होमक्या नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मे सच में काम करते हैं? | In English

क्या नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मे सच में काम करते हैं?

लैपटॉप पर बैठे नीले प्रकाश के चश्मे की जोड़ी

जैसा कि नाम से ही पता चलता है, नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मे स्मार्टफोन, कंप्यूटर और टीवी आदि यंत्रों से निकलने वाले उच्च-ऊर्जावान नीले प्रकाश की कुछ मात्रा को रोक देते हैं। पता है न आपको, वही चीज़ें जिन्हें हम पूरे दिन घूरते रहते हैं.

यहां तक कि आपके घर में लगे आम लाइट बल्ब से भी नीला प्रकाश निकल सकता है। नीले प्रकाश का सबसे बड़ा उत्पादक, यानि सूर्य, नीले प्रकाश की बहुत बड़ी मात्रा हमारी ओर भेजता है।

क्या आपको नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मों से लाभ हो सकता है? चलिए पता लगाते हैं।

संबंधित सामग्री देखें: नीला प्रकाश आपके लिए अच्छा भी है और बुरा भी

नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मे क्या चीज़ हैं?

जब किसी वस्तु से प्रकाश उत्पन्न होता है, तो असल में उसमें विभिन्न रंग अलग-अलग तरंगदैर्घ्य पर कंपन कर रहे होते हैं। नीले-बैंगनी प्रकाश को उच्च-ऊर्जा दृश्य प्रकाश (HEV लाइट) कहा जाता है। यही वह भाग है जो सूर्य के संभावित रूप से हानिकारक नीले प्रकाश से सबसे अधिक समानता रखता है।

स्वाभाविक है कि कृत्रिम नीला प्रकाश, सूर्य के नीले प्रकाश से काफ़ी कमज़ोर होता है। पर अब बहुत से लोग अपना इतना सारा समय इमारतों के अंदर डिजिटल स्क्रीनों के सामने गुजारते हैं कि संपर्क की थोड़ी-थोड़ी मात्रा जुड़ कर बड़ी बन जाती है।

यह ज्ञात नहीं है कि इलेक्ट्रॉनिक नीला प्रकाश सीधे तौर पर आंखों की समस्याएं उत्पन्न कर सकता है या नहीं, पर यह उनमें योगदान ज़रूर दे सकता है।

ऑफ्थैल्मोलॉजिस्ट और आईसेफ़ विज़न हेल्थ एडवाइज़री बोर्ड के सदस्य डॉ शेरी रोएन का कहना है कि, “डिवाइसों और स्क्रीनों के सामने बीतने वाला वयस्कों का समय 11 घंटे प्रतिदिन तक पहुंच रहा है, और इस रूप में, हमारी आंखों पर डिजिटल प्रकाश का काफ़ी सारा तनाव पड़ रहा है”।.

रोएन का कहना है कि, “लेंसों को आंखों के डिजिटल तनाव को घटाने और नींद तथा संपूर्ण स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले सर्केडियन रिद्म के व्यवधान से बचाने में मदद करने हेतु डिज़ाइन किया गया है”।

नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मे एक विशेष कोटिंग की मदद से इस प्रकाश का कुछ प्रतिशत रोक देते हैं; यह कोटिंग नीले प्रकाश की कुछ मात्रा को आपकी आंखों से दूर परावर्तित कर देती है। यह प्रतिशत कितना होगा यह बात आपके खरीदे चश्मे पर निर्भर करती है।

नीला प्रकाश रोकने वाले कुछ चश्मों में पीला टिंट होता है, जबकि अन्य रंगहीन पारदर्शी दिखते हैं। आमतौर पर, अधिक पीले दिखने वाले लेंस अपने रंगहीन पारदर्शी बंधुओं की तुलना में अधिक नीला प्रकाश फ़िल्टर करते हैं।

रोएन का कहना है कि, “सबसे अच्छा पहला कदम यह है कि आप किसी नेत्र देखभाल पेशेवर से परामर्श करें और वे आपकी सुरक्षा संबंधी ज़रूरतें निश्चित करने में आपकी मदद करेंगे”।

नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मों के संभावित लाभ

आधुनिक टेक्नॉलजी के साथ हमारे अनुभव को अधिक समय नहीं हुआ है, विशेष रूप से आंखों को स्क्रीन पर गड़ाए रख कर प्रतिदिन 11 घंटे बिताने की आदत को तो बिल्कुल भी नहीं।

इस प्रकार का उपयोग हमारी आंखों के स्वास्थ्य को किस प्रकार प्रभावित करेगा इस बारे में हम बहुत कुछ अभी तक नहीं जानते हैं। 

नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मों के साथ प्रायः दो संभावित लाभ जुड़े होते हैं: आंखों के तनाव में कमी और बेहतर नींद.

आईबायडायरेक्ट (EyeBuyDirect) की उत्पाद मार्केटिंग प्रबंधक कैरोलाइन डुब्रॉइल कहती हैं, “हम जब भी हमारे डिजिटल उपकरण इस्तेमाल करते हैं, विशेष रूप से देर रात में, तो हम असल में हमारे दिमाग़ को यह कह रहे होते हैं कि वह हमारे शरीर को जागता रखे”।

डुब्रॉइल ने आगे बताया कि, “शोध से पता चलता है कि सोने जाने से तीन से चार घंटे पहले से नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मे पहनने से बेहतर और अधिक सुखदायी नींद मिल सकती है”।

संबंधित सामग्री देखें: कंप्यूटर चश्मे किस तरह अलग हैं

क्या आपको नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मों की ज़रूरत है?

नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मों को एक आजमाइश वाली चीज़ के रूप में देखने से मदद मिल सकती है।

यदि आपको आंखों में तनाव होता है या नींद आने में समस्या होती है (विशेष रूप से अत्यधिक स्क्रीन टाइम के बाद), तो नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मों से मदद मिलना संभव है.

वे आपकी आंखों को तनाव से थोड़ी राहत दिला सकते हैं या आपको थोड़ी अधिक आसानी से नींद लाने में मदद कर सकते हैं, या फिर ऐसा भी हो सकता है कि वे ऐसा कुछ न करें। कुछ लोग उन्हें अत्यधिक लाभदायी पाते हैं, जबकि कुछ अन्य को उनसे कोई ख़ास लाभ नहीं होता है।

आईबायडायरेक्ट (EyeBuyDirect) जैसे एवं कई अन्य ऑनलाइन रिटेलर, अधिकतर चश्मों की दुकानों से कहीं कम कीमत पर नीला प्रकाश फ़िल्टर करने वाले प्रेस्क्रिप्शन और नॉन-प्रेस्क्रिप्शन चश्मे बेचते हैं, अतः यदि उनसे आपको कोई लाभ नहीं मिलता है तो भी आपको कुछ ज्यादा नुकसान नहीं होगा।

स्क्रीन उपयोग की सही आदत बनाएं

नीला प्रकाश रोकने वाला चश्मा हो चाहे न हो, स्क्रीन उपयोग की नेत्र-हितैषी आदत बनाना अपनी आंखों का तनाव घटाने और यह कंप्यूटर विज़न सिंड्रोम के प्रभाव घटाने का एक सुनिश्चित तरीका है।.

आंखों के डिजिटल तनाव के लक्षणों में अक्सर धुंधली दृष्टि, सिरदर्द और आंखों में सूखापन शामिल होते हैं। स्क्रीन पर आंखों को फ़ोकस करने से होने वाला तनाव ऑकुलर माइग्रेन भी सक्रिय कर सकता है।.

20-20-20 नियम याद रखने और व्यवहार में लाने में आसान है: हर 20 मिनट तक डिजिटल स्क्रीन का उपयोग करने के बाद, कम-से-कम 20 फ़ीट दूर मौजूद किसी वस्तु को 20 सेकंड तक देखें.

जीवनशैली के समायोजनों, जैसे 20-20-20 नियम को नियमित रूप से व्यवहार में लाना, स्क्रीन पर लंबे समय तक काम के दौरान बारंबार ब्रेक लेना, और अपने फोन के डार्क मोड का उपयोग करने से, नीला प्रकाश रोकने वाले चश्मों के उपयोग से आपको मिलने वाले लाभ में इजाफ़ा हो सकता है।

हमारी आंखों के डिजिटल तनाव की गाइड को पढ़ें और इसके प्रभावों तथा उनसे बचने के तरीकों के बारे में और जानें।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें