ग्लूकोमा: लक्षण, उपचार और रोकथाम

भारत में एक वृद्ध व्यक्ति जो आंख की जांच करवाता है।
Advertisement

ग्लोकोमा (काला मोतिया) को अक्सर "दृष्टि का मौन चोर" कहा जाता है, क्योंकि इसके अधिकांश प्रकारों में आम तौर पर कोई दर्द नहीं होता है और ध्यान देने योग्य दृष्टि हानि होने तक कोई लक्षण उत्पन्न नहीं होता है ।

इस कारण से, ग्लोकोमा (काला मोतिया) अक्सर अनिर्धारित रूप में बढ़ता है जब तक कि ऑप्टिक नर्व  पहले से ही अपरिवर्तनीय (इर्रिवर्सिबली) रूप से क्षतिग्रस्त नहीं हुई हो ।

ग्लोकोमा (काला मोतिया) क्या है ?

ग्लोकोमा (काला मोतिया) संबंधित नेत्र विकारों का एक समूह है जो ऑप्टिक नर्वों  को नुकसान पहुंचाता है जो आंख से मस्तिष्क तक जानकारी  पहुंचाता है ।

ज्यादातर मामलों में, ग्लोकोमा (काला मोतिया) आंख के अंदर उच्च-से-सामान्य दबाव (प्रेसर) से जुड़ा होता है - एक स्थिति में जिसे ओकुलर हाइपरटेंशन कहा जाता है । लेकिन यह भी हो सकता है जब अंतःकोशिका दबाव (IOP) सामान्य हो सकता है । यदि अनुपचारित या अनियंत्रित, ग्लोकोमा (काला मोतिया) पहले परिधीय दृष्टि (पेरीफेरल विज़न) हानि का कारण बनता है और अंततः दृष्टिविहिनता (ब्लाईंडनेस्स)  हो सकती है ।

Illustration of intraocular pressure in the back of the eye - Hindi

अधिकांश प्रकार के ग्लोकोमा (काला मोतिया) में, उच्च इंट्राओकुलर दबाव (आई ओ पी) आंख के पीछे ऑप्टिक नर्वों को नुकसान पहुंचाने के साथ जुड़ा हुआ है ।

ग्लोकोमा (काला मोतिया) दुनिया भर में दृष्टिविहीनता का दूसरा प्रमुख कारण है ( मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) के पीछे, जो कि पहला कारण है )

ग्लोकोमा (काला मोतिया) के प्रकार :

ग्लोकोमा (काला मोतिया) की दो प्रमुख श्रेणियां हैं ओपन-एंगल ग्लोकोमा (OAG) और क्लोज्ड-एंगल ग्लोकोमा (ACG) ।  दोनों मामलों में "कोण" आंख के अंदर जल निकासी कोण को संदर्भित करता है जो जलीय तरल (एक्वस)  को बाहर जाने से नियंत्रित करता है जो लगातार आंख के अंदर पैदा हो रहा होता है ।

यदि यह जलीय तरल (एक्वस) निकासी कोण तक पहुंच सकता है, तो ग्लोकोमा (काला मोतिया) को ओपन-एंगल ग्लोकोमा के रूप में जाना जाता है । यदि जल निकासी कोण अवरुद्ध है और जलीय तरल (एक्वस) उस तक नहीं पहुंच सकता है, तो ग्लोकोमा (काला मोतिया) को क्लोज्ड-एंगल ग्लोकोमा के रूप में जाना जाता है ।

ग्लोकोमा (काला मोतिया) के लक्षण :

ग्लोकोमा  के अधिकांश प्रकारों में,  आमतौर पर कोई दर्द नहीं होता है और ध्यान देने योग्य दृष्टि हानि होने तक कोई लक्षण उत्पन्न नहीं होता है, लेकिन क्लोज्ड-एंगल ग्लोकोमा के साथ, एक व्यक्ति अचानक लक्षणों का अनुभव करता है - जैसे धुंधली दृष्टि, रोशनी के आसपास प्रभामंडल, आंखों में तेज दर्द, मतली और उल्टी महसूस होना ।

यदि आपके पास ये लक्षण हैं, तो एक नेत्र चिकित्सक  को दिखाएँ  ताकि स्थायी दृष्टि की हानि को रोकने के लिए आपके नेत्रों का उपचार किया जा सके ।

ग्लोकोमा (काला मोतिया) के लिए निदान, स्क्रीनिंग और परीक्षण :

नियमित नेत्र परीक्षा के दौरान, एक टोनोमीटर का उपयोग आपके इंट्रा ऑक्युलर दबाव, या IOP को मापने के लिए किया जाता है । आपकी आंख आमतौर पर टोपिकल (सामयिक) आई ड्रॉप के साथ सुन्न कर दी जाती है, और एक छोटा सा प्रोब , धीरे-धीरे आँखों की सतह पर आकर टिकता है । अन्य टोनोमीटर आपकी आंख की सतह पर हवा का एक झोंका जैसा छोड़ते हैं ।

एक असामान्य रूप से उच्च IOP रीडिंग आंख में तरल पदार्थ की मात्रा के साथ एक समस्या को इंगित करता है । या तो आंख बहुत अधिक तरल पदार्थ का उत्पादन कर रही होती है, या यह ठीक से  बाहर  नहीं निकल पा रही है ।

आम तौर पर, IOP 21 mmHg (मिलीमीटर पारा के) से नीचे होना चाहिए - माप की एक इकाई जो एक निश्चित परिभाषित क्षेत्र के भीतर कितना बल है, इस पर आधारित होती है ।

यदि आपका IOP 30 mmHg से अधिक है, तो ग्लोकोमा (काला मोतिया) से दृष्टि की हानि का जोखिम 15 mmHg या उससे कम इंट्राओक्यूलर दबाव वाले किसी व्यक्ति की तुलना में 40 गुना अधिक है । यही कारण है कि ग्लोकोमा (काला मोतिया) के उपचार जैसे आई ड्रॉपस IOP को कम रखने के लिए  डिज़ाइन किए गए हैं ।

ग्लोकोमा (काला मोतिया) की निगरानी के अन्य तरीकों में आधारभूत चित्र और आंख के ऑप्टिक नर्व  और आंतरिक संरचनाओं के माप को बनाने के लिए परिष्कृत इमेजिंग तकनीक का उपयोग शामिल है ।

फिर, निर्दिष्ट अंतराल पर, यह सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त चित्र और माप लिया जाता है कि कोई परिवर्तन तो नहीं हुआ है जो प्रगतिशील ग्लोकोमा (काला मोतिया) से होने वाले क्षति का संकेत दे सकता है ।

ग्लोकोमा (काला मोतिया) का उपचार :

ग्लोकोमा (काला मोतिया) के उपचार में गंभीरता के आधार पर सर्जरी, लेजर उपचार या दवा शामिल हो सकती है । आई ओ पी को कम करने के उद्देश्य से दवा के साथ आई ड्रॉप आमतौर पर - ग्लूकोमा (काला मोतिया) को नियंत्रित करने के लिए सबसे पहले कोशिश की जाती है ।

क्योंकि ग्लोकोमा (काला मोतिया) रोग में अक्सर दर्द नहीं होता है कई लोग आई ड्रॉप के सख्त उपयोग के बारे में लापरवाह हो जाते हैं ताकि वे आंखों के दबाव को नियंत्रित कर सकें और स्थायी आंखों की क्षति को रोकने में मदद कर सकें ।

वास्तव में, निर्धारित बताई गई ग्लोकोमा (काला मोतिया) की दवाइयों का ठीक से प्रयोग नहीं करना, ग्लोकोमा (काला मोतिया) के कारण होने वाली दृष्टिविहीनता का एक प्रमुख कारण है ।

यदि आपको पता चलता है कि ग्लोकोमा (काला मोतिया) के लिए आप जिस आई ड्रॉपस  का प्रयोग कर रहे हैं, और आपको लगता है कि वह असहज या असुविधाजनक है, तो कभी भी किसी संभावित वैकल्पिक चिकित्सा के बारे में पहले अपने नेत्र चिकित्सक से परामर्श किए बिना उन आई ड्रॉपस को कभी भी बंद न करें ।

व्यायाम से ग्लोकोमा (काला मोतिया) का खतरा कम हो सकता है :

क्या आप ग्लोकोमा (काला मोतिया) के रोग को कम कर सकते हैं ? हाल के एक यूरोपीय अध्ययन के अनुसार, कुछ लोगों को ग्लोकोमा (काला मोतिया) रोग अगर विकसित हो रहा है तो व्यायाम से यह संभावना कम हो जाती है क्योंकि यह आपके शरीर और आपकी आंखों में रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद करता है ।

नियमित व्यायाम और एक सक्रिय जीवन शैली के अलावा, आप धूम्रपान न करने, अपना स्वस्थ वजन बनाए रखने और विविध प्रकार के स्वस्थ आहार खाने से भी ग्लोकोमा (काला मोतिया) के लिए अपने जोखिम को कम कर सकते हैं ।

Advertisement