होम आँखों की देखभाल डिजिटल नेत्र तनाव |  In English

क्या फोटोक्रोमिक चश्मों के लेंस नीला प्रकाश रोकते हैं?

क्या फोटोक्रोमिक (ट्रांज़िशंस) लेंस नीला प्रकाश रोकते हैं? हां, पर नीले प्रकाश से सुरक्षा वह मुख्य कारण नहीं है जिसके चलते लोग फोटोक्रोमिक लेंसों का उपयोग करते हैं। 

अधिकतर लोग इनडोर (कृत्रिम) प्रकाश से आउटडोर (प्राकृतिक) प्रकाश में जाना आसान बनाने के लिए फोटोक्रोमिक लेंस खरीदते हैं। चूंकि फोटोक्रोमिक लेंसों में धूप में गहरा जाने और यूवी किरणों से सुरक्षा देने की विशेषता होती है, अतः वे प्रेस्क्रिप्शन वाले धूप के चश्मों की ज़रूरत ख़त्म कर देते हैं।

साथ ही, फोटोक्रोमिक लेंसों का एक तीसरा लाभ भी है: वे नीले प्रकाश को रोकते हैं — सूर्य से भी और आपके डिजिटल स्क्रीनों से भी।

फोटोक्रोमिक लेंस स्क्रीन से निकलने वाले नीले प्रकाश को रोकते हैं

क्या फोटोक्रोमिक लेंस कंप्यूटर उपयोग के लिए अच्छे होते हैं? बिल्कुल!

हालांकि यूवी किरणें और नीला प्रकार समान चीज़ें नहीं हैं, पर फिर भी, नीला प्रकाश आपकी आंखों के लिए हानिकारक हो सकता है, विशेष रूप से तब जब आप सीधी धूप में लंबे समय तक रहते हैं, पर तब भी जब आप डिजिटल स्क्रीन के सामने समय बिताते हैं। सभी प्रकार की अदृश्य और आंशिक रूप से दृश्य किरणों का आपकी आंखों के स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव हो सकता है।

फोटोक्रोमिक लेंस प्रकाश के स्पेक्ट्रम के सर्वोच्च ऊर्जा स्तर के विरुद्ध सुरक्षा देते हैं, यानि वे नीले प्रकाश से भी सुरक्षा देते हैं और कंप्यूटर उपयोग के लिए अच्छे होते हैं।

संबंधित सामग्री देखें: कंप्यूटर चश्मे: कंप्यूटर से होने वाले आंख के तनाव से राहत

नीले प्रकाश के दुष्प्रभाव

नीला प्रकाश, जो न केवल सूर्य के प्रकाश में होता है बल्कि उन डिजिटल स्क्रीनों से भी निकलता है जिनसे हम बहुत अधिक जुड़ चुके हैं, यह प्रकाश न केवल आंखों में तनाव पैदा करता है (जिससे सिरदर्द और धुंधली दृष्टि जैसी समस्याएं हो सकती हैं) बल्कि आपकी नींद के चक्र को भी अस्त-व्यस्त कर सकता है।

कम मात्रा में नीला प्रकाश कुछ लाभकारी प्रभाव दे सकता है, जैसे आपको बेहतर नींद लेने में मदद करना, पर जब बात बाहर रहने या स्क्रीन पर समय बिताने की हो तो हम में से अधिकतर लोग संयम नहीं बरतते हैं।

नीले प्रकाश के दुष्प्रभाव की एक व्यापक सूची इस प्रकार है:

  • मोतियाबिंद: आपने सुना होगा कि धूप का संपर्क मोतियाबिंद का कारण बन सकता है, पर नीला प्रकाश भी वही कोशिकाएं उत्पन्न करता है जो दृष्टि को दुर्बल बनाने वाली इस नेत्र स्थिति का कारण बनती हैं। 

  • मैकुलर डीजेनरेशन: नीला प्रकाश रेटिना को नुकसान भी पहुंचा सकता है, जिसका संबंध मैकुलर डीजेनरेशन से पाया गया है.

  • आंखों में सूखापन: जब आप डिजिटल स्क्रीनों को देखते हैं तो आप सामान्य से कम बार पलकें झपकाते हैं (यदि आप कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं तो और भी कम), जिससे आपकी आंखों में नमी का उत्पादन अपर्याप्त हो जाता है।

  • आंखों का डिजिटल तनाव: स्क्रीन के सामने लंबे समय तक बैठने से आपकी सिलियरी और एक्स्ट्राऑकुलर पेशियों पर तनाव पड़ सकता है।

  • धुंधली दृष्टि: जब आपकी सिलियरी और एक्स्ट्राऑकुलर पेशियां कमज़ोर हो जाती हैं, तो इससे आपकी दृष्टि धुंधलाने लगती है। इन पेशियों का कमज़ोर पड़ना, आंखों के डिजिटल तनाव का एक दुष्प्रभाव है।

  • सिरदर्द: जब आपकी आंखें थकी हुई हों और आपकी दृष्टि धुंधली हो तो देखने से पड़ने वाले तनाव से सिरदर्द भी हो सकता है।

  • अनिद्रा: इस बात का एक कारण है कि बिस्तर पर लेटे-लेटे फोन पर खेलने के बाद आपको नींद आने में इतना समय क्यों लगता है — और बात सिर्फ़ इतनी सी नहीं है कि गेम का कंटेंट रोमांचक या उत्तेजक होता है, बात यह भी है कि नीला प्रकाश नींद का आना मुश्किल कर सकता है।

  • बेचैन नींद: यदि आपको अपेक्षाकृत कम समय में नींद आ भी जाती है तो भी, नीला प्रकाश आपसे वह महत्वपूर्ण आराम छीन लेता है जो नींद से आपको मिलना चाहिए।

जब आप फोटोक्रोमिक लेंस पहनते हैं तो आप केवल सुविधा का ही लाभ नहीं उठाते, बल्कि आप अपनी आंखों को नीले प्रकाश से अत्यधिक संपर्क के नुकसानों से भी बचा रहे होते हैं। और नवीनतम फोटोक्रोमिक लेंस आप पर फ़बने वाली स्टाइल में भी उपलब्ध हैं – पारदर्शी लेंस जो कत्थई, धूसर (ग्रे), हरे या नीले या कहरुवा (एम्बर) रंग के हो जाते हैं, और अब तो वे उस अल्ट्रा-कूल लुक के लिए मिरर फ़िनिश में भी उपलब्ध हैं!

अपनी आंखों को नीले प्रकाश से बचाने को तैयार हैं? अपने पास के किसी आईवियर रिटेलर के यहां फोटोक्रोमिक लेंस खरीदें.

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें