होम आई केयर आँखों की जाँचें  |  In English

निकट दृष्टि-दोष (मायोपिया) में क्रमानुसार वृद्धि एक चिंता का विषय क्यों है

टैबलेट देख रहे बच्चे

क्या आपके बच्चे की आँखें साल-दर-साल खराब हो रही हैं?

कुछ बच्चे जो निकट दृष्टि-दोष (मायोपिया) विकसित करते हैं, पूरे स्कूल के वर्षों के दौरान, जिसमें हाई स्कूल के वर्ष भी शामिल हैं, उनके निकट दृष्टि-दोष में निरंतर वृद्धि होती है।

और जबकि हर साल वार्षिक नेत्र परीक्षण और नए चश्मे की लागत कुछ परिवारों के लिए एक वित्तीय तनाव हो सकता है, निकट दृष्टि-दोष की क्रमानुसार वृद्धि से जुड़े दीर्घकालिक जोखिम और भी अधिक हो सकते हैं।

अधिकाधिक बच्चे निकट दृष्टि-दोष वाले होते जा रहे हैं

निकट दृष्टि-दोष दुनिया में सबसे आम नेत्र विकारों में से एक है। निकट दृष्टि-दोष का प्रचलन यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका के वयस्कों में लगभग 30 से 40 प्रतिशत है, और अनेक पूर्व एशियाई देशों में 80 प्रतिशत या उससे अधिक है।

और यह अनुमान है कि वर्ष 2050 तक, दुनिया की लगभग आधी आबादी निकट दृष्टि-दोष से प्रभावित होगी।

निकट दृष्टि-दोष की गंभीरता के अनुसार वर्गीकरण

अन्य सभी अपवर्तक त्रुटियों की तरह निकट दृष्टि-दोष को डायोप्टर्स (D) नामक ऑप्टिकल इकाइयों में मापा जाता है।

लेंस की पावर जो निकट दृष्टि-दोष को ठीक करती हैं, उनके पहले माइनस साइन (–) आता है और आमतौर पर 0.25 D की बढ़त में मापी जाती हैं।

निकट दृष्टि-दोष की गंभीरता को अक्सर इस तरह वर्गीकृत किया जाता है:

  • हल्का निकट दृष्टि-दोष: -0.25 से -3.00 D

  • मध्यम निकट दृष्टि-दोष: -3.25 से -5.00 D या -6.00 D

  • उच्च निकट दृष्टि-दोष: -5.00 D या -6.00 D से अधिक

हल्का निकट दृष्टि-दोष आमतौर पर किसी व्यक्ति की आँखों की स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को नहीं बढ़ाता है। परन्तु मध्यम और उच्च निकट दृष्टि-दोष कभी-कभी गंभीर, दृष्टि के लिए खथरनाक दुष्प्रभावों से जुड़े होते हैं।

जब निकट दृष्टि-दोष-संबंधी आँखों की समस्याएँ और दृष्टि हानि होती है, तो उच्च निकट दृष्टि-दोष को अपक्षयी निकट दृष्टि-दोष या रोग संबंधी निकट दृष्टि-दोष भी कहा जाता है।

उच्च निकट दृष्टि-दोष वाले वयस्क जब छोटे बच्चे थे, आमतौर पर तब उनका निकट दृष्टि-दोष शुरू हुआ, और साल दर साल उनके निकट दृष्टि-दोष में क्रमिक वृद्धि होती गई।

निकट दृष्टि-दोष-संबंधी आँखों की समस्याएँ

आँखों की समस्याओं के साथ जोड़े जा सकने वाले निकट दृष्टि-दोषों में ये शामिल हैं:

मोतियाबिंद। कोरिया के लोगों में सकते हैं और मोतियाबिंद की शल्यचिकित्सा के परिणामों पर एक हाल के अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि सामान्य आँखों की तुलना में उच्च निकट दृष्टि-दोष वाली आँखों में मोतियाबिंद जल्दी विकसित होता है। इसके अलावा, उच्च निकट दृष्टि-दोष वाली आँखों में सह-रोग और जटिलताओं का अधिक प्रसार हुआ था, जैसे कि रेटिना का डिटैचमेंट।

और 49 से 97 वर्ष की उम्र के 3,600 से अधिक वयस्कों के एक ऑस्ट्रेलियाई अध्ययन में पाया गया कि अधिक पावर के निकट दृष्टि-दोष के साथ मोतियाबिंद होने की संभावना बढ़ जाती है। कम निकट दृष्टि-दोष वाले लोगों की तुलना में उच्च निकट दृष्टि-दोष वाले प्रतिभागियों में एक प्रकार के मोतियाबिंद होने की संभावना दोगुनी थी।

ग्लूकोमा। निकट दृष्टि-दोष — यहाँ तक कि हल्का और मध्यम निकट दृष्टि-दोष — ग्लूकोमा के एक बढ़े हुए जोखिम से जुड़ा है। ऊपर वर्णित उसी ऑस्ट्रेलियाई अध्ययन में, ग्लूकोमा आरम्भ होने के मामलों, को हल्के निकट दृष्टि-दोष के साथ वाली 4.2 प्रतिशत आँखों में और मध्यम से उच्च निकट दृष्टि-दोष वाली 4.4 प्रतिशत आँखों में, जबकि बिना निकट दृष्टि-दोष वाली 1.5 प्रतिशत आँखें में पाया गया था।

अध्ययन के लेखकों ने निष्कर्ष निकाला कि निकट दृष्टि-दोष और ग्लूकोमा के बीच एक मजबूत संबंध है, और अध्ययन में निकट दृष्टि-दोष प्रतिभागियों में बिना निकट दृष्टि-दोष वोले प्रतिभागियों की तुलना में ग्लूकोमा का दो से तीन गुना अधिक जोखिम था।

इसके अलावा, एक चीनी अध्ययन में पाया गया कि निकट दृष्टि-दोष की गंभीरता के साथ ग्लूकोमा निकटता से जुड़ा था। 40 वर्ष या उससे अधिक आयु के वयस्कों में, मध्यम निकट दृष्टि-दोष वाले अध्ययन प्रतिभागियों की तुलना में उच्च निकट दृष्टि-दोष वालों में ग्लूकोमा होने की संभावना दुगुनी से भी अधिक थी, और कम निकट दृष्टि-दोष वाले लोगों की तुलना में इस रोग होने की संभावना तिगुनी से भी अधिक थी।

उन प्रतिभागियों की तुलना में जिनको या तो निकट दृष्टि-दोष नहीं था या जो दूर दृष्टि-दोष वाले थे, उच्च निकट दृष्टि-दोष वालों में ग्लूकोमा होने की संभावना 4.2 से 7.6 गुना अधिक थी।

रेटिनल डिटैचमेंट। अमेरिकन जर्नल ऑफ़ एपिडेमियोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि रेटिनल डिटैचमेंट के लिए निकट दृष्टि-दोष एक स्पष्ट जोखिम कारक था।.

परिणामों से पता चलता है कि हल्के निकट दृष्टि-दोष वाली आँखों में निकट दृष्टि-दोष से रहित आँखों की तुलना में रेटिनल डिटैचमेंट का जोखिम चार गुना अधिक था। मध्यम और उच्च निकट दृष्टि-दोष वाली आँखों के बीच जोखिम 10 गुना बढ़ गया था। अध्ययन लेखकों ने यह निष्कर्ष भी निकाला कि आघात के कारण नहीं होने वाली रेटिनल डिटैचमेंट के लगभग 55 प्रतिशत मामले निकट दृष्टि-दोष के कारण होते हैं।.

ऊपर उल्लिखित कोरियाई अध्ययन में, आँखों के लंबे आकार (ऐक्सियल निकट दृष्टि-दोष) के कारण उच्च निकट दृष्टि-दोष वाले प्रतिभागियों में, मोतियाबिंद शल्यचिकित्सा के बाद रेटिनल डिटैचमेंट की घटना 1.72 प्रतिशत थी, जबकी सामान्य आकार के आँखों वाले प्रतिभागियों में 0.28 प्रतिशत थी।

यूके में किए गए एक अध्ययन में, जिसने मोतियाबिंद शल्यचिकित्सा के बाद रेटिनल डिटैचमेंट की घटना का मूल्यांकन किया, 2.4 प्रतिशत अत्यधिक निकट दृष्टि-दोष वाली आँखों ने मोतियाबिंद शल्यचिकित्सा के बाद सात साल के भीतर डिटैच्ड रेटिना विकसित किया, जिसकी तुलना में मोतियाबिंद सर्जरी की हुई किन्हीं भी अपवर्तक त्रुटि वाली आँखों में यह घटना 0.5 से 1 प्रतिशत हुई।

बढ़ते निकट दृष्टि-दोष (मायोपिया) के लिए आप क्या कर सकते हैं

अपने बच्चे के निकट दृष्टि-दोष (मायोपिया) की प्रगति को धीमा करने में सहायता करने के लिए जो सबसे अच्छी चीज आप कर सकते हैं, वह है वार्षिक नेत्र परीक्षण करवाना ताकि आपका नेत्र चिकित्सक यह देख सके कि उसकी आँखें कितनी तेज़ी से बदल रही हैं।

अक्सर, निकट दृष्टि-दोष वाले बच्चे अपनी दृष्टि के बारे में शिकायत नहीं करते हैं, इसलिए यदि वे कहते हैं कि उनकी दृष्टि ठीक लगती है, तो भी वार्षिक परीक्षण करवाएँ।

यदि आपके बच्चे की आँखें तेज़ी से या नियमित रूप से बदल रही हैं, तो अपने नेत्र चिकित्सक से ortho-k कॉन्टैक्ट लेंस या अन्य निकट दृष्टि-दोष नियंत्रण उपायों के बारे में पूछें ताकि निकट दृष्टि-दोष की प्रगति धीमी हो सके।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें