ऑखों की जाँच और देखभाल का क्या महत्व है

आंखों की जांच करवाती महिला

आँखों की प्रति वर्ष जाँच कराने का महत्व केवल यह सुनिश्चित करने से कहीं अधिक है कि आपकी दृष्टि धुंधली तो नहीं हो रही है।

यहाँ पर पाँच कारण बताए गए हैं कि आँखों की प्रति वर्ष जाँच कराना क्यों महत्वपूर्ण है, और आपको अपनी स्वास्थ्य और सेहत की रक्षा के लिए आँखों की जाँच क्यों करवानी चाहिए।

1. आँखों की जाँचें बच्चों की स्कूल में सफलता अर्जित करने में मदद करती हैं।

क्या आपको पता है कि बच्चों से क्लासरूम के भीतर और क्लासरूम से बाहर जो कुछ सीखने की अपेक्षा की जाती है, उसमें से 80 प्रतिशत के लिए अच्छी दृष्टि का होना आवश्यक है? यह सत्य है –- और अब यह जरूरी है कि इस आँकड़े को, जो लंबे समय से अस्तित्व में है, बढ़ाया जाए, जिसकी वजह है बच्चों द्वारा स्क्रीन पर बिताए जाने वाले समय की लगातार बढ़ती मात्रा।

आँखों की सालाना जाँच यह सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका है कि क्लासरूम में सफल रहने के लिए आपके बच्चे को स्पष्ट और आराम से दिखाई दे रहा है। साथ ही, इस बात कि पुष्टि करने का भी यह एकमात्र तरीका है कि बच्चों को खेलकूद और अन्य गतिविधियों के लिए सर्वश्रेष्ठ ढंग से दिखाई दे रहा है।

2. मायोपिया विकराल रूप लेता जा रहा है।

जिन बच्चों में निकट-दृष्टि दोष (मायोपिया) के मामलों में अभूतपूर्व ढंग से वृद्धि हो रही है। और बहुत छोटी उम्र में निकट-दृष्टि दोष से पीड़ित होने वाले बच्चों की संख्या बढ़ रही है।

यह एक बड़ी चिंता का विषय क्यों है?

जिन बच्चों में बहुत कम उम्र में निकट-दृष्टि दोष विकसित हो जाता है, उनमें यह चरणवार ढंग से गंभीर होता जाता है जो पूरे बचपन के दौरान जारी रहता है, और इसकी वजह से आगामी जीवन में उनमें दृष्टि के लिए अत्यधिक गंभीर और खतरनाक आँखों की समस्याएँ, जैसे मोतियाबिंद, ग्लूकोमा और रेटिनल डिटैचमेंट हो सकते हैं।.

आँखों की प्रति वर्ष नियमित जाँच करवाना आपके बच्चे के मायोपिया के जोखिमका मूल्यांकन करने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है। शुरुआत में ही पहचान हो जाने पर, मायोपिया के नियंत्रण हेतु कदम उठाए जा सकते हैं, जिससे मायोपिया की प्रगति को धीमा किया जा सकता है और आपके बच्चे के आगामी जीवन में आँखों की गंभीर समस्याएँ उत्पन्न होने के जोखिम को कम किया जा सकता है।

क्या आपने हाल में अपनी आँखों की जाँच नहीं करवाई है? अपने घर के पास ऑप्टिशियन को खोजें और आँखों की जाँच के लिए समय तय करें।

3. दृष्टि का मूल्यांकन आँखों की जाँच की जगह नहीं ले सकता।

अक्सर माता-पिता को यह भरोसा दिलाया जाता है कि उनका बच्चा बिल्कुल सही तरह से देख रहा है क्योंकि उसने स्कूल के दृष्टि मूल्यांकन को पास कर लिया है। या फिर वयस्क सोचते हैं कि उन्हें बिल्कुल अच्छी तरह दिखता है क्योंकि उन्होंने अपने ड्राइविंग प्रशिक्षण के दौरान नंबर-प्लेट टेस्ट को पास कर लिया है।

अक्सर, इनमें से कोई भी धारणा सही नहीं होती।

दृष्टि मूल्यांकन का दायरा सीमित ही होता है, इसमें केवल उन व्यक्तियों को छाँटा जाता है जिन्हें दृष्टि से संबंधित गंभीर (और अधिकांश मामलों में, स्पष्ट जाहिर) समस्याएँ होती हैं।

मूल्यांकन उन स्पष्ट समस्याओं की पहचान कर सकते हैं जो देख कर किए जाने वाले विशिष्ट कार्यों, जैसे क्लासरूम में ब्लैकबोर्ड को स्पष्ट देख पाना या सड़क के संकेतों या वाहन के पीछे की दूसरी वस्तुओं की पहचान करना, में किसी व्यक्ति को हो सकती हैं।

केवल एक ऑप्टिशियन (ऑप्टोमीट्रिस्ट या आँखों का विशेषज्ञ) द्वारा आँखों की समग्र जाँच से ही सुनिश्चित किया जा सकता है कि आपकी दृष्टि यथासंभव स्पष्ट और आरामदायक है, और आप आँखों की उन संभावित गंभीर समस्याओं से मुक्त हैं जिनके शुरुआती लक्षण स्पष्ट नहीं होते। इन गंभीर समस्याओं में ग्लूकोमा से लेकर आँख का कैंसर तक शामिल है।

4. ग्लूकोमा।

आँखों की सभी गंभीर समस्याओं में से ग्लूकोमा संभवतः सबसे चोरी-छुपे आने वाली समस्या है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ज़्यादातर मामलों में ग्लूकोमा की शुरुआती अवस्था में इसका कोई प्रत्यक्ष लक्षण नहीं होता, ऐसा कुछ नहीं जो आपको सावधान करे कि कुछ गड़बड़ है।

जो लोग आँखों की नियमित जाँच नहीं कराते और ग्लूकोमा के शिकार हो जाते हैं, उन्हें इसके बारे में केवल तब जाकर पता चलता है जब वे इस बीमारी की वजह से अपनी दृष्टि हमेशा के लिए गँवा चुके होते हैं। और तब, दृष्टि की अतिरिक्त क्षति रोकने के लिए ग्लूकोमा को नियंत्रित करना बेहद कठिन हो सकता है।

चिकित्सकीय उपचार और/अथवा ग्लूकोमा सर्जरी के द्वारा सफल नियंत्रण के बिना, यह बीमारी अंधेपन का कारण बन सकती है।

ग्लूकोमा के लिए उच्च रक्त चाप और अन्य जोखिम कारकों की जल्द पहचान केवल आँखों की नियमित जाँच से संभव है। दृष्टि मूल्यांकन ग्लूकोमा की पहचान करने या इसकी रोकथाम करने में कोई भूमिका नहीं निभाते।

5. आँखों की प्रति वर्ष जाँच से अन्य गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं की पहचान की जा सकती है।

क्या आपको पता है कि बहुत से लोगों को डायबिटीज, उच्च रक्त चाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और यहाँ तक कि कैंसर से ग्रस्त होने के बारे में पहली बार कब पता चलता है? जी हाँ, आपका अनुमान बिल्कुल सही है, आँखों की नियमित जाँच के बाद।

हमारी आँखों को "हमारी आत्मा का झरोखा" कहा जाता है। सच यह है कि, वे अक्सर हमारे समग्र स्वास्थ्य का भी बहुत ही प्रभावशाली झरोखा होती हैं।

आँखों की समग्र जाँच के दौरान, आपका ऑप्टिशियन आपके रेटिना में रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य और स्थिति का निरीक्षण और मूल्यांकन कर सकता है, जो आपके पूरे शरीर की रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य का एक अच्छा संकेतक होते हैं। डायबिटीज, उच्च रक्तचाप और उच्च कोलेस्ट्रॉल जैसी सभी समस्याएँ रेटिना की रक्त आपूर्ति और रक्त वाहिकाओं के रूप-रंग में परिवर्तन से स्पष्ट दिखाई देती हैं।

आँखों की प्रति वर्ष जाँच ऐसे किसी भी व्यक्ति के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण होती है जो डायबिटीज-ग्रस्त हो या जिसे यह बीमारी होने का जोखिम हो (मोटापे, पारिवारिक इतिहास या अन्य कारणों से)।

यूनाइटेड किंगडम में 40 लाख से अधिक डायबिटीज से ग्रस्त व्यक्तियों और अन्य 70 लाख प्री-डायबिटीज से ग्रस्त रोगियों में डायबिटीज जनित आँख की बीमारीविकसित होने का खतरा है, जो वयस्कों में अंधेपन का प्रमुख कारण है। अपनी शुरुआती अवस्थाओं में, डायबिटीज जनित आँख की बीमारी का कोई प्रत्यक्ष लक्षण नहीं होता है; केवल आँखों की समग्र जाँच ही बीमारी के संकेतों की पहचान कर सकती है, ताकि दृष्टिहीनता रोकने के लिए उपचार समय रहते शुरू हो सके।

साथ ही, अनुसंधान आपको आँखों के लिए एक ऐसी जाँच विकसित करने में लगे हुए हैं जो आपको अल्ज़ाइमर्स रोग होने के जोखिम की पहचान करेगी, जिसे जल्द ही आँखों की समग्र जाँच के दौरान किया जा सकेगा।

इसे कल पर न छोड़ें, आज ही आँखों की जाँच के लिए मुलाकात तय करें

अगर आपको लगता है कि आपकी दृष्टि बिल्कुल ठीक है, तब भी आँखों की जाँच करवाना उन सर्वश्रेष्ठ कदमों में से एक है, जिसे आप अपने स्वास्थ्य और सेहत की रक्षा के लिए उठा सकते हैं।

देरी नहीं करें –- अपने घर के पास ऑप्टिशियन को खोजें और अपनी आँखों की जाँच करवाएँ।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें