होम आँखों की देखभाल बच्चों की दृष्टि  |  In English

आपका शिशु: नवजात दृष्टि विकास समयरेखा

माता ने शिशु को धारण किया

जब आपका नवजात शिशु पहली बार अपनी आँखें खोलता है और आपसे नज़रें मिलाता है तो वह पल जीवन के कुछ सबसे ख़ुशनुमा पलों में से एक होता है।

पर यदि वह तुरंत ऐसा न करे तो चिंतित न हों। नवजात शिशु की दृष्टि प्रणाली को विकसित होने में कुछ समय लगता है।

जीवन के पहले सप्ताह में शिशु कुछ अधिक विस्तार से नहीं देखते। जब वे पहली बार दुनिया को देखते हैं तो वह दृश्य अस्पष्ट और धूसर (ग्रे) रंग की छटाओं से बना होता है।

आपके बच्चे की दृष्टि को जन्म के बाद पूरी तरह विकसित होने में कई महीने लगते हैं। नवजात दृष्टि विकास के मील के पत्थरों को जानने (और उन्हें इस यात्रा में आप किस प्रकार मदद दे सकते हैं यह जानने) से यह सुनिश्चित हो सकता है कि आपका बच्चा सामान्य ढंग से चीज़ों को देख रहा हो और अपनी दुनिया का पूरा मज़ा ले रहा हो।

दृष्टि का विकास गर्भावस्था के दौरान शुरू हो जाता है

आपके बच्चे की दृष्टि का विकास जन्म से पहले ही शुरू हो जाता है। आपके शिशु के शरीर और मस्तिष्क के विकास, जिसमें उसकी आँखों और उसके मस्तिष्क में मौजूद दृष्टि केंद्रों का विकास शामिल है, के लिए यह बात बहुत महत्वपूर्ण है कि आप गर्भावस्था के दौरान अपने शरीर की देखभाल कैसे करती हैं।

गर्भावस्था के दौरान आपको जो उचित पोषण, जिसमें सप्लीमेंट्स शामिल हैं,और उचित मात्रा में आराम चाहिए उसके संबंध में अपने डॉक्टर से मिलने वाले निर्देशों का पालन करना न भूलें।

गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान करने और एल्कोहल के सेवन से बचें, क्योंकि ये विष-पदार्थ आपके शिशु के लिए कई समस्याएँ पैदा कर सकते हैं, जिनमें दृष्टि की गंभीर समस्याएँ शामिल हैं।

धूम्रपान गर्भावस्था के दौरान विशेष रूप से हानिकारक होता है, क्योंकि सिगरेट के धुएँ में लगभग 3,000 प्रकार के अलग-अलग रसायन होते हैं जो इंसानों को नुकसान पहुँचा सकते हैं — इनमें कार्बन मोनोऑक्साइड शामिल है जो गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुँचाने वाला एक ज्ञात विष-पदार्थ है।

Expandable

गर्भावस्था के दौरान एस्पिरिन जैसी आम दवाओं का सेवन भी आपके शिशु के लिए ख़तरनाक हो सकता है, और जन्म के समय भार कम होने का तथा प्रसव के दौरान समस्याएँ होने का जोख़िम बढ़ा सकता है। नवजात शिशुओं में जन्म के समय भार कम होने का संबंध दृष्टि संबंधी समस्याओं के जोख़िम में वृद्धि से पाया गया है।

अपनी गर्भावस्था के दौरान कोई भी दवा लेने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से बात करें, इनमें डॉक्टरी पर्चे के बिना मिलने वाली दवाएं, हर्बल सप्लीमेंट और डॉक्टरी पर्चे के बिना मिलने वाले अन्य नुस्खे शामिल हैं।

जन्म के समय दृष्टि विकास

जन्म के कुछ ही समय बाद आपके डॉक्टर या नर्स आपके नवजात शिशु की आँखों की संक्षिप्त जाँच करते हैं ताकि जन्मजात मोतियाबिंद या अन्य गंभीर नवजात नेत्र समस्याओं की संभावना को ख़ारिज किया जा सके।

हालांकि ऐसी नेत्र समस्याएँ दुर्लभ होती हैं, पर उनका शुरुआत में ही पता लगाना और उपचार करना आवश्यक होता है ताकि आपके बच्चे की दृष्टि के विकास पर उनके प्रभाव को न्यूनतम रखा जा सके।

साथ ही, जन्म मार्ग में उपस्थित हो सकने वाले बैक्टीरिया एवं अन्य सूक्ष्मजीवों से होने वाले नेत्र संक्रमणों की रोकथाम के लिए आमतौर पर आपके नवजात शिशु की आँखों में एक एंटीबायोटिक मरहम भी लगा दिया जाता है। दृष्टि के सामान्य विकास के लिए आँखों के शुरुआती संक्रमणों की रोकथाम करना अत्यावश्यक है।

अपने शिशु की दृष्टि को लेकर चिंतित हैं? अपने घर के पास ऑप्टिशियन को खोजें.

जन्म के समय आपका शिशु केवल श्वेत-श्याम और धूसर (ग्रे) रंग की छटाओं में देखता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि रेटिना और मस्तिष्क में उपस्थित वे तंत्रिका कोशिकाएँ पूरी तरह विकसित नहीं हुई होती हैं जो रंग दृष्टि को नियंत्रित करती हैं।

साथ ही, नवजात शिशु की आँखों में पास की वस्तुओं पर फ़ोकस करने की योग्यता (समंजन क्षमता) नहीं होती है। इसलिए यदि आपका शिशु तुरंत ही आपके चेहरे एवं अन्य वस्तुओं पर "फ़ोकस" करता न दिखे, तो चिंता न करें। इस दृष्टि कौशल को विकसित होने में थोड़ा समय लगता है।

इन दृष्टि सीमाओं के बावजूद, अध्ययन दर्शाते हैं कि जन्म के कुछ ही दिन बाद से, नवजात शिशु किसी अजनबी के चेहरे की बजाय अपनी माँ के चेहरे को देखने को प्राथमिकता देने लगते हैं।

शोधकर्ताओं का मानना है कि यह प्राथमिकता विशाल और हाई कंट्रास्ट वाले उद्दीपनों, जैसे माँ की केशरेखा की सीमा और उसके चेहरे के कंट्रास्ट से मिलने वाले उद्दीपन, पर निर्भर करती है। (इन अध्ययनों में, जब इन सीमाओं को स्कार्फ़ या नहाने के कैप से ढक दिया गया, तो नवजात शिशुओं की अपनी माँ के चेहरे को देखने की प्राथमिकता जाती रही।)

इसलिए, अपने नवजात शिशु के साथ दृश्य व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए, अपनी हेयर स्टाइल एक जैसी रखें, और अपने शिशु के जीवन के शुरुआती कुछ सप्ताह के दौरान अपने रंग-रूप और पहनावे में बदलाव से बचें।

अपने नवजात शिशु के बारे में एक और बात पर आपका ध्यान जाएगा कि उसकी आँखें जल्द ही कितनी बड़ी दिखने लगती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि नवजात शिशुओं का सामान्य विकास सिर से पैरों की ओर होता है। जन्म के समय, आपके शिशु की आँखें अपने वयस्क आकार का 65% होती हैं!

पहले माह में आपके शिशु की आँखें

जीवन के पहले माह में आपके शिशु की आँखें प्रकाश के प्रति अधिक संवेदनशील नहीं होती हैं। असल में, 1 माह के नवजात शिशु को यह पता लगाने कि प्रकाश उपस्थित है, के लिए जितनी मात्रा में प्रकाश चाहिए होता है (जिसे प्रकाश संसूचन सीमा कहते हैं) वह किसी वयस्क की तुलना में 50 गुना अधिक होता है।

नर्सरी में कुछ लाइटें ऑन छोड़ देने में कोई बुराई नहीं है — इससे आमतौर पर आपके शिशु की सो पाने की योग्यता पर कोई प्रभाव नहीं होगा — और जब आप उसे देखने के लिए रात में कमरे में जाएंगी तो आपकी अंगुलियां फ़र्नीचर से टकराएंगी भी नहीं!

नवजात शिशु रंग देख पाने की क्षमता बड़ी तेज़ी से विकसित करने लगते हैं। जन्म के एक सप्ताह बाद, वे लाल, नारंगी, पीला और हरा रंग देख सकते हैं। पर नीला और जामुनी रंग देख पाने योग्य होने में उन्हें थोड़ा अधिक समय लगता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नीले प्रकाश की तरंगदैर्घ्य छोटी होती है, और मानव रेटिना में नीले प्रकाश के लिए रंग ग्राहियों की संख्या कम होती है।

और शुरुआत में यदि कभी-कभी आपके शिशु की आँखों में तालमेल दिखाई न पड़े तो चिंता न करें। कभी-कभार दोनों में से एक आँख अपनी सही सीध से अंदर या बाहर की ओर खिसक जाती है। ऐसा होना सामान्य है। पर यदि आँखें अपनी सही सीध से काफ़ी अधिक और लगातार खिसकी हुई बनी रहें, तो तुरंत किसी ऑप्टिशियन से सलाह लें।

सुझाव: अपने नवजात शिशु की दृष्टि को प्रेरित करने के लिए, उसके कमरे को उजले और खुशहाल रंगों से रंग दें। कंट्रास्ट वाले रंगों और आकृतियों वाली कलाकृतियाँ और फ़र्निशिंग लगाएँ। और उसके पालने के ऊपर या पास में उजले रंगों वाला एक घूमने वाला खिलौना भी टाँग दें। सुनिश्चित करें कि उसमें विभिन्न रंग और आकृतियाँ हों।

दृष्टि विकास: माह 2 और 3

दृष्टि विकास में कई प्रगतियाँ दूसरे और तीसरे माह में होती हैं। इस अवधि में नवजात शिशुओं की दृष्टि तीक्ष्णता बढ़ जाती है, और उनकी आँखें आपस में बेहतर तालमेल के साथ काम करने लगती हैं। इस अवस्था में आपके बच्चे की आँखों को चलायमान वस्तुओं का पीछा करना चाहिए और जो वस्तुएँ वह देखता है उस तक पहुँचने की कोशिश शुरू कर देनी चाहिए।

Expandable

साथ ही, विकास की इस अवस्था में नवजात शिशु यह सीख रहे होते हैं कि अपने सिर को घुमाए बिना अपनी नज़र एक वस्तु से हटाकर दूसरी वस्तु पर कैसे टिकाएँ। और उनकी आँखें प्रकाश के प्रति और संवेदनशील होने लगती हैं: 3 माह का हो जाने पर, नवजात शिशु की प्रकाश संसूचन सीमा नीचे आने लगती है। अतः उनकी झपकियों और सोने के समय पर आप लाइटें और मद्धम कर दें तो बेहतर रहेगा।

सुझाव: आपके 2 से 3 माह के बच्चे के दृष्टि विकास को प्रेरित करने के लिए:

  • उसके कमरे में नई-नई वस्तुएँ रखें या उसके पालने का स्थान बार-बार बदलें ताकि वह नई-नई चीज़ें देख सके।

  • एक नाइट लाइट ऑन रखें ताकि जब वह अपने पालने में जगा हुआ हो तो उसे दृश्यात्मक उद्दीपन मिल सके।

  • हालांकि सडेन इन्फ़ेंट डेथ सिंड्रोम (एसआईडीएस) का जोख़िम घटाने के लिए नवजात शिशुओं को पीठ के बल लिटाना चाहिए, पर जब वे जागे हुए हों और आप उन पर नज़र रख सकते हों तब उन्हें पेट के बल लिटाएँ। यह स्थिति दृष्टि और गति से संबंधित महत्वपूर्ण अनुभव प्रदान कर सकती है।

दृष्टि विकास: माह 4 से 6

6 माह का होते-होते, मस्तिष्क के दृष्टि केंद्रों में महत्वपूर्ण प्रगति हो चुकी होती है, जिससे आपका नवजात अधिक स्पष्टता से देख पाता है, अपनी आँखों को अधिक तेज़ी से चला पाता है, और चलायमान वस्तुओं का अधिक सटीकता से पीछा कर पाता है।

जन्म के समय दृष्टि तीक्ष्णता लगभग 20/400 (6/120) होती है जो 6 माह का होते-होते बढ़कर लगभग 20/25 (6/7.5) हो जाती है। इस आयु में रंगों को पहचानने की क्षमता भी किसी वयस्क जैसी हो जानी चाहिए, जिससे आपका बच्चा इंद्रधनुष के सभी रंग देख पाने में सक्षम हो जाता है।

4 से 6 माह की आयु में शिशुओं की आँखों और हाथों के बीच का तालमेल भी बेहतर हो जाता है, जिससे वे तेज़ी से वस्तुएँ ढूंढ और उठा पाते हैं और बोतल (एवं कई अन्य चीज़ों) को ठीक से अपने मुँह की ओर ले जा पाते हैं।

छठवाँ माह एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है क्योंकि यही वह समय है जब आपको अपने शिशु की पहली नेत्र जाँच के बारे में सोचना चाहिए।

यदि आवश्यक हो तो योग्य ऑप्टोमेट्रिस्ट 6 माह जितने छोटे बच्चे की भी जाँच कर सकता है, पर आमतौर पर वे स्कूली आयु (3/4 वर्ष+) से आँखों की नियमित जाँच करवाने के सुझाव देते हैं।

यदि आपको कोई चिंता हो तो आप अपने नियमित डॉक्टर या किसी प्रशिक्षित नर्स से भी बात कर सकते हैं जो आपको अगला कदम सुझा सकते हैं।

अपने 6 माह के शिशु की आँखों की सबसे विस्तृत जाँच के लिए, किसी ऐसे ऑप्टिशियन की सेवाएँ लें जो बच्चों की दृष्टि एवं दृष्टि विकास में विशेषज्ञता रखता हो।

दृष्टि विकास: माह 7 से 12

अब आपका बच्चा सचल हो चला है, इधर-उधर रेंगने लगा है, और आपकी कल्पना से कहीं अधिक दूरियाँ तय करने लगा है। अब वह दूरियों का बेहतर अनुमान लगाने लगा है और वस्तुओं को पकड़ने और फेंकने में पहले से अधिक सटीक हो गया है। (संभलकर!)

आपके बच्चे के लिए यह विकास की एक महत्वपूर्ण अवधि है। इस अवस्था में, नवजात शिशुओं में अपने शरीर के प्रति एक बेहतर जागरुकता विकसित हो रही होती है, और वे अपनी दृष्टि और अपने शरीर की क्रियाओं के बीच तालमेल बैठाना सीख रहे होते हैं।

यही वह समय भी है जब आपको अपने शिशु को ख़तरों से दूर रखने के लिए पहले से अधिक मेहनत करनी होती है। अब चूंकि वह अपने परिवेश को भौतिक रूप से जानना-समझना शुरू कर रहा है इसलिए टक्करें होंगी, खरोंचें लगेंगी और अन्य गंभीर चोटें भी लग सकती हैं।

उदाहरण के लिए, सफाई के सामान वाली अलमारी पर ताला लगाकर रखें, और ज़ीनों के आगे बैरियर लगाएँ।

यदि आपके शिशु की आँखों का रंग बदलने लगे तो चिंतित न हों। अधिकतर शिशु नीली आँखों के साथ जन्म लेते हैं क्योंकि आइरिस में गहरे रंग वाले पिगमेंट जन्म के समय विकसित नहीं हुए होते हैं। समय के साथ, आइरिस में गहरे रंग वाला पिगमेंट अधिक बनता है, जिससे प्रायः आपके बच्चे की आँखों का रंग नीले से बदलकर कत्थई, हरा, धूसर या मिश्रित रंग का हो जाता है, जैसे बादामी-लाल।

सुझाव: आपके बच्चे की आँखों, हाथों और शरीर के बीच के तालमेल को बढ़ावा देने के लिए, उसके साथ फ़र्श पर बैठें और उसे रेंगकर वस्तुओं तक पहुँचने के लिए प्रेरित करें। उसका कोई पसंदीदा खिलौना फ़र्श पर उसकी पहुँच से बस थोड़ी दूर रख दें और उसे उस तक पहुँचने के लिए प्रेरित करें। साथ ही, उसे ऐसी वस्तुएँ और खिलौने भी भरपूर संख्या में दें जिन्हें वह खोलकर अलग कर सकता हो और फिर से जोड़ सकता हो।

आँखों की सीध से संबंधित समस्याएँ

इस बारे में ध्यान से देखना न भूलें कि आपके शिशु की आँखें एक टीम के रूप में साथ मिलकर कितनी अच्छी तरह काम करती हैं। भेंगापन का अर्थ आँखों के सही सीध में न होने से है, और यह महत्वपूर्ण है कि इसका शुरुआत में ही पता लगा लिया जाए और उपचार किया जाए, ताकि दोनों आँखों में दृष्टि का विकास ठीक से हो।

उपचार नहीं करने पर भेंगेपन के कारण एम्ब्लायोपिया या "आलसी आँख" नामक समस्या हो सकती है।

हालांकि नवजात शिशु की आँखों को आपसी तालमेल सीखने में कुछ महीने लगते हैं, पर यदि आपको लगे कि आपके शिशु की कोई आँख लगातार ग़लत सीध में रहती है या दूसरी आँख से साथ तालमेल में नहीं चलती है, तो जल्द से जल्द किसी ऑप्टिशियन से सलाह लें।

समय से पहले जन्मे शिशुओं की दृष्टि संबंधी समस्याएँ

सामान्य गर्भावस्था लगभग 40 सप्ताह (280 दिन) की होती है। World Health Organization के अनुसार, गर्भधारण से 37 सप्ताह से पहले जन्मे शिशुओं को समय से पहले जन्मा माना जाता है।

समय से पहले जन्मे शिशुओं में आँखों की समस्याएँ होने का जोख़िम सामान्य शिशुओं से अधिक होता है, और शिशु का जन्म जितना पहले हुआ हो, जोख़िम की संभावना उतनी ही अधिक होती है।

समय से पहले जन्म के साथ जुड़ी दृष्टि समस्याओं में शामिल हैं:

समय-पूर्व जन्म के कारण रेटिना विकृति (रेटिनोपैथी ऑफ़ प्रीमेच्योरिटी, आरओपी)

इसमें असामान्य तंतु ऊतक और रक्त वाहिकाएँ, रेटिना के सामान्य ऊतक का स्थान ले लेती हैं। आरओपी के कारण रेटिना में घाव हो सकते हैं, दृष्टि कमज़ोर हो सकती है, और रेटिना अपने आधार से अलग हो सकता है। रेटिनोपैथी ऑफ़ प्रीमेच्योरिटी के गंभीर मामलों में अंधता भी हो सकती है।

समय से पहले जन्मे सभी शिशुओं में आरओपी का जोख़िम होता है। जन्म के समय भार बहुत कम होना जोख़िम को और बढ़ा देता है, विशेष रूप से तब यदि नवजात को जन्म के तुरंत बाद अधिक ऑक्सीजन वाले परिवेश में रखने की आवश्यकता पड़ी हो।

यदि आपका शिशु समय से पहले जन्मा है, तो अपने प्रसूतिविज्ञानी से कहें कि वे आपके शिशु को किसी बच्चों के ऑफ्थेल्मॉलजिस्ट को रेफ़र कर दें, ताकि वह आपके बच्चे की आँखों की जाँच करके आरओपी होने की संभावना ख़ारिज कर सके।

अक्षिदोलन या निस्टैग्मस

इसमें दोनों आँखें अपने-आप आगे-पीछे हिलती रहती हैं।

अधिकतर मामलों में, अक्षिदोलन या निस्टैग्मस के कारण आँखें धीरे-धीरे एक दिशा में खिसकती हैं, और फिर "झटके" से वापस दूसरी दिशा में चली जाती हैं। आँखों की यह गति आमतौर पर आड़ी होती है, पर वह तिरछी या गोल-गोल भी हो सकती है।

अक्षिदोलन जन्म के समय भी मौजूद हो सकता है, या फिर यह कई सप्ताह या माह के बाद भी विकसित हो सकता है। इसके जोख़िम कारकों में दृष्टि तंत्रिका का अपूर्ण विकास, एल्बिनिज़्म (रंजकहीनता यानी त्वचा, बालों व आँखों में रंग का आंशिक या पूर्ण अभाव), और जन्मजात मोतियाबिंद शामिल हैं। शिशु की दृष्टि और दृष्टि विकास पर कितना प्रभाव पड़ेगा यह आमतौर पर इससे तय होता है कि आँखें कितनी हिलती हैं।

यदि आपको अपने शिशु में अक्षिदोलन के संकेत दिखें, तो तुरंत किसी ऑप्टिशियन से सलाह लें।

और आख़िर में, यह जान लें कि गर्भावस्था में धूम्रपान करने से समय से पहले प्रसव होने का जोख़िम अच्छा-ख़ासा बढ़ जाता है।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें