होम आई केयर  |  In English

आंखों की समस्याओं के कारण स्कूल में सीखने-संबंधी दृष्टि समस्याएं पैदा होती हैं

सीखने के मुद्दों के साथ बच्चा

विशेषज्ञों का कहना है कि स्कूल में जो भी बच्चा सीखता है उसका 80 प्रतिशत वह जानकारी होती है जो दृष्टिगत रूप से प्रस्तुत की जाती है। इसलिए हर उम्र के छात्रों के लिए अपनी पूर्ण शैक्षणिक क्षमता तक पहुंचने के लिए पर्याप्त रूप से अच्छी दृष्टि होना आवश्यक है।

दृष्टि समस्याएं बच्चे को कक्षा में कई तरह से प्रभावित कर सकती हैं — कमरे के पीछे से चॉकबोर्ड को देखने से लेकर उनके डेस्क पर किताब पढ़ने तक।

बस रिफ्रैक्टिव त्रुटियों को दूर करना यह सुनिश्चित करने में पहला कदम है कि आपका बच्चा दृष्टिगत रूपसे स्कूल के लिए तैयार है। लेकिन केवल निकटदृष्टिता-दोषदूरदृष्टिता-दोष और दृष्टि विषमता ही ऐसे दृष्टि विकार नहीं हैं जो सीखने को और अधिक कठिन बना सकते हैं।

आंखों के कार्य करने के तरीके और मस्तिष्क की दृश्य प्रक्रिया कैसे होती है, इससे संबंधित कम स्पष्ट दृष्टि समस्याएं भी आपके बच्चे की सीखने की क्षमता को सीमित कर सकती हैं।

शैक्षणिक और पढ़ने के प्रदर्शन को प्रभावित करने की क्षमता वाली दृश्य कठिनाइयों को सीखने-संबंधी दृष्टि समस्याएं कहा जाता है।

दृष्टि और सीखने-संबंधी अक्षमताएं

सीखने-संबंधी दृष्टि संबंधी समस्याएं, सीखने की अक्षमताएं हैं।

Expandable
Expandable

शब्द ”सीखने की अक्षमता” एक व्यापक शब्द है जिसका उपयोग न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का वर्णन करने के लिए किया जाता है जो किसी व्यक्ति को सूचना प्राप्त करने और संसाधित करने के तरीके को प्रभावित करती हैं। सीखने की अक्षमता के विशिष्ट उदाहरणों में डिस्लेक्सिया, अवधारणात्मक विकार और मस्तिष्क की चोट शामिल हैं।

लेकिन कुछ दृष्टि समस्याओं के कारण सीखने की समस्याएँ पैदा हो सकती हैं, चाहे बच्चे का निदान "सीखने में अक्षम" के रूप में न किया गया हो। स्कूल में संघर्ष कर रहे बच्चे में सीखने की विशिष्ट अक्षमता, सीखने-संबंधी दृष्टि समस्या या दोनों हो सकते हैं।

यदि आप स्कूल में अपने बच्चे के प्रदर्शन के बारे में चिंतित हैं, तो आपको समस्या के अंतर्निहित कारण (या कारणों) का पता लगाने की आवश्यकता है। ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका, टीम दृष्टिकोण के माध्यम से है जिसमें बच्चे के शिक्षक, स्कूल का मनोचिकित्सक, एक नेत्र चिकित्सक शामिल हो सकते हैं जो बच्चों की दृष्टि और सीखने-संबंधी दृष्टि समस्याओं में माहिर हैं और शायद अन्य पेशेवर हो सकते हैं।

स्कूल में प्रफॉरमेंस संबंधी समस्याओं के सभी योगदान कारकों की पहचान करने से इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि समस्या को सफलतापूर्वक प्रबंधित किया जा सकता है।

सीखने से संबंधित दृष्टि समस्याओं के प्रकार

दृष्टि एक जटिल प्रक्रिया है जिसमें केवल आंखें ही नहीं बल्कि मस्तिष्क भी शामिल है।

सीखने-संबंधी विशिष्ट दृष्टि समस्याओं को तीन में से एक प्रकार के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। पहले दो प्रकार मुख्य रूप से दृष्टि इनपुट को प्रभावित करते हैं। तीसरा मुख्य रूप से दृश्य प्रोसेसिंग और एकीकरण को प्रभावित करता है।

1. नेत्र स्वास्थ्य और रिफ्रैक्टिव समस्याएं

ये समस्याएं प्रत्येक आंख में दृष्टि तीक्ष्णता को प्रभावित कर सकती हैं जैसा कि आई चार्ट द्वारा मापा गया है।रिफ्रैक्टिव त्रुटियों में निकटदृष्टिता, दूरदृष्टिता और दृष्टि विषमता शामिल हैं, लेकिन इनमें अधिक सूक्ष्म ऑप्टिकल त्रुटियां भी शामिल हैं जिन्हें उच्च-क्रम दृष्टि-विपथन कहा जाता है।

नेत्र स्वास्थ्य की समस्याएं कम दृष्टि का कारण बन सकती हैं — स्थायी रूप से कम हुई दृश्य तीक्ष्णता जिसे पारंपरिक चश्मों, कॉन्टैक्ट लेंसों या रिफ्रैक्टिव सर्जरी द्वारा ठीक नहीं किया जा सकता है।

2. कार्यात्मक दृष्टि समस्याएं 

कार्यात्मक दृष्टि आँख के विभिन्न प्रकार के विशिष्ट कार्यों और इन कार्यों के न्यूरोलॉजिकल नियंत्रण को संदर्भित करती है, जैसे कि आंखों की टीमिंग (बिनोक्यूलैरिटी), आंख के फाइन मूवमेंट्स (कुशल पठन के लिए महत्वपूर्ण), और सरल-प्रकृति (आयाम, सटीकता और लचीलेपन पर ध्यान केंद्रित)।

कार्यात्मक दृश्य कौशल की कमी से धुंधली या दोहरी दृष्टि, आंखों का तनाव और सिरदर्द हो सकता है जो सीखने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है। अपर्याप्त अभिसारिता एक विशिष्ट प्रकार की कार्यात्मक दृष्टि समस्या है जो पढ़ने के दौरान दोनों आँखों की सटीकता से और आराम से रहने की क्षमता को प्रभावित करती है।

3. दृश्य-अवधारणात्मक समस्याएं 

दृश्य अवधारणा में वह समझ शामिल है जो आप देखते हैं, इसकी पहचान करना, इसके महत्व को समझना और इसे मस्तिष्क में पहले से संग्रहीत जानकारी से संबंधित करना शामिल है। इसका मतलब है, उदाहरण के लिए, उन शब्दों को पहचानना जो आप पहले देख चुके हैं, और आंखों और मस्तिष्क का उपयोग करके आपके द्वारा देखे गए शब्दों की मानसिक तस्वीर बनाना है।

ज्यादातर नियमित नेत्र परीक्षण दृष्टि समस्याओं की इन श्रेणियों में से केवल पहली का मूल्यांकन करते हैं — जो नेत्र स्वास्थ्य और अपवर्तक त्रुटियों से संबंधित हैं। हालांकि, कई ऑप्टोमेट्रिस्ट जो बच्चों की दृष्टि समस्याओं और दृष्टि चिकित्सा में विशेषज्ञ हैं, वे ऐसी कार्यात्मक दृष्टि समस्याओं और अवधारणात्मक दृष्टि समस्याओं का मूल्यांकन करने के लिए परीक्षणों का प्रस्ताव देते हैं जो सीखने को प्रभावित कर सकती हैं।

कलर ब्लाइंडनेस, हालांकि यह आमतौर पर सीखने से संबंधित दृष्टि की समस्या नहीं मानी जाती, लेकिन अगर कक्षा की गतिविधियों में रंग मिलान या विशिष्ट रंगों की पहचान करना आवश्यक होता है, तो यह छोटे बच्चों के लिए स्कूल में समस्या पैदा कर सकता है। इस कारण से, सभी बच्चों का नेत्र परीक्षण होना चाहिए जिसमें स्कूल शुरू करने से पहले कलर ब्लाइंड टेस्ट होना शामिल है।

सीखने-संबंधी दृष्टि समस्याओं के लक्षण

सीखने-संबंधी दृष्टि समस्याओं के सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • सिरदर्द या आंखों में तनाव

  • धुंधली दृष्टि या दोहरी दृष्टि

  • भेंगापन या आँखें जो एक दूसरे की तरफ स्वतंत्र रूप से चलती हुई दिखाई देती है (भैंगापन के बारे में अधिक पढ़ें.)

  • पठन और निकट दृष्टि वाले काम करने से बचना

  • दृश्य कार्यों के दौरान लघु ध्या अवधि

  • केवल एक आँख का उपयोग करके सिर को मोड़ना या झुकाना, या एक आँख को बंद करना या ढकना

  • पढ़ते या लिखते समय सिर को किताब या डेस्क के बहुत पास रखना

  • आँखों का बहुत अधिक झपकना या मलना

  • पढ़ने के दौरान जगह खोना, या गाइड के रूप में उंगली का उपयोग करना

  • पढ़ने की धीमी गति या खराब पठन समझ

  • जो पढ़ा था, उसे याद करने में कठिनाई

  • शब्दों को छोड़ना या दोहराना, या समान शब्दों को भ्रमित करना

  • शब्दों या अक्षरों को लगातार उलटना (दूसरी कक्षा के बाद)

  • आकृतियों को याद करने, पहचानने या पुन: पेश करने में कठिनाई

  • खराब आंख-हाथ समन्वय

  • विकासात्मक अपरिपक्वता का साक्ष्य होना

यदि आपका बच्चा इनमें से एक या अधिक लक्षण दिखाता है और सीखने की समस्याओं का सामना कर रहा है, तो संभव है कि उसे सीखने-संबंधी दृष्टि की समस्या हो सकती है।

यह निर्धारित करने के लिए कि क्या ऐसी समस्या मौजूद है, ऐसे नेत्र चिकित्सक को दिखाएं जो व्यापक मूल्यांकन के लिए बच्चों के दृष्टिकोण और सीखने से संबंधित दृष्टि समस्याओं में माहिर हैं।

यदि कोई दृष्टि समस्या का पता नहीं लगाया जाता, तो संभव है कि आपके बच्चे के लक्षण गैर-दृश्य डिसफंक्शन, जैसे डिस्लेक्सिया या किसी अन्य विशिष्ट सीखने की अक्षमता के कारण हों। इन समस्याओं से निपटने हेतु मूल्यांकन के लिए एक शैक्षिक विशेषज्ञ से परामर्श करें।

सीखने-संबंधी दृष्टि समस्याओं का उपचार

यदि आपके बच्चे का निदान सीखने से संबंधित दृष्टि समस्या के साथ किया जाता है, तो उपचार में आम तौर पर दृष्टि चिकित्सा के एक व्यक्तिगत और डॉक्टर-पर्यवेक्षित कार्यक्रम शामिल होते हैं।

पूरा समय पहनने के लिए या फिर केवल विशिष्ट कार्याें जैसे पढ़ने के समय पहनने के लिए विशेष चश्मे भी प्रेस्क्राइब किए जा सकते हैं।

यदि आपका बच्चा सीखने की अक्षमता के लिए विशेष सेवाएं भी प्राप्त कर रहा है, तो नेत्र चिकित्सक जो आपके बच्चे के दृष्टि उपचार की देखरेख कर रहा है से अपने बच्चे के शिक्षक से संपर्क करने के लिए कहें। कुछ मामलों में, दृष्टि चिकित्सा और उपचारात्मक शिक्षण गतिविधियों को जोड़ा जा सकता है, और अपने बच्चे की सीखने की समस्याओं को दूर करने के लिए एक सहकारी प्रयास अक्सर सबसे अच्छा तरीका है।

ध्यान में रखें कि सीखने की कठिनाइयों वाले बच्चे भावनात्मक समस्याओं के साथ-साथ चिंता, अवसाद और कम आत्मसम्मान का भी अनुभव कर सकते हैं।

अपने बच्चे को आश्वस्त करें कि सीखने की समस्याएं और सीखने से संबंधित दृष्टि समस्याएं किसी व्यक्ति की बुद्धि में कोई भूमिका नहीं निभाती हैं। सीखने की कठिनाइयों वाले बहुत से बच्चों का बौद्धिक स्तर औसतन होता है और बस अपने साथियों की तुलना में जानकारी को अलग तरह से प्रोसेस करते हैं।

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें