होम अवस्थाएँ आँखों की अवस्थाएँ A-Z |  In English

एम्ब्लायोपिया: आलसी आँख के लक्षण और उपचार

लड़की अपनी आलसी आँख दिखाते हुए

एम्ब्लायोपिया दृष्टि विकास का एक विकार है जिसमें आँख, प्रिस्क्रिप्शन चश्मों या कॉन्टेक्ट लेंस के उपयोग के बाद भी सामान्य दृष्टि तीक्ष्णता प्राप्त नहीं कर पाती है।.

आलसी आँख भी कहलाने वाले एम्ब्लायोपिया की शुरूआत नवजात शिशुओं और छोटे बच्चों में होती है। अधिकांश मामलों में केवल एक आँख प्रभावित होती है। पर कुछ मामलों में दोनों आँखों की दृष्टि तीक्ष्णता घट जाती है।

यदि आलसी आँख का पता शुरूआत में ही लग जाए और तुरंत इसका उपचार करवाया जाए, तो दृष्टि हानि से बचा जा सकता है। पर यदि आलसी आँख का उपचार न कराया जाए, तो इससे प्रभावित आँख में गंभीर दृष्टि अशक्तता उत्पन्न हो सकती है।

अंग्रेजी में प्रकाशित 73 अध्ययनों के एक हालिया विश्लेषण के अनुसार, दुनिया में एम्ब्लायोपिया की व्यापकता कुल जनसंख्या की लगभग 1.75 प्रतिशत है।

दुनिया के अलग-अलग भागों में एम्ब्लायोपिया की व्यापकता अलग-अलग है; इसकी सर्वाधिक व्यापकता यूरोपीय देशों में है (3.67 प्रतिशत)।

एम्ब्लायोपिया के संकेत और लक्षण

चूंकि एम्ब्लायोपिया आमतौर पर नवजात दृष्टि विकास की समस्या है, अतः इस अवस्था के लक्षणों की पहचान कठिन हो सकती है।

Expandable

आप अपने बच्चे को आँख की पट्टी का मज़ाक बनाकर उन्हें उसकी इस्तमाल करवा सकते हैं

हालांकि भेंगापन, एम्ब्लायोपिया का एक आम कारण है। तो यदि आपको अपने शिशु या छोटे बच्चे की आँखें भेंगी दिखें या वे सही सीध में न दिखें, तो तुरंत किसी ऑप्टिशियन को दिखाएँ — बच्चों की दृष्टि में विशेषज्ञता रखने वाले ऑप्टिशियन बेहतर रहेंगे।

यदि आपके बच्चे की एक आँख ढक देने पर वह रोता/चिल्लाता हो या परेशान करता हो तो यह इस बात का एक और संकेत है कि उसे एम्ब्लायोपिया हो सकता है।

आप यह आसान सा स्क्रीनिंग परीक्षण घर पर ही कर सकते हैं; जब आपका बच्चा आँखों की ज़रूरत वाला कोई काम कर रहा हो, जैसे, जब वह टेलीविज़न देख रहा हो, तो एक-एक करके उसकी दोनों आँखों को थोड़ी-थोड़ी देर के लिए ढकें।

यदि एक आँख को ढकने पर आपका बच्चा परेशान नहीं होता है, पर दूसरी आँख को ढकने पर आपको रोकने की कोशिश करता है, तो इससे यह संकेत मिलता है कि आपने जो पहली आँख ढकी थी वह "सामान्य" है, और दूसरी वाली आँख में एम्ब्लायोपिया है, जिसके कारण उसकी दृष्टि धुंधली है।

पर यह आसान सा स्क्रीनिंग परीक्षण, आँखों की संपूर्ण जाँच का स्थान नहीं ले सकता है।

आपके बच्चे की दोनों आँखों में सामान्य दृष्टि हो और उसकी दोनों आँखें सही तालमेल के साथ मिलकर काम करती हों यह सुनिश्चित करने के लिए डॉक्टर की सलाह के अनुसार अपने बच्चे की आँखों की जाँच करवाएँ।

एम्ब्लायोपिया क्यों होता है?

मूल कारण के आधार पर एम्ब्लायोपिया तीन प्रकार का होता है:

स्ट्रेबिस्मिक (भेंगेपन के कारण) एम्ब्लायोपिया

भेंगापन एम्ब्लायोपिया का सबसे आम कारण है। आँखों के ग़लत सीध में होने के कारण उत्पन्न दोहरी दृष्टि की समस्या से बचने के लिए, मस्तिष्क उस आँख से आने वाले संकेतों को अनदेखा कर देता है जो ग़लत सीध में है, और इस कारण उस आँख ("आलसी आँख") में एम्ब्लायोपिया हो जाता है। इस प्रकार के एम्ब्लायोपिया को स्ट्रेबिस्मिक (भेंगेपन के कारण) एम्ब्लायोपिया कहते हैं।

अपवर्तक (रेफ्रेक्टिव) एम्ब्लायोपिया

कभी-कभी दोनों आँखों के बिल्कुल सही सीध में होने के बावजूद उनमें असमान अपवर्तक (रेफ्रेक्टिव) त्रुटियों के कारण एम्ब्लायोपिया हो जाता है। उदाहरण के लिए, हो सकता है कि किसी एक आँख की दूर की या पास की नज़र काफ़ी कमज़ोर हो जो ठीक न की गई हो, वहीं दूसरी आँख मेंयह दिक्कत न हो।

या फिर, हो सकता है कि किसी एक आँख में अच्छा-ख़ासा एस्टिग्मेटिज़्म हो पर दूसरी आँख में न हो।   ऐसे मामलों में, मस्तिष्क उस आँख पर निर्भर हो जाता है जिसमें ठीक नहीं की गई अपवर्तक (रेफ्रेक्टिव) त्रुटि कम होती है, और वह दूसरी आँख की धुंधली दृष्टि को "अनदेखा" कर देता है, जिससे, उपयोग न होने के कारण, उस दूसरी आँख में एम्ब्लायोपिया हो जाता है।

इस प्रकार के एम्ब्लायोपिया को अपवर्तक (रेफ्रेक्टिव) एम्ब्लायोपिया (या एनाइसोमेट्रोपिक या असमदृष्टि एम्ब्लायोपिया) कहते हैं।

डेप्रिवेशन (वंचन) एम्ब्लायोपिया

इस प्रकार की आलसी आँख किसी ऐसी चीज़ के कारण होती है जो प्रकाश को शिशु की आँख में प्रवेश करने और फ़ोकस होने से रोक देती है, जैसे जन्मजात मोतियाबिंद।दृष्टि विकास सामान्य ढंग से होने देने के लिए जन्मजात मोतियाबिंद का तुरंत उपचार ज़रूरी होता है।

एम्ब्लायोपिया का उपचार

अपवर्तक (रेफ्रेक्टिव) एम्ब्लायोपिया के कुछ मामलों में, दोनों आँखों की रेफ्रेक्टिव त्रुटियों को चश्मों या कॉन्टेक्ट लेंस द्वारा ठीक कर देने मात्र से सामान्य दृष्टि हासिल हो जाती है। हालांकि, आमतौर पर "सामान्य" आँख को कुछ हद तक ढकना ज़रूरी होता है ताकि मस्तिष्क एम्ब्लायोपिया ग्रस्त आँख से मिलने वाले संकेतों पर ही ध्यान दे और उस आँख में सामान्य दृष्टि विकास सक्षम करे।

स्ट्रेबिस्मिक (भेंगेपन के कारण) एम्ब्लायोपिया के उपचार में प्रायः भेंगेपन की सर्जरी करके आँखों को सीधा किया जाता है, जिसके बाद सामान्य आँख को ढका जाता है और प्रायः किसी प्रकार की दृष्टि चिकित्सा (जिसे ऑर्थोप्टिक्स भी कहते हैं) की जाती है ताकि दोनों आँखें आपसी तालमेल के साथ बराबर काम करें।

सामान्य आँख को हर दिन कई घंटों तक या पूरे-पूरे दिन ढके रखने की ज़रूरत पड़ सकती है और इसे कई सप्ताह या महीनों तक करना पड़ सकता है।

यदि बच्चे द्वारा बार-बार पैच हटाने से आपको समस्या हो रही हो, तो आप विशेष रूप से बनाए गए प्रोस्थेटिक कॉन्टेक्ट लेंस का उपयोग कर सकते हैं जो सामान्य आँख में प्रकाश नहीं जाने देता है, और आपके बच्चे के रूप को प्रभावित भी नहीं करता है।

हालांकि प्रोस्थेटिक लेंस आँखों के पैच से कहीं मंहगे होते हैं और उनके लिए कॉन्टेक्ट लेंस जाँच और फ़िटिंग की भी ज़रूरत पड़ती है, पर वे एम्ब्लायोपिया के उपचार के ऐसे कठिन मामलों में बहुत उपयोगी सिद्ध हो सकते हैं जिनमें रोगी सामान्य आँख पर पैच पहनने के निर्देश के पालन में दिक्कतें खड़ी करता हो।

कुछ बच्चों में, एम्ब्लायोपिया के उपचार के लिए आँख के पैच की बजाय एट्रोपिन आई ड्रॉप्स का उपयोग किया जाता है। आपके बच्चे की सामान्य आँख में रोज़ाना एक ड्रॉप डाली जाती है (आपके ऑप्टिशियन आपको निर्देश देंगे)। एट्रोपिन सामान्य आँख की दृष्टि को धुंधला देती है, जिस कारण आपका बच्चा एम्ब्लायोपिया वाली आँख का अधिक उपयोग करने पर विवश हो जाता है जिससे उस आँख की शक्ति बढ़ती है।

एट्रोपिन आई ड्रॉप्स के उपयोग का एक लाभ यह है कि आपको यह सुनिश्चित करने के लिए अपने बच्चे पर लगातार नज़र नहीं रखनी पड़ती है कि वह पैच पहने हुए हो।

उपचार से पहले 20/40 (6/12) से 20/100 (6/30) तक के एम्ब्लायोपिया से ग्रस्त 7 वर्ष से कम आयु वाले 419 बच्चों के एक विशाल अध्ययन में, एट्रोपिन चिकित्सा के परिणाम, आँख पर पैच पहनने के परिणामों के लगभग समान पाए गए (हालांकि, पैच पहनने वाले समूह में एम्ब्लायोपिया ग्रस्त आँख की दृष्टि तीक्ष्णता में थोड़ा अधिक सुधार देखा गया)। फलस्वरूप, ऐसे ऑप्टिशियन भी एम्ब्लायोपिया के उपचार के लिए एट्रोपिन को अपनी पहली पसंद बना रहे हैं जो पहले इस पर संदेह करते थे।

हालांकि, एट्रोपिन के कुछ साइड इफ़ेक्ट भी हैं जिन्हें नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए: प्रकाश संवेदनशीलता (क्योंकि आँख की पुतली लगातार फैली रहती है), लालिमा के साथ गर्मी की लहर, और लंबे समय तक एट्रोपिन के उपयोग के बाद सिलियरी पेशियों का संभावित लकवा, जिससे आँख की समंजन क्षमता, या फ़ोकस बदलने की योग्यता प्रभावित हो सकती है।

आलसी आँख से ग्रस्त बड़े बच्चों और वयस्कों के लिए सहायता

वर्षों तक विशेषज्ञ यह मानते रहे कि यदि एम्ब्लायोपिया का उपचार कम आयु में ही शुरू नहीं किया जाता है तो दृष्टि तीक्ष्णता में सुधार संभव नहीं है। माना जाता था कि लगभग 8 वर्ष की आयु, यह उपचार शुरू करने का महत्वपूर्ण समय थी।

पर अब ऐसा प्रतीत होता है कि दीर्घस्थायी आलसी आँख से ग्रस्त बड़े बच्चों को, यहाँ तक कि वयस्कों को भी, एम्ब्लायोपिया के ऐसे उपचारों से लाभ मिल सकता है जिनमें कंप्यूटर प्रोग्राम का उपयोग करके तंत्रिकीय बदलाव लाए जाते हैं जिनसे दृष्टि तीक्ष्णता और कंट्रास्ट के प्रति संवेदनशीलता में सुधार होते हैं.

आलसी आँख के उपचार के लिए कंप्यूटर प्रोग्राम उपलब्ध हैं और बच्चों की दृष्टि एवं दृष्टि चिकित्सा में विशेषज्ञता रखने वाले ऑप्टिशियनों द्वारा प्रयोग किए जा रहे हैं।

कम आयु में पता लगाना और उपचार करना ज़रूरी है

हालांकि अब यह संभव है कि एम्ब्लायोपिया के आधुनिक उपचारों से बड़े बच्चों और वयस्कों की दृष्टि में सुधार हो जाए, पर अधिकांश विशेषज्ञों की यही राय है कि सामान्य दृष्टि विकास के लिए और, एम्ब्लायोपिया के उपचार से सर्वोत्तम दृष्टि परिणाम हासिल करने के लिए, आलसी आँख का कम आयु में ही पता लगाना एवं उपचार करना बेहतर है।

एम्ब्लायोपिया अपने-आप ठीक नहीं होता है, और आलसी आँख का उपचार नहीं कराने से स्थायी दृष्टि समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं। यदि आगे चलकर आपके बच्चे की सामान्य आँख में कोई रोग हो जाता है या उसे कोई चोट लग जाती है, तो वह एम्ब्लायोपिया ग्रस्त आँख की कमज़ोर दृष्टि पर निर्भर हो जाएगा, अतः एम्ब्लायोपिया का शुरू में ही उपचार कराना सर्वोत्तम है।

कुछ मामलों में, छोटे बच्चों में ठीक नहीं कराई गईं अपवर्तक (रेफ्रेक्टिव) त्रुटियाँ और एम्ब्लायोपिया ऐसा व्यवहार उत्पन्न कर देते हैं जो विकास संबंधी या अन्य प्रकार के विकारों का संकेत देते हैं, जबकि समस्या सिर्फ़ और सिर्फ़ आँखों की होती है।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें