किसी ऑफ्थेल्मॉलजिस्ट द्वारा छोटी सी सर्जरी की ज़रूरत पड़ सकती है, जिसके बाद वे बिलनी (गुहेरी) की दवा या एंटीबायोटिक लिख देते हैं। यदि आपके चिकित्सक सर्जरी का सुझाव देते हैं, तो जान लें कि बिलनी (गुहेरी) को खोलना और खलाना एक काफ़ी साधारण सी कार्यविधि है।

पलक पर उभार. मेडलाइनप्लस (MedlinePlus), नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन। फ़रवरी 2021.

कलेज़िया (पलक की गिल्टी) और बिलनियां (गुहेरियां) क्या हैं? American Academy of Ophthalmology. नवंबर 2020.

ऑफ्थेल्मॉलजी, चतुर्थ संस्करण। एल्ज़ेवियर। 2013.

क्या बिलनी (गुहेरी) को फोड़ना उचित है? American Academy of Ophthalmology. मार्च 2014.

बिलनी (गुहेरी). मायो क्लिनिक। जुलाई 2020.

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें