होम अवस्थाएँ  |  In English

आँखों की एलर्जी का कारण और उपचार जानें

सिंहपर्णी जंगली फूल

आँखों की एलर्जी –- जिसमें आँखें लाल, खुजलीदार हो जाती हैं और उनसे पानी बहने लगता है, के पीछे वही कारक होते हैं जो मौसमी एलर्जी से पीड़ित लोगों में छींक और नाक बहने की वजह होते हैं –- बहुत आम है।

छींक आने, नाक जाम होने और नाक बहने जैसे लक्षणों के अलावा, एलर्जी से पीड़ित होने वाले इन ज्यादातर व्यक्तियों को आँखों में खुजली होने, उनसे पानी बहने, आँखों में लाली और पलकों की सूजन से भी जूझना पड़ता है।.

कुछ मामलों में, आँखों की एलर्जी के कारण कंजंक्टिवाइटिस और आँखों के अन्य संक्रमण भी हो सकते हैं।

यदि आपको लगता है कि आपको आँखों की एलर्जी है, तो यहाँ कुछ बातें दी गई हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए, जिनमें लाल, खुजलीदार, पानी से भरी आँखों से छुटकारा पाने के मददगार सुझाव भी शामिल हैं।

आँखों की एलर्जी किससे होती है

Expandable

लाल, खुजली, पानी वाली आँखें एलर्जी के विशिष्ट लक्षण और लक्षण हैं।

एलर्जेन आम तौर पर हानिरहित पदार्थ होते हैं जो एलर्जी प्रतिक्रिया के लिए प्रवृत्त लोगों में समस्याएँ उत्पन्न करते हैं। आँखों की एलर्जी उत्पन्न करने वाले सबसे आम एलर्जेन में पराग कण, फफूँद, धूल और पालतू पशुओं से झड़ने वाली त्वचा शामिल हैं।

आँखों की एलर्जी कुछ कॉस्मेटिक उत्पादों और आँख के ड्रॉप्स से भी हो सकती है जिनमें परिरक्षकों से युक्त कृत्रिम आँसू भी शामिल हैं जिनका उपयोग आँखों में सूखापन का इलाज करने के लिए किया जाता है।

आहार संबंधित एलर्जी और मधुमक्खी या अन्य कीड़ों के काटने से होने वाली एलर्जी आम तौर पर आँखों को उतना प्रभावित नहीं करती है जितना वायुवाहित एलर्जेन से होने वाली एलर्जी करती हैं।

आँख की एलर्जी से आराम

अपनी आँखों की एलर्जी और खुजलीदार, पानी से भरी आँखों से आराम पाने के लिए, आप कुछ उपाय कर सकते हैं:

एलर्जेन (एलर्जी पैदा करने वाल तत्व) से बचें

आपकी आँखों की एलर्जी के लक्षणों से बचने का सर्वश्रेष्ठ उपाय यह है कि आप हर हालत में उन आम एलर्जेन के संपर्क में आने से बचें जिनके बारे में आपको पता है कि आप उनके प्रति संवेदनशील हैं।

उदाहरण के लिए, ऐसे दिनों में जब पराग कणों की मात्रा अधिक होती है, जितना संभव हो सके घर के भीतर रहें, और यदि आपके पास एयर कंडीशनर है, तो हवा फ़िल्टर करने के लिए इसे चलाएँ। उच्च गुणवत्ता के फ़र्नेस फ़िल्टरों का उपयोग करें जो आम एलर्जेन को पकड़ सकते हैं और फ़िल्टरों को जल्दी-जल्दी बदलें।

अगर आपको एलर्जी के मौसम के दौरान बाहर जाना ही पड़े, तो आँखों को पूरी तरह ढकने वाला धूप का चश्मा पहनें ताकि आपकी आँखें पराग कणों, रैगवीड, आदि से सुरक्षित रहें और गाड़ी खिड़कियाँ बंद करके चलाएँ।

अपने कॉन्टैक्ट लेंस निकाल दें

क्योंकि कॉन्टैक्ट लेंस की सतह वायुवाहित एलर्जेन को आकर्षित और एकत्रित कर सकती है, एलर्जी के मौसम के दौरान कॉन्टैक्ट लेंस की जगह चश्मा पहनने पर विचार करें। या फिर दैनिक डिस्पोज़ेबल कॉन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल करने पर विचार करें जिन्हें आप एक बार उपयोग करके फेंक सकते हैं जिससे आपके लेंसों पर एलर्जेन और अन्य कचरा जमा नहीं हो पाता है।

अगर एलर्जी आपकी आँखों को परेशान कर रही हैं, तो अक्सर सर्वश्रेष्ठ विकल्प यह है कि कम से कम अपने सभी एलर्जी लक्षणों के समाप्त होने तक कॉन्टैक्ट लेंस पहनना पूरी तरह बंद कर दें। साथ ही, फ़ोटोक्रोमैटिक लेंस वाला चश्मा पहनने से प्रकाश के प्रति एलर्जी संवेदनशीलता कम हो सकती है और आपकी आँखों को वायुवाहित एलर्जेन से बचाने में मदद मिल सकती है।

आई ड्रॉप का इस्तेमाल करें

चूँकि आँखों की एलर्जी इतनी आम होती है, इसलिए बिना प्रिसक्रिप्शन के मिलने वाले ऐसे कई आई ड्रॉप्स उपलब्ध हैं, जिन्हें एलर्जी की वजह से आँखों को होने वाली खुजली, लालपन और पानी से भरी आँखों में आराम देने के लिए बनाया गया है।

यदि आपकी आँखों की एलर्जी के लक्षण अपेक्षाकृत उतने गंभीर नहीं हैं, तो एलर्जी के लिए बिना प्रिसक्रिप्शन वाले आई ड्रॉप आपके लिए बहुत अच्छे परिणाम दे सकते हैं और प्रिसक्रिप्शन वाले आई ड्रॉप और अन्य दवाओं की तुलना में कम महंगे हो सकते हैं। अपने ऑप्टिशियन से पूछें इस्तेमाल के लिए एक ब्रांड का नाम सुझाने को कहें।

अपने डॉक्टर से प्रिसक्रिप्शन दवाओं के बारे में पूछताछ करें

यदि आपकी एलर्जी के लक्षण अपेक्षाकृत गंभीर हैं या सीधे दुकान से खरीदे जा सकने वाले आई-ड्रॉप आराम पहुँचाने में अक्षम हैं, तब आपको अपने डॉक्टर से एक अधिक असरदार दवाई लिखवानी पड़ सकती है।

आँखॊं की एलर्जी से आराम पाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले प्रिसक्रिप्शन आई ड्रॉप और खाई जाने वाली दवाओं में शामिल हैं:

एंटीहिस्टामाइन

एलर्जी के प्रति शरीर की प्राकृतिक प्रक्रिया का एक भाग हिस्टामाइन का स्रवण होता है, जो एक ऐसा पदार्थ होता है जो रक्त वाहिकाओं को फैलाता है और रक्त वाहिकाओं की भित्तियों को असामान्य रूप से पारगम्य बनाता है।

हिस्टामाइन से उत्पन्न होने वाले लक्षणों में नाक बहना और खुजलीदार, पानी से भरी आँखें शामिल हैं। एंटीहिस्टामाइन शरीर की उन कोशिकाओं से हिस्टामाइन के जुड़ाव को अवरुद्ध कर एलर्जी की प्रतिक्रिया को घटाता है जो एलर्जी की प्रतिक्रिया उत्पन्न करती हैं।

डिकॉन्जेस्टेंट

डिकॉन्जेस्टेंट फूले हुए नासिका मार्गों को सिकोड़ने में सहायता करके साँस लेना आसान बनाते हैं। वे आँख के श्वेतपटल (स्क्लेरा) की रक्त वाहिकाओं का आकार भी घटाते हैं और इस तरह आँखों में लालीसे आराम देते हैं। संयोजन वाली दवाएँ भी उपलब्ध हैं जिनमें एंटीहिस्टामाइन और डिकॉन्जेस्टेंट दोनों होते हैं।

मास्ट सेल स्टेबिलाइज़र

ये दवाइयाँ पूरे शरीर में ऊतकों की हिस्टामाइन युक्त कोशिकाओं में बदलाव करती हैं, जिनमें आँख का कंजक्टिवा और पलकें शामिल होती हैं, ये बदलाव उन्हें हिस्टामाइन तथा एलर्जी की प्रतिक्रियाओं के संबंधित वाहकों को स्रावित करने से रोकते हैं।

चूँकि मास्ट सेल स्टेबिलाइज़र को पूरी तरह असर करने में कुछ सप्ताह लग सकते हैं, इसलिए इन दवाइयों का सर्वश्रेष्ठ उपयोग एलर्जी का मौसम शुरू होने से पहले, भविष्य में एलर्जी की प्रतिक्रियाओं की गंभीरता की रोकथाम करने या घटाने के लिए होता है (न कि पहले से मौजूद एलर्जी के गंभीर लक्षणों के उपचार के लिए)।

स्टेरॉयड मुक्त, एंटी-इनफ़्लैमेटरी दवाएँ

इन्हें एनएसएआईडी भी कहा जाता है, ये आई ड्रॉप सूजन, जलन और मौसमी एलर्जी वाले कंजंक्टिवाइटिस (जिसे परागज ज्वर भी कहते हैं) से जुड़े अन्य लक्षणों को घटाने के लिए लिखे जा सकते हैं।

स्टेरॉयड

कभी-कभार आँखों की एलर्जी के गंभीर लक्षणों से आराम देने के लिए कॉर्टीकोस्टेरॉयड आई ड्रॉप लिखे जाते हैं। लेकिन इन दवाओं के दीर्घकालिक उपयोग से आँखों के दाब के बढ़ने, ग्लूकोमा और मोतियाबिंदजैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं, इसलिए आम तौर पर इन्हें केवल अल्पकालिक उपयोग के लिए लिखा जाता है।

इम्युनोथेरेपी के बारे में पड़ताल करें

यदि इनमें से कोई भी उपाय असरदार नहीं हो, तो अपने चिकित्सक से इम्युनोथेरेपी के बारे में पूछें। यह एक उपचार है जिसमें एक एलर्जी विशेषज्ञ आपके शरीर में अल्प मात्रा में एलर्जेन प्रविष्ट कराता है ताकि आप धीरे-धीरे प्रतिरक्षा विकसित कर सकें और इस तरह एलर्जी की प्रतिक्रियाओं को घटाता है।


आँखों की एलर्जी का स्व-परीक्षण

इस क्विज़ को पूरा करके जानें कि क्या आपको आँखों की एलर्जी हैं। सदैव अपने घर के पास एक ऑप्टिशियन से मिलें अगर आपको लगता है कि आपको आँखों की कोई समस्या है जिसकी देखभाल की ज़रूरत है।

  • क्या आपके परिवार में एलर्जी है?

  • क्या आपकी आँखों में अक्सर खुजली होती है, विशेष रूप से वसंत के पराग कणों वाले मौसम में?

  • क्या आपको कभी कंजंक्टिवाइटिस हुआ है?

  • क्या आपको विशिष्ट जानवरों, जैसे बिल्ली आदि से एलर्जी है?

  • क्या आपको छींकें, खाँसी और नाक जाम होना नियंत्रित करने के लिए अक्सर एंटीहिस्टामाइन और/या डिकॉन्जेस्टेंट लेने की ज़रूरत पड़ती है?

  • जब हवा में पराग कण होते हैं, तब क्या घर में एयर कंडीशनर के नीचे होने पर आपकी आँखें कम लाल और खुजलीदार होती हैं?

  • क्या कुछ विशिष्ट कॉस्मेटिक उत्पादों या लोशनों को लगाने पर, या कुछ विशिष्ट तीव्र गंध वाले इत्रों के निकट होने पर आपकी आँखों से आँसू आने लगते हैं?

यदि आपने इन प्रश्नों में से अधिकांश का उत्तर "हाँ" में दिया है, तो आपको आँखों की एलर्जी हो सकती है। सबसे सही कार्रवाई निर्धारित करने के लिए किसी ऑप्टोमीट्रिस्ट या ऑप्थैलमोलॉजिस्ट से मुलाक़ात तय करें।


आँखों की एलर्जी और कॉन्टैक्ट लेंस

एलर्जी के मौसम के दौरान कॉन्टैक्ट लेंस की असहजता एक आम शिकायत है, यहाँ तक कि कॉन्टैक्ट लेंस पहनने वाले यह भी पूछने लगते हैं कि क्या उन्हें कॉन्टैक्ट लेंस से एलर्जी होने लगी है।

कॉन्टैक्ट लेंस के प्रति एलर्जी होने का मुद्दा समय-समय पर तब भी उठता रहता है जब कोई व्यक्ति सफलतापूर्वक मानक सॉफ़्ट (हाइड्रोजेल) कॉन्टैक्ट लेंस पहनने के बाद सिलिकॉन हाइड्रोजेल कॉन्टैक्ट लेंस पहनना शुरू करता है और एलर्जी जैसे लक्षणों का अनुभव करता है।

अध्ययनों में सामने आया है कि कॉन्टैक्ट लेंस से संबंधित आँखों की एलर्जी का दोषी कॉन्टैक्ट लेंस के प्रति एलर्जी की प्रतिक्रिया नहीं है, बल्कि वे पदार्थ हैं जो लेंस की सतह पर जमा हो जाते हैं।

जब नियमित सॉफ़्ट कॉन्टैक्ट लेंस को बदलकर सिलिकॉन हाइड्रोजेल लेंस अपनाए जाते हैं, तब लेंस के पदार्थ की सतह और रासायनिक गुण पिछले लेंस के पदार्थ की तुलना में अधिक आसानी से लेंस पर निक्षेपों को आकर्षित कर सकते हैं, जिसकी वजह से असहजता होती है।

बहुत से ऑप्टिशियन मानते हैं कि जो लोग एलर्जी के प्रति अत्यधिक संवेदनशील हैं उनके लिए सॉफ़्ट कॉन्टैक्ट लेंस का सर्वश्रेष्ठ प्रकार दैनिक डिस्पोज़ेबल कॉन्टैक्ट लेंस हैं, जिन्हें एक बार उपयोग के बाद फेंक दिया जाता है, जिससे लेंस की सतह पर एलर्जेन और दूसरा कचरा कम इकट्ठा होता है।

ये लेंस बनाने के लिए अक्सर सिलिकॉन हाइड्रोजेल को वरीयता दी जाती है क्योंकि यह पारंपरिक सॉफ़्ट कॉन्टैक्ट लेंस की सामग्री की तुलना में लेंस से काफी अधिक मात्रा में ऑक्सीजन को गुजरने देता है।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें