होम अवस्थाएँ |  In English

मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन (एमजीडी): आपकी खुश्क आंखों का कारण?

मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन आंखों की सबसे आम ऐसी समस्याओं में से एक हो सकता है जो आपने कभी नहीं सुनी होंगी।

मेबोमियन ("my-BOH-mee-an") पलकों में एक विशेष प्रकार की ग्रंथि को संदर्भित करता है। मेबोमियन ग्लैंड का नाम जर्मन डॉक्टर हेनरिक मीबोम के नाम पर रखा गया है, जिन्होंने 1666 में पहली बार उनका वर्णन किया और उनका चित्र बनाया।

ऊपरी पलक में लगभग 25 से 40 मेबोमियन ग्रन्थियाँ और निचली पलक में 20 से 30 ग्रन्थियाँ होती हैं। इन ग्रंथियों का कार्य आंख की सतह पर तेलों का स्राव करना है। ये तेल आँसू को बहुत तेज़ी से वाष्पित करने में मदद करते हैं।

मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन (एमजीडी), मेबोमियन ग्रन्थियों की ब्लॉकेज या कोई अन्य असामान्यता है ताकि वे आँसू में पर्याप्त तेल का स्राव न करें। क्योंकि आंख की सतह पर टियर (आंसू) फिल्म तब बहुत तेजी से वाष्पित हो जाती है, एमजीडी ड्राई आई सिंड्रोम से संबंधित है। यह एक पलक समस्या से भी संबंधित है जिसे ब्लेफेराइटिस कहा जाता है.

मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन का दूसरा नाम "मेबोमियनाइटिस" है।

एमजीडी जोखिम कारक

कई कारक हैं जो मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन होने के आपके जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

सूखी आँखों के जोखिम की तरह, उम्र के साथ एमजीडी का खतरा बढ़ जाता है। 40 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में, बच्चों या युवा वयस्कों की तुलना में इसके होने का काफी अधिक जोखिम होता है।

मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन (एमजीडी) अक्सर सूखी आँखों का अंतर्निहित कारण होता है।

233 बुज़ुर्ग वयस्कों (91 प्रतिशत पुरुष; औसत आयु 63) के एक अध्ययन में पाया गया कि 59 प्रतिशत में कम से कम मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन का एक संकेत था।

आपकी जातीय पृष्ठभूमि भी इसमें अपनी भूमिका निभाती है। एमजीडी के संबंध में प्रकाशित शोध की व्यापक समीक्षा ने दर्शाया है कि कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि थाईलैंड, जापान और चीन में 69% तक एशियाई आबादी में मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन है। तुलनात्मक रूप से, अन्य अध्ययनों में पाया गया है कि अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में केवल 20% गैर-हिस्पैनिक गोरों को एमजीडी है।

आँखों का मेकअप करना एमजीडी का एक और महत्वपूर्ण कारण है। आईलाइनर और अन्य मेकअप मेबोमियन ग्रंथियों के खुलने को रोक सकते हैं। यह विशेष रूप से सही है यदि आप अपनी पलकों को अच्छी तरह से साफ नहीं करते हैं और सोने से पहले आंखों के मेकअप के सभी निशान मिटा नहीं देते हैं।

कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि कॉन्टैक्ट लेंस पहनने से भी एमजीडी का खतरा बढ़ सकता है। हाल ही के एक शोध से पता चला है कि मेबोमियन ग्रंथियों के परिवर्तन, कॉन्टैक्ट लेंस पहनने के साथ जुड़े हुए हैं, और छह महीने तक कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग बंद करने से ये परिवर्तन समाप्त नहीं होते हैं।

लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि कॉन्टैक्ट लेंस पहनने के कारण वास्तव में मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन होता है और अधिकांश शोधकर्ताओं का कहना है कि यह निर्धारित करने के लिए अतिरिक्त अध्ययन की आवश्यकता है कि क्या कॉन्टैक्ट लेंस पहनने वाले लोगों में एमजीडी का अधिक जोखिम है।

एमजीडी का पता कैसे लगाया जाता है?

मेबोमियन ग्लैंड डिसफ़ंक्शन के लक्षण — आँखें लाल पड़ना, एक अप्रिय अहसास, आंखों में खुजली, और धुंधली दृष्टि — लगभग सूखी आंख सिंड्रोम के लक्षणों के समान हैं।

केवल नेत्र देखभाल पेशेवर ही सुनिश्चित रूप से बता सकता है कि आपको एमजीडी है।

एमजीडी का पता लगाने के लिए आपका नेत्र देखभाल पेशेवर जिस सरल तकनीक का उपयोग कर सकता/ती है, वो आपकी पलक पर दबाव डालना है और इस तरह मेबोमियन ग्रंथियों की सामग्री व्यक्त करना है। इन स्रावों का अवलोकन अक्सर एक प्रशिक्षित नेत्र देखभाल पेशेवर को यह निर्धारित करने में सक्षम कर सकता है कि आपको मेबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन है या नहीं।

मेबोमियन ग्रन्थियाँ उन तेलों का स्राव करती हैं जो आंख की सतह को नम और आरामदायक बनाए रखने के लिए टियर फिल्म को स्थिर करते हैं।

क्योंकि मोबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन, टियर फिल्म की स्थिरता को प्रभावित करती है, आपके नेत्र देखभाल पेशेवर भी आपके आँसू की गुणवत्ता, मात्रा और स्थिरता का परीक्षण कर सकते हैं।

एक सामान्य परीक्षण को टियर ब्रेकअप टाइम (टीबीयूटी) परीक्षण कहा जाता है। इस सरल, दर्द रहित प्रक्रिया में आपकी आंख की सामने की सतह पर टियर फिल्म पर थोड़ी मात्रा में डाई लगाना शामिल है। आपकी नेत्र देखभाल पेशेवर फिर आपकी आंख की कोबाल्ट नीली रोशनी (जिसके कारण आपके आँसू चमकने लगते हैं) की जाँच करता है, यह देखने के लिए कि आपकी आंसू फिल्म आपकी आँख पर अपनी स्थिरता कितनी जल्दी खो (ब्रेक अप) देती है।

यह भी देखें: आई ड्रॉप्स के आपके पूरे चेहरे पर पड़े बिना इसका उपयोग कैसे करें!

मोबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन के लिए उपचार

अतीत में, एमजीडी के लिए अनुशंसित सामान्य उपचार पलकों पर सेक देना था, इसके बाद पलकों की मालिश करना था। इस उपचार का लक्ष्य मेबोमियन ग्रंथियों के खुलने को रोकने वाले किसी भी गाढ़े तेल को पिघलाना और प्रकट करना था।

गर्म सेक और पलकों की मालिश आमतौर पर एमजीडी लक्षणों को प्रभावी ढंग से राहत नहीं देगी।

दुर्भाग्य से, गर्म सेक और मालिश आमतौर पर पर्याप्त रूप से समस्या का इलाज करने और मेबोमियन ग्रंथियों के सामान्य कामकाज को बहाल करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं।

एक अन्य विकल्प मेबोमियन ग्रंथि की गहराई से जांच करना था। इस उपचार में, सुन्न करने वाली आई ड्रॉप्स को आपकी आंख पर लगाया जाता है और आपके नेत्र देखभाल पेशेवर आपकी मेयोबोमियन ग्रंथियों (आपकी पलकों के बेस के पास) के खुलने की जांच और पतला करने के लिए हाथ से पकड़े जाने वाले उपकरण के सिरे का उपयोग करते हैं। यह प्रक्रिया काफी प्रभावी है, लेकिन यह थकाऊ और कुछ हद तक असहज है।

उपचार के अब नए विकल्प उपलब्ध हैं। इनमें शामिल हैं:

यह थर्मल पल्सेशन सिस्टम एक इन-ऑफिस मेडिकल डिवाइस है जो मेबोमियन ग्रंथियों में मोमी जमाव को पिघलाने के लिए पलकों पर पर्याप्त ताप प्रदान करता है। उसी समय, यह पलक को खोलने और ग्रंथियों की सामग्री को अच्छी तरह से प्रकट करने के लिए स्पंदित दबाव लागू करता है।

यह डिवाइस 12-मिनट के उपचार सत्र के लिए पलक से जुड़ती है, और सिस्टम को डिज़ाइन किया गया है ताकि पलकों से स्वतः ही नेत्रगोलक तक कोई गर्मी या दबाव ट्रांसफर न हो। अनुसंधान से पता चला है कि एक एकल थर्मल पल्सेशन उपचार ने तीन साल तक के लिए मेबोमियन ग्रंथि स्राव और सूखी आंख के लक्षणों में काफी सुधार किया।

हीट और कम्प्रेशन ट्रीटमेंट सिस्टम, मेबोमियन ग्रन्थियों के अंदर फंसे मोमी स्राव को पिघलाने के लिए पलकों की अंदरूनी और बाहरी सतह को गर्म करने के लिए एक पोर्टेबल, हाथ से चलने वाले LED-आधारित हीट सोर्स का उपयोग करते हैं।

एक बार जब स्रावों को पिघलाने के लिए पर्याप्त गर्मी लगाई गई है, तो आपके नेत्र देखभाल पेशेवर प्रक्रिया का अवलोकन करते हुए, बंद मेबोमियन ग्रन्थियों को प्रकट करने के लिए आपके आईलिड मार्जिन पर कम्प्रेशन को लागू करेंगे। इस उपचार में आमतौर आठ से कम मिनट चाहिए होते हैं।

अध्ययनों से पता चला है कि हीट एंड कम्प्रेशन एमजीडी ट्रीटमेंट के परिणामस्वरूप उपचार के दो से चार सप्ताह बाद मेबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन और सूखी आंखों के संकेतों और लक्षणों में महत्वपूर्ण सुधार हुआ है।

एकल-उपयोग चिपकने वाले हीटिंग पैच एमजीडी के इलाज के लिए भी उपयोग किए जाते हैं। ये पैच बाहरी पलकों पर लगाए जाते हैं और एक केबल द्वारा एक छोटीे, पुन: प्रयोज्य हैंडहेल्ड यूनिट से जुड़े होते हैं। 12 मिनट के हीटिंग अवधि के बाद, नेत्र देखभाल पेशेवर बंद बलगम वाली ग्रंथियों को खोलने और निकालने के लिए पलकों को निचोड़ने के लिए एक्सप्रेशन फोर्सेप्स का उपयोग करते हैं।

इस तरह की एक प्रणाली के एक पायलट अध्ययन से पता चला कि यह एमजीडी और सूखी आंख की बीमारी के लिए एक प्रभावी उपचार विकल्प था, और इसने कम से कम 6 महीने तक चलने वाली सूखी आंखों के संकेतों और लक्षणों को कम कर दिया। रोगियों के नियंत्रण समूह में ऐसा कोई सुधार नहीं देखा गया था जिन्होने दैनिक घर पर गर्म सेक करने का उपयोग किया।

सहायक मेबोमियन ग्रंथि चिकित्सा

कुछ नेत्र देखभाल पेशेवर एमजीडी और सूखी आंखों के लिए उपचारों के संयोजन की सिफारिश करेंगे। उपरोक्त उपचारों के साथ उपयोग के लिए सुझाए जा सकने वाले उपचारों में निम्न शामिल हैं:

तीव्र स्पंदित प्रकाश (आईपीएल)। त्वचा-रोग विशेषज्ञों द्वारा एक्ने रोसाशिया (मुहासे) काे उपचार के लिए सालों से इस्तेमाल किए जाने वाले इस उपचार को मेबोमियन ग्लैंड डिस्फंक्शन और सूखी आँख के लक्षणों से राहत पाने के लिए भी प्रभावी माना गया है।

आईपीएल उपचार, जिसमें पलकों को दृश्य और अवरक्त प्रकाश की तीव्र स्पंदन लगाए जाते हैं, लगभग 20 मिनट तक चलता है। आमतौर पर, कई उपचार सत्र लगभग एक महीने के अंतराल पर निर्धारित किए जाते हैं।

माना जाता है कि आईपीएल उपचार पलकों में सूजन को कम करता है जो कि मेबोमियन ग्रंथियों में रुकावट का कारण बनता है। आईपीएल के एक तीन साल के अध्ययन ने एमजीडी के लिए उपचार के रूप में आशाजनक परिणाम दिखाए, जिसमें 93% प्रतिभागियों ने आईपीएल सत्रों की श्रृंखला के बाद सूखी आंखों के उनके लक्षणों में सुधार के स्तर के साथ संतुष्टि की रिपोर्ट की।

मैकेनिकल लिड डिब्राइडमेंट ब्लेफेराइटिस के लिए एक इन-ऑफिस उपचार है जो कि मेबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन के लक्षणों को कम करने के लिए भी दिखाया गया है। हस्त-चालित उपकरण धीरे-धीरे पलकों के मार्जिन को एक घूम रहे, मेडीकल-ग्रेड स्पंज के साथ साफ़ करते हैं। यह एक्सफ़ोलीटिंग क्रिया सूजन पैदा करने वाली बायोफिल्म को हटाती है जो पलकों पर बन सकती है जो कि मेबोमियन ग्रंथियों को बंद कर देती है। उपचार में आमतौर पर सभी चार पलकों को साफ करने में 10 मिनट से कम समय लगता है।

मैनुअल लिड डिब्रीडमेंट। इस उपचार में, आपके नेत्र देखभाल पेशेवर केराटिन नामक और अन्य कचरे जैसी सामग्री को डी-स्केल करने के लिए एक हाथ से पकड़ने वाले उपकरण का उपयोग करते हैं जो पलकों के मार्जिन का पालन कर सकें और मेबोमियन ग्रंथि के खुलने को रोक सकते हैं। अनुसंधान से पता चला है कि लिड डीब्रीडमेंट-स्केलिंग ने प्रक्रिया के एक महीने बाद सूखी आंख के लक्षणों और मेबोमियन ग्रंथि के कार्य में सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण राहत दी है।

जीवाणुरोधी आई ड्रॉप्स। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि जीवाणुरोधी आई ड्रॉप्स ने मेबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन को ठीक करने में मदद की है। आपकी आंखों की जांच के दौरान, आपके नेत्र देखभाल पेशेवर आपको सलाह देंगे कि यह आपके लिए एक अच्छा विकल्प है या नहीं।

साइक्लोस्पोरिन आई ड्रॉप्स। साइक्लोस्पोरिन एक एजेंट है जो एक विशिष्ट तरीके से शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को संशोधित करता है। यह दवा सूखी आंखों के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले डॉक्टर द्वारा लिखे कुछ आई ड्रॉप्स में पाई जाती है।.

ओमेगा-3 पूरक। कुछ नेत्र देखभाल पेशेवर उपरोक्त एमजीडी उपचारों में से एक के लिए एक सहायक उपचार के रूप में ओमेगा-3 फैटी एसिड के साथ आहार पूरकता की सलाह देते हैं। ओमेगा-3 से भरपूर आहार से भविष्य में मेबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन के जोखिम को कम किया जा सकता है। ऐसा प्रतीत होता है कि ये आवश्यक फैटी एसिड एमजीडी से जुड़ी सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं और मेबेमियन ग्रंथियों के भीतर मोमी जमाव के जोखिम को कम कर सकते हैं।

नेत्र देखभाल पेशेवर को दिखाएं

केवल एक नेत्र देखभाल पेशेवर आपको निश्चित रूप से बता सकता है कि आपको मेबोमियन ग्लैंड डिसफंक्शन है और आपकी विशेष जरूरतों के लिए सर्वोत्तम एमजीडी उपचार विकल्प प्रदान कर सकता है।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें