होम चश्माचश्मा लेंसएंटी-रिफ्लेक्टिव और एंटी-ग्लेयर लेंस कोटिंग | In English

एंटी-रिफ्लेक्टिव और एंटी-ग्लेयर लेंस कोटिंग

विरोधी चिंतनशील लेंस कोटिंग के साथ और बिना चश्मा

एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग (जिसे "एआर कोटिंग" या "एंटी-ग्लेयर कोटिंग" भी कहा जाता है) दृष्टि में सुधार करती है, आँख पर जोर को कम करती है और आपके चश्मे को अधिक आकर्षक बनाती है।

ये फायदे एआर कोटिंग की आपके चश्मे के लेंस के सामने और पीछे की सतहों से प्रतिबिंबों को लगभग समाप्त करने की क्षमता के कारण होते हैं। प्रतिबिंबों के दूर हो जाने पर, नज़र संबंधी तीक्ष्णता को कम भटकावों (विशेष रूप से रात में) के साथ और सुधारने के लिए आपके लेंस से ज्यादा प्रकाश गुजरता है, और लेंस लगभग अदृश्य दिखते हैं –- जो आपकी आँखों पर अधिक ध्यान आकर्षित करके आपके रूपरंग को बढ़ाते हैं और आपको दूसरों के साथ बेहतर "नेत्र संपर्क" बनाने में मदद करते हैं।

एआर कोटिंग विशेष रूप से फायदेमंद है जब हाई-इंडेक्स लेंस पर इस्तेमाल किया जाए, जो सामान्य प्लास्टिक लेंस की तुलना में अधिक प्रकाश को परावर्तित करते हैं। आमतौर पर, लेंस सामग्री के रिफ्रैक्शन का इंडेक्स जितना अधिक होगा, लेंस की सतह से उतना अधिक प्रकाश परावर्तित होगा।

उदाहरण के लिए, सामान्य प्लास्टिक लेंस, लेंस पर पड़ने वाले प्रकाश के लगभग 8 प्रतिशत को परावर्तित करते हैं, इसलिए उपलब्ध प्रकाश का केवल 92 प्रतिशत दृष्टि के लिए आँख में प्रवेश करता है। हाई इंडेक्स प्लास्टिक लेंस सामान्य प्लास्टिक लेंस की तुलना में 50 प्रतिशत अधिक प्रकाश को परावर्तित कर सकते हैं (उपलब्ध प्रकाश का लगभग 12 प्रतिशत), इसलिए दृष्टि के लिए आँख को कम प्रकाश उपलब्ध होता है।

यह कम रोशनी की स्थिति में विशेष रूप से परेशानी की बात हो सकती है, जैसे कि रात में ड्राइविंग करते समय।

आज की आधुनिक एंटी-रिफ्लेक्टव कोटिंग चश्मे के लेंसों से प्रकाश के प्रतिबिंब को लगभग खत्म कर सकती हैं, जिससे उपलब्ध प्रकाश का 99.5 प्रतिशत लेंस से होकर गुजर जाता है और अच्छी दृष्टि के लिए आँख में प्रवेश कर पाता है।

प्रतिबिंबों को हटा कर, एआर कोटिंग आपके चश्मे के लेंस को लगभग अदृश्य कर देती है जिससे लोग आपकी आँखों और चेहरे के भावों और अधिक स्पष्ट रूप से देख सकते हैं।

एंटी-रिफ्लेक्टिव चश्मा अधिक आकर्षक भी होता है, जिससे आप सभी प्रकाश स्थितियों में सर्वश्रेष्ठ दिख सकते हैं।

एक ऑप्टिशियन खोजें: आँख की जांच कराने या नए चश्मे की आवश्यकता है? अपने आसपास एक ऑप्टिशियन या ऑप्टिकल शॉप खोजें.

एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग वाले लेंस के दृश्य लाभों में रात में ड्राइविंग करते समय कम चमक के साथ तेज दृष्टि और लंबे समय तक कंप्यूटर उपयोग के दौरान अधिक आराम मिलना शामिल हैं (बिना एआर कोटिंग वाले चश्मे के लेंस पहनने की तुलना में)।

जब फ़ोटोक्रोमिक लेंस पर एआर कोटिंग लगाई जाती है, तो वह सभी प्रकाश स्थितियों में सूर्य-प्रतिक्रियाशील प्रदर्शन को कम किए बिना इन प्रीमियम लेंसों की स्पष्टता और आराम को बढ़ाती है।

एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग धूप के चश्मों के लिए भी एक अच्छा विचार है, क्योंकि जब सूर्य आपके पीछे होता है तो यह रंगीन लेंसों की पिछली सतह से आपकी आँखों में परावर्तित होने वाली धूप से चमक को हटाती है। (आमतौर पर, एआर कोटिंग धूप के चश्मों के लेंसों की केवल पिछली सतह पर लगाई जाती है क्योंकि गहरे रंगे के लेंस के सामने की सतह से प्रतिबिंबों को हटाने से कोई कॉस्मेटिक या दृष्टि संबंधी लाभ नहीं होते हैं।)

अधिकांश प्रीमियम एआर लेंसों की सतह पर ऐसा उपचार भी किया जाता है जो एंटी-रिफ्लेक्टिव परतों को सील करता है और लेंस को साफ करना आसान बनाता है। "हाइड्रोफोबिक" सतह उपचार पानी को हटाते है, जिससे पानी के धब्बे न बनने पाएं।

कुछ एंटी-रिफ्लेक्टिव लेंसों की सतह पर ऐसे उपचार किए जाते हैं जो हाइड्रोफोबिक और "ओलियोफोबिक" (जिसे लिपोफोबिक भी कहा जाता है) दोनों होते हैं, जिसका अर्थ है कि वे पानी और तेल दोनों को हटाते हैं। इन संयोजन उपचारों में आमतौर पर फ्लोरिनेटेड सामग्रियां होती हैं जो लेंस को वे गुण देती है जो नॉनस्टिक कुकवेयर के समान होते हैं।

एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग कैसे लगाई जाती है

चश्मे के लेंसों पर एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग लगाना एक अत्यंत तकनीकी प्रक्रिया है जिसमें वैक्यूम जमाव प्रौद्योगिकी शामिल होती है।

एआर कोटिंग प्रक्रिया में पहला कदम लेंस को सावधानीपूर्वक साफ करना तथा दृश्यमान और सतह के सूक्ष्म दोषों के लिए उनका निरीक्षण करना है। कोटिंग प्रक्रिया के दौरान एक छोटा सा धब्बा, रुई का टुकड़ा या मामूली सी खरोंच भी दोषपूर्ण एआर कोटिंग पैदा कर सकती है।

आमतौर पर, उत्पादन लाइन में सतह की गंदगियों के किसी भी निशान को हटाने के लिए अल्ट्रासोनिक सफाई सहित कई बार धुलाई और खंगालना शामिल होते हैं। इसके बाद लेंस की सतह से अवांछित नमी और गैसों को हटाने के लिए लेंसों को हवा में सुखाया और विशेष ओवन में गर्म किया जाता है।

इसके बाद लेंसों को स्प्रिंग-लगे मुहानों वाले धातु के विशेष रैकों मे लोड किया जाता है ताकि लेंस सुरक्षित रूप से पकड़ बनाए रखें, लेकिन लगभग लेंस की सभी सतहों पर कोटिंग लग जाए। इसके बाद रैकों को कोटिंग चैंबर में लोड किया जाता है। चैंबर का दरवाजा सील कर दिया जाता है, और वैक्यूम बनाने के लिए हवा को चैंबर से बाहर निकाल दिया जाता है।

जब लेंस रैक कोटिंग चैंबर में घूम रहे होते हैं, तब मशीन के भीतर एक बिजली का स्रोत एक छोटे से क्रूसिबल पर इलेक्ट्रॉनों की एक किरण को केंद्रित करता है जिसमें अलग कम्पार्टमेन्टों में धातु के आक्साइड की एक श्रृंखला शामिल होती है।

जब कोटिंग सामग्री से इलेक्ट्रॉन टकराते है, तो वे कोटिंग चैंबर के भीतर वाष्पित हो जाते हैं और लेंस की सतहों पर चिपक जाते हैं - और लेंस पर एक समान, सूक्ष्म रूप से पतली ऑप्टिकल परत बन जाती है।

कुछ चश्मों के लेंसों की दोनों सतहों पर फैक्टरी में ही एआर कोटिंग लगाई हुई होती है। अन्य लेंस, विशेष रूप से प्रोग्रेसिव लेंस और अन्य मल्टीफोकल लेंस (बाइफोकल्स और ट्राइफोकल्स), में किसी ऑप्टिकल लैब द्वारा आपके चश्मे के नुस्खे के हिसाब से लेंसों पर बाद में कोटिंग लगाई जाती है।

ऐसी एआर कोटिंग चुनें जो आपके लिए सबसे अच्छी है

प्रत्येक एआर कोटिंग निर्माता का अपना मालिकाना फार्मूला होता है, लेकिन आमतौर पर सभी एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंगों में उच्च और निम्न इंडेक्स के धातु ऑक्साइड की कई सूक्ष्म परतें होती हैं।

क्योंकि प्रत्येक परत प्रकाश की विभिन्न तरंगदैर्ध्यों को प्रभावित करती है, इसलिए जितनी अधिक परतें होती हैं, उतने अधिक प्रतिबिंब निष्प्रभावी होते हैं। कुछ उच्च गुणवत्ता वाली एआर कोटिंगों में सात परतें होती हैं।

आपकी जीवन शैली के आधार पर, आपका ऑप्टिशियन एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग के किसी विशिष्ट ब्रांड का सुझाव दे सकता है। यदि आप कंप्यूटर पर काम करने में बहुत समय बिताते हैं, तो आपको ऐसी एआर कोटिंग से लाभ हो सकता है जो नीले प्रकाश को फ़िल्टर करती है.

एआर कोटिंग फार्मूले के आधार पर, एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग वाले अधिकांश लेंसों में एक बहुत ही हल्का सा अवशिष्ट रंग होता है, आमतौर पर हरा या नीला, जो उस कोटिंग के ब्रांड की विशेषता होती है।

एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंगें अविश्वसनीय रूप से पतली होती हैं। पूरे मल्टीलेयर एआर कोटिंग की मात्रा आमतौर पर केवल 0.2 से 0.3 माइक्रॉन मोटी, या एक मानक चश्मे के लेंस की मोटाई की लगभग 0.02 प्रतिशत (1 प्रतिशत का दो सैकड़ा भाग) होती है।

यह भी देखें: अपने लेंसों को खरोंचे बिना अपने चश्मे को कैसे साफ करें

एंटी-रिफ्लेक्टिव लेंसों वाले चश्मों की देखभाल

एआर-कोटेड लेंसों की सफाई करते समय, केवल उन उत्पादों का उपयोग करें जिनकी आपके ऑप्टिशियन ने सिफारिश की है। कठोर रसायनों वाले लेंस क्लीनर एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

इसके अलावा, एआर-कोटेड लेंसों को पहले गीला किए बिना साफ करने का प्रयास न करें। सूखे लेंस पर सूखे कपड़े का इस्तेमाल करने से लेंस पर खरोंच पैदा हो सकती है। और क्योंकि एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग प्रकाश के प्रतिबिंबों को समाप्त कर देती हैं जो लेंस की सतह के दोषों को ढंक सकते हैं, महीन खरोंचें बिना कोटिंग वाले लेंसों की तुलना में एआर-कोटेड लेंसों में अक्सर अधिक दिखाई देती हैं।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें