होमआँखों की देखभाल आंख की जांचकलर ब्लाइंडनेस जांचें और कलर ब्लाइंडनेस के प्रकार | In English

कलर ब्लाइंडनेस जांचें और कलर ब्लाइंडनेस के प्रकार

रंग अंधा आंख परीक्षा

एक कलर ब्लाइंड जांच यह परीक्षण करती है कि आप रंगों को सटीकता के साथ देख सकते हैं या नहीं।  यदि आप जांच में पास नहीं होते हैं, तो आपकी रंग देखने की क्षमता में कमी है — जिसे कलर ब्लाइंडनेस भी कहा जाता है.

कलर ब्लाइंड जांचें उन बच्चों की पहचान कर सकती हैं जिन्हें रंगों को पहचानने में परेशानी होती है। स्कूल और घर की कुछ गतिविधियों में यह एक कारक हो सकता है।

ये जांचें उन लोगों की पहचान भी कर सकती हैं जो सटीक रंग संबंधी दृष्टि की आवश्यकता वाले कामों में संघर्ष कर रहे होते हैं।  

कलर ब्लाइंड जांचें दो प्रकार की होती हैं:

  1. स्क्रीनिंग जांचें जो एक रंग संबंधी दृष्टि समस्या की उपस्थिति का पता लगा सकती हैं।

  2. अधिक गहराई से की गई जांचें जो एक रंग संबंधी दृष्टि में कमी का पता लगा सकती हैं तथा माप सकती हैं कि ये कितने गंभीर हैं।

कलर ब्लाइंड स्क्रीनिंग जांचें

कलर ब्लाइंडनेस की एक अत्यधिक लोकप्रिय जांच इशिहारा कलर विजन जांच है।

एक जापानी नेत्र रोग विशेषज्ञ, शिनोबु इशिहारा ने, 100 से अधिक वर्ष पहले यह जांच विकसित की थी। यह लाल-हरे रंग के अंधेपन (सबसे आम रंग दृष्टि संबंधी कमी) का पता लगा सकती है।

नेत्र रोगविज्ञानी इशिहारा प्लेटस के साथ मरीज़ों को रंग दृष्टि कि कमी को पहचानने के लिए जांचना करते हैं | लाल-हरा रंग कि कमी होने वाले में इस उदारण में लाल कि गिंगति दिखाई नहीं देगा |

इशिहारा जांच में अनेक गोलाकार चित्र (या "प्लेट") होते हैं। प्रत्येक चित्र में विभिन्न रंग, चमक और आकार के अनेक बिंदु होते हैं।

एक व्यक्ति जिसकी सामान्य रंग संबंधी दृष्टि है वह बिंदुओं के व्यूह के भीतर "छिपी" हुई एक प्रकट संख्या का पता लगाने में सक्षम होगा।

परन्तु लाल-हरे रंग के अंधेपन वाला व्यक्ति संख्या नहीं देख पाएगा। इसके बदले, वे देखेंगे:

  • बिंदुओं का एक यादृच्छिक पैटर्न, या

  • सामान्य रंग संबंधी दृष्टि वाले व्यक्ति द्वारा देखी गई संख्या से भिन्न कोई संख्या।

पूर्ण इशिहारा कलर ब्लाइंड जांच में 38 प्लेटें होती हैं। कलर ब्लाइंडनेस के लिए स्क्रीनिंग करने वाली नेत्र की जांच के समय (कम प्लेटों के साथ) जांच के एक छोटे प्रारूप का उपयोग किया जा सकता है।

एक सामान्य कमरे की प्रकाश व्यवस्था के तहत स्क्रीनिंग होती है। यदि आपको प्रिस्क्रिप्शन चश्मे लगते हैं, तो आप उन्हें इस जांच के दौरान पहनेंगे।

यदि आप इशिहारा कलर विजन जांच में असफल हो जाते हैं, तो आपका नेत्र चिकित्सक आपसे इस बारे में बात करेगा कि आपके लिए इस परिणाम का क्या अर्थ है।

अधिक गहराई से की जाने वाली कलर ब्लाइंड जांचें

एक स्क्रीनिंग जांच कलर ब्लाइंडनेस का पता लगाने में सक्षम हो सकता है, परन्तु स्थिति कितनी गंभीर है यह मापने के लिए अधिक विस्तृत कलर ब्लाइंड जांच की आवश्यकता होती है।

इस तरह की सबसे लोकप्रिय जांच Farnsworth-Munsell 100 Hue Test है।

एक फार्न्सवर्थ मुनसेल १०० ह्यू टेस्ट (Farnsworth Munsell 100 Hue test) रंग दृष्टि कमी को पहचान कर परिमाण निर्धारित कर्ता है । (छवि: मैक्यूलर पिगमेंट रिसर्च ग्रुप, वाटरफोर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी)

इस जांच में चार ट्रे होती हैं जिनमें अलग-अलग रंग के कई छोटे डिस्क होते हैं। प्रत्येक ट्रे में एक छोर पर रंगीन रेफ्रेंस डिस्क होती है।

रंग परिवर्तन का निरंतर क्रम बनाने के लिए आपको प्रत्येक ट्रे में डिस्क को क्रम से लगाना चाहिए।

यह जांच कमरे की रोशनी में होनी चाहिए जो प्राकृतिक दिन के उजाले का अनुकरण करती है।

प्रत्येक रंगीन डिस्क के तल पर एक संख्या होती है जो परीक्षक को एक कुंजी के विरुद्ध परिणामों की तुलना करने में सक्षम बनाती है। 

यह तुलना कलर ब्लाइंडनेस के प्रकार और गंभीरता को निर्धारित करती है।

Farnsworth-Munsell 100 Hue Test का एक छोटा प्रारूप — जिसे D15 टेस्ट कहा जाता है — में 15 रंगीन डिस्क होते हैं। इशिहारा टेस्ट की तरह D15 टेस्ट केवल कलर ब्लाइंडनेस स्क्रीनिंग के लिए ही है।

कलर ब्लाइंड जांच किसे करानी चाहिए?

कलर ब्लाइंड जांच किसी ऐसे पेशे पर विचार करने वाले व्यक्ति को करानी चाहिए जिसमें सटीक रंग धारणा आवश्यक हो। उदाहरणों में इलेक्ट्रीशियन, वाणिज्यिक कलाकार, डिजाइनर, तकनीशियन और कुछ विनिर्माण और विपणन कर्मी शामिल हैं।

किसी व्यक्ति की नौकरी के प्रदर्शन पर कलर ब्लाइंडनेस का जो प्रभाव होता है वह पद की रंग-संबंधी आवश्यकताओं और उस व्यक्ति की रंग संबंधी कमी की गंभीरता पर काफी निर्भर करता है।

कई मामलों में, कलर ब्लाइंडनेस से विकलांग होने के बारे में आशंकाएं अनुचित हैं। क्योंकि यह स्थिति जन्म के समय मौजूद होती है, ज्यादातर कलरब्लाइंड लोग अपनी रंग संबंधी दृष्टि की कमी से अनजान होते हैं और यह नहीं जान पाते हैं कि यह उनके दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण रूप से हस्तक्षेप करती है।

हालांकि कलर ब्लाइंडनेस का कोई उपचार नहीं है, कुछ मामलों में विशेष रूप से रंगे हुए कॉन्टैक्ट लेंस कुछ रंगों के बीच अंतरों को समझने की एक कलर ब्लाइंड व्यक्ति की क्षमता में सुधार कर सकते हैं।

ऑनलाइन कलर ब्लाइंड जांचें

कई कलर ब्लाइंड जांचें ऑनलाइन उपलब्ध हैं। इनमें से अधिकांश जांचें इशिहारा स्क्रीनिंग जांच के प्रारूप या रूपांतर हैं।

ध्यान रखें कि आपके डिसप्ले की रंग सटीकता के आधार पर ये ऑनलाइन प्रारूप कम सटीक हो सकते हैं।

सबसे सटीक रंग दृष्टि परीक्षण के लिए अपने पेशेवर नेत्र चिकित्सक से मिलें।

कलर ब्लाइंड जांच किसे करानी चाहिए?

हर व्यक्ति को अपने जीवनकाल में कम-से-कम एक बार कलर ब्लाइंड जांच करवानी चाहिए, विशेषकर यदि उनकी नौकरी इस पर निर्भर करती है। 

कुछ तकनीकी और विनिर्माण पदों में रंगों की उत्कृष्ट धारणा आवश्यक है। यह किसी ऐसे व्यक्ति के लिए और भी महत्त्वपूर्ण हो सकता है जो ऐसे पेशे में हो जिसमें परिपूर्ण रंग दृष्टि की आवश्यकता हो। उदाहरणों में शामिल हैं:

  • व्यावसायिक कलाकार

  • विपणन पेशेवर

  • डिजाइनर

  • बिजली मिस्त्री

हालांकि इसका कोई उपचार नहीं है, परन्तु कलर ब्लाइंडनेस वाले लोग पूर्ण और संतोषजनक जीवन जीते हैं। विशेष रूप से रंगे कलर ब्लाइंड चश्मे कुछ लोगों की रंगों को अधिक सटीकता से देखने में सहायता कर सकते हैं।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें