होम अवस्थाएँ |  In English

एनाइसोकोरिया: किस कारण से पुतलियों का आकार बराबर नहीं होता है?

किसी आइने में अपनी आंखें ध्यान से देखें। क्या एक पुतली दूसरी से काफ़ी बड़ी या छोटी दिखती है? यदि हां, तो आपको एनाइसोकोरिया हो सकता है।

एनाइसोकोरिया क्या होता है?

एनाइसोकोरिया का बस इतना सा अर्थ है कि आपकी पुतलियां बराबर नहीं हैं। एक पुतली सामान्य से बड़ी हो सकती है या फिर सामान्य से छोटी हो सकती है, जिस कारण पुतलियों के आकार में अंतर दिखता है। ऐसी पुतलियां प्रकाश पर सामान्य ढंग से प्रतिक्रिया दे भी सकती हैं और नहीं भी।

अधिकतर मामलों में, एनाइसोकोरिया हानिरहित होता है और चिंता का कोई कारण नहीं होता है। पर यदि आपकी पुतलियों का आकार अचानक असमान हो जाए, तो एनाइसोकोरिया का यह कम आम प्रकार किसी गंभीर चिकित्सीय स्थिति का लक्षण हो सकता है।

एनाइसोकोरिया के प्रकार और कारण 

एनाइसोकोरिया मुख्य रूप से चार प्रकार का होता है:

  1. सिंपल एनाइसोकोरिया

  2. पैथॉलजिक एनाइसोकोरिया

  3. मिकैनिकल एनाइसोकोरिया

  4. फार्माकॉलजिक एनाइसोकोरिया

सिंपल एनाइसोकोरिया

सिंपल एनाइसोकोरिया — जिसे इसेन्शियल एनाइसोकोरिया या फिज़ियॉलजिक एनाइसोकोरिया भी कहते हैं — सबसे आम प्रकार का एनाइसोकोरिया होता है। यह एक सुदम्य (हानिरहित) स्थिति होती है जो जनसंख्या के लगभग 20% को प्रभावित करती है

सिंपल एनाइसोकोरिया में, पुतलियों के आकार में आमतौर पर 1 मिलीमीटर (मिमी) या कम का अंतर होता है, और दोनों पुतलियां प्रकाश पर सामान्य प्रतिक्रिया देती हैं। सिंपल एनाइसोकोरिया के होने और लिंग, आयु या आंख के रंग के बीच कोई संबंध प्रतीत नहीं होता है

सिंपल एनाइसोकोरिया का सही-सही कारण अज्ञात है। यह बीच-बीच में हो सकता है या लगातार बना रह सकता है, और कभी-कभी यह अपने-आप चला जाता है।  

शीर्ष: सामान्य शिष्य। मध्य: एक पुतली के साथ अनीसोकोरिया सामान्य से बड़ा। नीचे: सामान्य से एक पुतली के साथ अनीसोकोरिया।

पैथॉलजिक एनाइसोकोरिया

पैथॉलजिक एनाइसोकोरिया में किसी अंदर छिपी स्थिति या रोग के कारण पुतलियों का आकार असमान होता है। कुछ उदाहरण:

आइरिटिस

आइरिटिस, यूवेइटिस (आंख में सूजन का एक रोग) का एक रूप होता है। एक्यूट आइरिटिस में आंख में लालिमा और दर्द, फोटोफोबिया, आंख के आगे वाले कक्ष में शोथ कोशिकाओं, और प्रभावित आंख की पुतली में निरंतर संकुचन बना रहता है (जिस कारण एनाइसोकोरिया होता है)।

आइरिटिस के कई कारण होते हैं, जैसे आंख में संक्रमण, कोई छिपा हुआ सूजनकारी रोग, और आघात। आपके नेत्र देखभाल पेशेवर, जब तक स्थिति का अंदर छिपा कारण पकड़ और काबू में आए तब तक, आइरिटिस के लक्षणों का उपचार कर सकते हैं। 

कुछ मामलों में, आइरिटिस से होने वाला एनाइसोकोरिया, आइरिटिस के सफल उपचार के बाद भी बना रह सकता है।

हॉर्नर्स सिंड्रोम

हालांकि अलग-अलग व्यक्तियों में संकेत और लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं, पर हॉर्नर्स सिंड्रोम से ग्रस्त अधिकांश लोगों में ये तीन संकेत होते हैं: 

  • टोसिस (पलकों का लटक जाना)

  • मिओसिस (एक पुतली का संकुचित हो जाना, जिससे एनाइसोकोरिया हो जाता है)

  • फ़ेशियल एनहाइड्रोसिस (प्रभावित आंख के आस-पास पसीना आना बंद हो जाना)

मद्धिम प्रकाश में पुतली कितनी तेज़ी से फैलती है यह देख कर हॉर्नर्स सिंड्रोम और सिंपल एनाइसोकोरिया में भेद किया जा सकता है। सामान्य पुतलियां (आकार में थोड़ी सी असमानता वाली सामान्य पुतलियां शामिल) कमरे में प्रकाश मद्धिम कर देने के पांच सेकंड के अंदर फैल जाती हैं। हॉर्नर्स सिंड्रोम से प्रभावित पुतली को मद्धिम प्रकाश या अंधेरे कमरे में फैलने में 10 से 20 सेकंड लगते हैं।

हॉर्नर्स सिंड्रोम आमतौर पर किसी अंदर छिपी चिकित्सीय समस्या, जैसे स्ट्रोक, ट्यूमर या मेरु रज्जु की चोट, के कारण होता है। पर कुछ मामलों में इसका कोई कारण नहीं मिल सकता है।

एडीज़ टोनिक प्यूपिल

एडीज़ टोनिक प्यूपिल नामक स्थिति में, आंख में पुतली को संकुचित करने वाले तंत्रिका तंतुओं को नुकसान पहुंचने के कारण पुतली फैल जाती है। प्रभावित पुतली प्रकाश पर भी ख़राब प्रतिक्रिया देती है। एडीज़ टोनिक प्यूपिल आमतौर महिलाओं में होता है जिनकी आयु 20 से 40 वर्ष के बीच है, और 80% मामलों में केवल एक आंख प्रभावित होती है। अधिकांश मामलों में एडीज़ टोनिक प्यूपिल का कारण अज्ञात होता है।

थर्ड नर्व पाल्सी

तीसरी क्रेनियल नर्व (कपाल तंत्रिका) — जिसे ऑकुलोमोटर नर्व भी कहते हैं — आंखों और पलकों का हिलना-डुलना नियंत्रित कनरे वाली कई पेशियों को नियंत्रित करती है, और साथ ही पुतली के आकार को नियंत्रित करने वाली एक पेशी को भी प्रभावित करती है। ऑकुलोमोटर नर्व के लकवे (पाल्सी) के कारण प्रभावित आंख की पुतली फैल जाती है, जिस कारण एनाइसोकोरिया होता है। 

थर्ड नर्व पाल्सी के कारण एनाइसोकोरिया के साथ-साथ अक्सर टोसिस (पलकों का लटक जाना), प्रभावित आंख का “थोड़ा नीचे और बाहर की ओर” हो जाना, और समंजन (पास की वस्तुओं पर फ़ोकस करने की क्षमता) की हानि जैसी समस्याएं भी होती हैं।

थर्ड नर्व पाल्सी के कारणों में किसी एन्यूरिज़्म (धमनी की दीवार फूलना), ट्यूमर या ब्रेन हेमरेज के कारण नर्व पर पड़ने वाला दबाव शामिल है। बच्चों में ऑकुलोमोटर नर्व पाल्सी के कारणों में माइग्रेन और मेनिन्जाइटिस जैसे गंभीर संक्रमण शामिल हैं। 

यदि आपमें या किसी परिजन में थर्ड नर्व पाल्सी के लक्षण उत्पन्न हों, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

मिकैनिकल एनाइसोकोरिया

मिकैनिकल एनाइसोकोरिया में आइरिस या उसे सहारा देने वाली संरचनाओं को नुकसान पहुंचने के कारण पुतलियों का आकार असमान हो जाता है। इस प्रकार के एनाइसोकोरिया के कारणों में आंख को आघात, आंख की सर्जरी की जटिलताएं शामिल हैं ( मोतियाबिंद की सर्जरी), एंगल-क्लोज़र ग्लूकोमा, और आइरिटिस या यूवेइटिस जैसी सूजनकारी स्थितियां शामिल)। 

आइरिस की संरचना में जन्मजात असामान्यताओं को भी मिकैनिकल एनाइसोकोरिया का कारण माना जा सकता है। कुछ उदाहरण:

  • एनिरिडिया (एक आंख की आइरिस की पूर्ण या आंशिक अनुपस्थिति)

  • कोलोबोमा (आइरिस में जन्मजात छेद, जिससे पुतली “चाभी के छेद” या “बिल्ली की आंखों” जैसी दिखती है)

  • एक्टोपिक प्यूपिल (एक वंशानुगत स्थिति जिसमें पुतली और लेंस अपने सामान्य स्थान पर नहीं होते)

आंख के अंदर ट्यूमर होने पर भी मिकैनिकल एनाइसोकोरिया हो सकता है। 

फार्माकॉलजिक एनाइसोकोरिया

इस स्थिति में किसी दवा के साइड इफ़ेक्ट के कारण पुतलियों का आकार असमान हो जाता है।

फार्माकॉलजिक एनाइसोकोरिया के संभावित कारण के रूप में पहचानी गई दवाओं में सलेक्टिव सेरोटोनिन रीअपटेक इन्हिबिटर (SSRI) वर्ग की दवाएं शामिल हैं जिनका उपयोग अवसाद के उपचार में होता है।

वाहन यात्रा में जी मिचलाने के उपचार और कीमोथेरेपी से आने वाली उबकाई के उपचार में प्रयुक्त ट्रांसडर्मल स्कोपॉलमिन पैच से भी एनाइसोकोरिया होने की संभावना देखी गई है। 

कुछ ग्लूकोमा (काला मोतिया) के आई ड्रॉप भी एनाइसोकोरिया कर सकते हैं, विशेष रूप से तब यदि उनका उपयोग केवल एक आंख के ग्लूकोमा के उपचार में किया गया हो। पहचाने गए उदाहरणों में शामिल है पिलोकार्पिन, जो उपचारित आंख की पुतली का आकार घटा सकती है, और ब्रिमॉनिडिन तथा एप्राक्लॉनिडिन, जो उपचारित आंख की पुतली का आकार बढ़ा सकती हैं।   

यदि आपको एनाइसोकोरिया हो तो क्या करें

यदि आपको या किसी अन्य व्यक्ति को अपनी पुतलियों के आकार में अंतर दिखाई पड़े, तो तुरंत अपने नेत्र देखभाल पेशेवर को दिखाएं — विशेष रूप से तब जब आपमें इनमें से कोई लक्षण हो:

  • पलकों का लटक जाना (टोसिस)

  • दोहरी दृष्टि

  • दृष्टि हानि

  • सिरदर्द या गर्दन में दर्द

  • आंख में दर्द

  • हाल ही में लगी सिर या आंख की चोट

यदि एनाइसोकोरिया मामूली है और आपकी पुतलियां आपके नेत्र देखभाल पेशेवर द्वारा किए गए परीक्षणों में सामान्य प्रतिक्रिया देती हैं, तो संभव है कि चिंता की कोई बात न हो। पर, सब कुछ ठीक है यह मान लेने से पहले आपको अपनी असमान पुतलियों का मूल्यांकन करवा लेना चाहिए।

यदि आपमें एनाइसोकोरिया है और एक पुतली दूसरी से बड़ी है, तो अपने नेत्र देखभाल पेशेवर से फोटोक्रोमिक लेंस के बारे में पूछें। चश्मों के ये लेंस धूप में अपने-आप गहरा जाते हैं जिससे, आपको जो भी प्रकाश संवेदनशीलता (फोटोफोबिया) महसूस हो रही हो वह घट जाती है।

फोटोक्रोमिक लेंस आपकी आंखों को हानिकारक यूवी किरणों और उच्च ऊर्जा वाले नीले प्रकाश से भी बचाते हैं — विशेष रूप से बड़ी पुतली वाली आंख को, यदि वह प्रकाश पर सामान्य प्रतिक्रिया नहीं देती है।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें