आँखों की देखभाल

अपनी दृष्टि को सही करके बेहतर कैसे देखें

एक आँख का बंद होना।
Advertisement

दृष्टि समस्याएं अक्सर मुख्य कारण होती हैं जो एक व्यक्ति नेत्र चिकित्सक की सेवाओं की तलाश करता है, लेकिन इसका वास्तव में क्या मतलब है जब हमें बताया जाता है कि हमारी दृष्टि धुंधली है क्योंकि हमारे पास एक रेफ्रेक्टिव एरर  (अपवर्तक त्रुटि) है ?

हम अपने आस-पास की दुनिया को देखते क्योंकि जिस तरह से हमारी आँखें प्रकाश को रेफरेक्ट (अपवर्तित) कर झुकती हैं । रेफ्रेक्टिव एर्रोर्स (अपवर्तक त्रुटियां) ऑप्टिकल खामियां हैं जो आंख को ठीक से रोशनी फोकसिंग करने से रोकती हैं, जिससे दृष्टि धुंधली होती है । प्राथमिक रेफ्रेक्टिव एर्रोर्स (अपवर्तक त्रुटियां) निकटदर्शिता, तथा  दूरदर्शिता और एस्टिगमैटिज्म (दृष्टिवैषम्य) हैं ।

रेफ्रेक्टिव एर्रोर्स को आमतौर पर चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस के साथ "सही" किया जा सकता है, या उन्हें स्थायी रूप से दृष्टि सुधार सर्जरी के साथ इलाज किया जा सकता है ।

प्रकाश कैसे आंख के माध्यम से यात्रा करता है

सारा वातावरण देखने के लिए, हमारे पास प्रकाश होना चाहिए । जबकि हम प्रकाश के सभी विभिन्न गुणों को पूरी तरह से नहीं समझते हैं, हमें इस बात का अंदाजा है कि प्रकाश कैसे यात्रा करता है । एक प्रकाश किरण को विभक्त पदार्थों के आधार पर विक्षेपित (डेफ्लेक्टेड), परावर्तित (रेफ्लेक्टेड), मोड़ा या अवशोषित(अब्सोर्बेड) किया जा सकता है ।

जब प्रकाश पानी या लेंस जैसे एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाता है, तो इसका मार्ग मुड़ा हुआ या अपवर्तित होता है । कुछ नेत्र संरचनाओं में पानी या लेंस के समान अपवर्तक गुण होते हैं और तेज दृष्टि के लिए आवश्यक प्रकाश बिंदु पर प्रकाश किरणों को झुका सकते हैं ।

आंख में अधिकांश रिफ्रेक्शन (अपवर्तन) तब होता है जब प्रकाश किरणें आंख की घुमावदार, स्पष्ट सामने की सतह से होकर गुजरती हैं । आंख का प्राकृतिक लेंस भी प्रकाश किरणों को मोड़ता है । यहां तक ​​कि आंख की टीयर (आंसू ) फिल्म और आंतरिक तरल पदार्थ में अपवर्तक ( रेफ्रेक्टिव ) क्षमता होती है ।

आंख कैसे देखती है

दृष्टि की प्रक्रिया तब शुरू होती है जब प्रकाश किरणें जो वस्तुओं से परावर्तित होकर और आँखों की ऑप्टिकल प्रणाली के माध्यम से यात्रा करती हैं,  इसको अपवर्तित किया जाता है और तेज फोकस के  लिए बिंदु पर केंद्रित किया जाता है ।

अच्छी दृष्टि के लिए, यह फोकस बिंदु रेटिना पर होना चाहिए । रेटिना वह ऊतक होता है जो आंख के पीछे के हिस्से को कवर करता है, जहां प्रकाश के प्रति संवेदनशील फोटोरिसेप्टर कोशिकाएं उसी तरह से छवियों को कैप्चर करती हैं, जैसा कि कैमरे में फिल्म प्रकाश के संपर्क में आने पर करती है । इन छवियों को फिर व्याख्या के लिए आंख के ऑप्टिक तंत्रिका के माध्यम से मस्तिष्क में भेजा जाता है ।

जिस तरह एक कैमरा के एपर्चर का उपयोग फिल्म को सही तरीके से उजागर करने के लिए आवश्यक प्रकाश की मात्रा को समायोजित करने के लिए किया जाता है, रेटिना तक पहुंचने वाले प्रकाश की मात्रा को नियंत्रित करने के लिए आंख की पुतली चौड़ी या संकुचित हो जाती है ।

अंधेरे परिस्थितियों में, पुतली चौड़ी हो जाती है । उज्ज्वल परिस्थितियों में, पुतली संकुचित हो जाती है ।

रेफ्रेक्टिव एर्रोर्स (अपवर्तक त्रुटियां) के कारण

रेटिना पर प्रकाश को तेजी से  मोड़ने  या फोकस केंद्रित करने की आंख की क्षमता मुख्य रूप से है - तीन तरह की  नेत्र की शारीरिक  रचनाओं पर आधारित होती है :

1) आंख की समग्र लंबाई,

2) कॉर्निया की वक्रता और

3) आंख के अंदर लेंस की वक्रता ।

आंख की लंबाई

यदि आंख बहुत लंबी है, तो रेटिना तक पहुंचने से पहले ही प्रकाश  का फोकस केंद्रित हो जाता है , जिससे निकटदृष्टिता होती है। यदि आंख बहुत छोटी है, तो प्रकाश रेटिना तक पहुंचने तक, उस समय तक केंद्रित नहीं हो पता है । यह दूरदर्शिता या हाइपरोपिया का कारण बनता है ।

कॉर्निया की वक्रता

यदि कॉर्निया पूरी तरह से गोलाकार नहीं है, तो एस्टिगमैटिज्म (दृष्टिवैषम्य) नामक एक स्थिति बनाने के लिए छवि को अपवर्तित या अनियमित रूप से केंद्रित किया जाता है । एक व्यक्ति एस्टिगमैटिज्म (दृष्टिवैषम्य) के साथ या उसके बिना निकटदर्शी या दूरदर्शी हो सकता है ।

लेंस की वक्रता

यदि लेंस आँख की लंबाई और कॉर्निया की वक्रता के संबंध में बहुत घुमावदार है, तो यह निकटदृष्टिता का कारण बनता है । यदि लेंस बहुत सपाट है, तो परिणाम दूरदर्शिता है ।

अधिक अस्पष्ट दृष्टि त्रुटियां भी प्रकाश की किरणों के उस तरह से खामियों से संबंधित हैं जैसे वे आंख की ऑप्टिकल प्रणाली के माध्यम से यात्रा करते हैं ।

रेफ्रेक्टिव एर्रोर्स (अपवर्तक त्रुटियां) का पता लगाने और उपचार

आपका नेत्र चिकित्सक  और ऑप्टोमेट्रिस्ट एक रिफ्रक्शन(अपवर्तन) परीक्षण करके आपके द्वारा होने वाली अपवर्तक त्रुटि के प्रकार और डिग्री को निर्धारित करता है ।

इंसानी आंख लाइट को फोकस (रिफ्रेक्ट) कर स्पष्ट चित्र बनाने के लिए करती है, ठीक उसी तरह जैसे कैमरा करता है ।

यह कंप्यूटराइज्ड इंस्ट्रूमेंट (स्वचालित रिफ्रक्शन) के साथ या फ़ोरोप्टर नामक एक मैकेनिकल इंस्ट्रूमेंट के साथ किया जा सकता है जो आपके नेत्र चिकित्सक और ऑप्टोमेट्रिस्ट, आपको  को एक बार में एक लेंस दिखा सकता है ।

अक्सर, एक स्वचालित रिफ्रक्शन(अपवर्तन) परीक्षण डॉक्टर के कर्मचारियों के एक सदस्य द्वारा किया जाएगा, और फिर नेत्र चिकित्सक  या ऑप्टोमेट्रिस्ट परिणामों को परिष्कृत और सत्यापित करेगा ।

आपका रिफ्रक्शन (अपवर्तन) यह बता सकता है कि आपके पास एक से अधिक प्रकार की अपवर्तक त्रुटि है । उदाहरण के लिए,  आपकी धुंधली दृष्टि निकटदृष्टिता और एस्टिगमैटिज्म (दृष्टिवैषम्य) दोनों के कारण हो सकती है ।

आपका नेत्र चिकित्सक या ऑप्टोमेट्रिस्ट आपके चश्मे के प्रिस्क्रिप्शन को निर्धारित करने के लिए आपके रिफ्रक्शन (अपवर्तन) परीक्षण के परिणामों का उपयोग करेगा । एक रिफ्रक्शन(अपवर्तन) परीक्षण, हालांकि, कॉन्टैक्ट लेंस की प्रिस्क्रिप्शन लिखने के लिए पर्याप्त जानकारी प्रदान नहीं करता है, जिसके लिए कॉन्टैक्ट लेंस फिटिंग की आवश्यकता होती है ।

चश्मे के लेंस और कॉन्टैक्ट लेंस को सटीक वक्रता के साथ बनाया जाता है  ताकि वे प्रकाश  को  मोड़कर फ्रेक्टिव एर्रोर्स (अपवर्तक त्रुटियां) के लिए क्षतिपूर्ति करके  और  प्रकाश  को  बहेतर ढंग से रेटिना पर फोकस  करे ।

लेसिक जैसी दृष्टि सुधार सर्जरी का उद्देश्य कॉर्निया के आकार को बदलकर रेफ्रेक्टिव एर्रोर्स (अपवर्तक त्रुटियां) को ठीक करना है, ताकि प्रकाश किरणें मोड़कर अधिक सटीक बिंदु ( रेटिना ) पर केंद्रित हो जाएं ।

क्या आप नेत्र चिकित्सक से मिलने के लिए तैयार हैं ?

अपने नजदीकी नेत्र चिकित्सक से संपर्क स्थापित करें ताकि वह आपको होने वाले किसी भी रेफ्रेक्टिव एर्रोर्स (अपवर्तक त्रुटियां) का उपचार कर सके ।

Advertisement