होमअपनी आंखों के नीचे की सूजन से कैसे छुटकारा पाएं | In English

अपनी आंखों के नीचे की सूजन से कैसे छुटकारा पाएं

ड्रॉपी पलकों के साथ महिला

क्या आपकी आंखों के नीचे की कुरूप, मोटी-मोटी सूजन आपका हौसला तोड़ रही है?  क्या आपको इस बात से नफ़रत है कि आपकी आंखों के नीचे की यह सूजन आपको कितना थका हुआ और बूढ़ा दिखाती है?

आपको यह जान कर बेहद खुशी होगी कि ऐसे कई उपाय हैं जिनसे आप आंखों की सूजन का दिखना कम कर सकते हैं।

आंखों के नीचे की सूजन क्या होती है?

आंखों के नीचे सूजन (आई बैग) तब होती है जब कमज़ोर और ढीली त्वचा नीचे लटक कर एक पाउच जैसा बना देती है। आंखों के नीचे मौजूद वसा के पैड नीचे खिसक कर इस खाली स्थान को भर देते हैं।

शरीर में मौजूद अतिरिक्त तरल पदार्थ भी यहां इकट्ठा हो सकता है, जिससे निचली पलकें और भी ज़्यादा फूली और सूजी हुई दिखती हैं। आंखों के नीचे का कालापन और बेरंगत त्वचा, आंखों के नीचे की सूजन को और स्पष्ट बना देते हैं।

आंखों के नीचे की सूजन मुख्य रूप से सुंदरता से संबंधित समस्या है और आमतौर पर यह हानिकर नहीं होती है। पर कभी-कभी यह किसी छिपी हुई चिकित्सीय स्थिति का संकेत हो सकती है।

अधिकतर मामलों में, आंखों के नीचे की सूजन सुबह सबसे अधिक दिखती है, क्योंकि तरल पदार्थ को ढीली त्वचा के नीचे इकट्ठा होने के लिए पूरी रात मिली होती है।

आपकी आंखों के नीचे सूजन क्यों होती है?

आंखों के नीचे की सूजन का सबसे आम कारण, बढ़ती आयु है। जैसे-जैसे हमारी आयु बढ़ती है, हमारे वसा के पैड और कोलेजन घटने लगते हैं; कोलेजन त्वचा, पेशियों और शरीर के अन्य भागों में मौजूद संयोजी ऊतकों का प्रमुख घटक है।

कोलेजन का स्तर घटने से पूरे शरीर की त्वचा और नीचे मौजूद पेशियां अपनी लचीलापन और रंगत खोने लगती हैं। यह लटकन आंखों के इर्द-गिर्द बड़ी आसानी से दिख जाती है क्योंकि वहां की त्वचा बहुत पतली होती है।   

आंखों के नीचे सूजन आने में योगदान देने वाले अन्य कारकों में शरीर के अंदर तरल पदार्थ का संचय, दीर्घस्थायी चिकित्सीय स्थितियां जैसे थायरॉइड का रोग, संक्रमण, एलर्जी, तनाव, आंखों की थकान, धूम्रपान, नींद का अभाव, और चेहरे की वंशानुगत विशेषताएं शामिल हैं।

यदि सूजन अधिक तीव्र, पीड़ादायी, खुजलीदार, लाल या हठी हो जाए, तो चिकित्सीय निदान के लिए किसी नेत्र देखभाल पेशेवर को दिखाएं।

आंखों के नीचे की सूजन के लिए नुस्खे

आंखों के नीचे की सूजन के मूल कारण की पहचान करना, नुस्खा चुनने की राह का पहला कदम है।

उदाहरण के लिए, यदि आंखों के नीचे की सूजन बढ़ती आयु के कारण है या आपके परिवार में आम है, तो उनसे छुटकारा पाने के लिए कोई कॉस्मेटिक समाधान सबसे उपयुक्त हो सकता है, जैसे प्लास्टिक सर्जरी।

यह पहले ही जान लें कि आंखों की कॉस्मेटिक सर्जरी जो केवल रंग-रूप बेहतर बनाने के लिए की गई हो, मेडिकल इंश्योरेंस में कवर नहीं की जाती है।

यदि आंखों के नीचे की सूजन पर्यावरणीय हो या किसी छिपी हुई स्वास्थ्य समस्या के कारण हो, तो आपको कुछ आसान से घरेलू नुस्खों से तथा जीवनशैली में कुछ बदलावों से इस सूजन का दिखना घटाने में मदद मिल सकती है। इनमें शामिल हैं:

  • भरपूर नींद लें (प्रतिदिन औसतन 8 घंटे)।

  • अपना सिर कुछ इंच ऊंचा रखते हुए सोएं ताकि तरल पदार्थ आपकी आंखों के इर्द-गिर्द इकट्ठा न होने पाए।

  • सोने जाते समय तरल पदार्थ न लें और पूरे दिन नमक से परहेज़ करें।

  • बदन साफ़ करने के किसी नम व गीले कपड़े की पट्टी बनाकर आंखों पर रखें, सीधे बैठे हो कर ऐसा करना बेहतर है। या फिर, खीरे की फांकों, या ठंडे व नम टी बैग्स का उपयोग करके सूजन घटाने में मदद पाई जा सकती है।

  • आपकी एलर्जी को सक्रिय करने वाले कारणों से बचाव करके और प्रेस्क्रिप्शन के बिना मिलने वाली एलर्जी की दवाओं का उपयोग करके अपनी एलर्जी के लक्षणों को नियंत्रण में रखें।

  • आंख के नीचे के काले घेरों को छिपाने के लिए कॉस्मेटिक कन्सीलर का उपयोग करें।

हैमरॉइड क्रीम्स का उपयोग, आंखों के नीचे की सूजन घटाने का एक लोकप्रिय घरेलू नुस्खा है। (हां, सच में।)

हैमरॉइड क्रीम्स में फेनिलएफरिन नामक दवा होती है जो रक्त वाहिकाओं को संकुचित करती है और आंखों के नीचे की त्वचा में अस्थायी तौर पर कसावट ला सकती है, जिससे आंखों की सूजन कम दिखती है। सावधान रहें कि क्रीम आपकी आंखों में न जाने पाए, नहीं तो उनमें जलन और खुजली हो सकती है।

यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ने की कोशिश करें। धूम्रपान से बचना न केवल आपके संपूर्ण स्वास्थ्य और दृष्टि के लिए अच्छा है — बल्कि इसे छोड़ने से कोलेजन की हानि, जो त्वचा को पतला करती है, भी धीमी हो जाएगी। और यदि आप अपनी आंखों के नीचे की सूजन को हटाने के लिए कॉस्मेटिक सर्जरी करवाने का विकल्प चुनते हैं, और यदि आप धूम्रपान नहीं करते तो आप अपेक्षाकृत जल्द ठीक हो जाएंगे।

ऐसे झुर्रियों के उपचार और त्वचा चिकित्साएं भी उपलब्ध हैं जिन्हें आंखों के नीचे की त्वचा में कसावट लाने और फूलापन घटाने के लिए बनाया गया है। इनमें केमिकल पील, लेज़र रीसरफ़ेसिंग और डर्मल फ़िलर्स के इंजेक्शन शामिल हैं।

आपको इन विकल्पों या सर्जरी से जुड़े लाभों, साइड इफ़ेक्ट्स, और जोख़िमों के बारे में अपने नेत्र देखभाल पेशेवर, ऑकुलोप्लास्टिक सर्जन, या प्लास्टिक सर्जन से बात करनी चाहिए।

आंखों के नीचे की सूजन के लिए सर्जरी

यदि आपने अपनी आंखों के नीचे की सूजन ख़त्म करने के लिए ऊपर बताए गए सभी या कुछ नुस्खे आजमा लिए हैं और आप नतीजों से संतुष्ट नहीं हैं, तो हो सकता है कि आप एक अधिक स्थायी समाधान चाहें।

पलकों की कॉस्मेटिक सर्जरी, जिसे ब्लेफेरोप्लास्टीभी कहते हैं, आपकी निचली पलकों के नीचे की त्वचा को चिकनाहट और कसावट दे सकती है। ब्लेफेरोप्लास्टी का उपयोग फूली-फूली या नीचे लटकती पलकों के उपचार के लिए भी किया जा सकता है.

आंखों के नीचे की सूजन के लिए निचली पलकों की ब्लेफेरोप्लास्टी आमतौर पर सेडेशन (बेहोश करना) और लोकल एनेस्थेसिया (स्थानीय निश्चेतना) के अंतर्गत आउटपेशेंट (बाह्यरोगी) कार्यविधि के रूप में की जाती है। (कुछ मामलों में, जनरल एनेस्थेसिया (पूरी तरह बेहोश करने) का उपयोग भी किया जा सकता है।)

सर्जरी से पहले, सर्जन आंख के नीचे का वह स्थान दर्शाने के लिए निशान लगाते हैं जहां वे चीरे लगाएंगे। आमतौर पर, ये चीरे निचली पलक के अंदर या पलकों के बालों के नीचे लगाए जाते हैं।

चीरे लग जाने पर, सर्जन अतिरिक्त वसा और अतिरिक्त त्वचा हटा कर बेहद सूक्ष्म और घुल जाने वाले टांकों का उपयोग करके टांके लगा कर चीरे बंद कर देता है। और इससे मिलती है पहले से अधिक स्मूद, और “लिफ़्ट” की हुई त्वचा।

आंखों के नीचे की सूजन की सर्जरी के बाद स्वास्थ्य लाभ

अधिकतम स्वास्थ्य लाभ पाने के लिए यह ज़रूरी है कि आप अपने सर्जन के सर्जरी के बाद के निर्देशों का पालन करें। लगभग 48 घंटों तक नियमित रूप से ठंडी पट्टियां रखने से सूजन व तकलीफ़ घटाने में मदद मिलेगी। स्वास्थ्य लाभ को बढ़ावा देने तथा संक्रमण की रोकथाम करने के लिए आपके सर्जन के निर्देशानुसार प्रेस्क्रिप्शन मरहमों और आई ड्रॉप का उपयोग करना चाहिए।

सर्जरी के तुरंत बाद के दिनों में थोड़ी सूजन, नील, और आंखों में सूखापन जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। यदि आप बाहर निकलें, तो अपनी ठीक होती त्वचा और आंखों को गहरे रंग के धूप के चश्मे की सुरक्षा दें। सर्जरी के बाद कम-से-कम एक सप्ताह तक अधिक परिश्रम वाले शारीरिक व्यायाम न करें।

अधिकांश लोगों में लगभग 10 से 14 दिनों के अंदर सूजन और नील इतना घट जाते हैं कि वे सहजता से दोबारा बाहर निकलने लगते हैं। यदि आपको किसी असामान्य लक्षण या दर्द का अनुभव हो, जो सर्जरी के बाद की समस्याओं का संकेत हो सकता है, तो अपने नेत्र देखभाल पेशेवर को कॉल करना न भूलें।

छोटी-बड़ी सभी प्रकार की सर्जरियों के साथ कुछ जोख़िम जुड़े होते हैं। ब्लेफेरोप्लास्टी से जुड़े संभावित जोख़िम इस प्रकार हैं:

  • रक्तस्राव

  • नील पड़ना

  • दुखन

  • संक्रमण

  • छूने पर सुन्नपन

  • त्वचा बेरंग होना

  • चीरे की रेखाओं के साथ-साथ सिस्ट

  • स्वास्थ्य लाभ में देरी या ठीक से न होना, विशेष रूप से धूम्रपान करने वालों में

  • ऊपरी पलक का लटक जाना

पलकों की सर्जरी के बाद संपूर्ण स्वास्थ्य लाभ में छः सप्ताह या अधिक का समय लगता है। आपको जिन भी लक्षणों का अनुभव हो या जो भी प्रश्न पूछने हों वे अपनी फ़ॉलो-अप मुलाकातों में अपने सर्जन को बता दें/से पूछ लें।   

Find Eye Doctor

शेड्यूल आई एग्जाम

ऑप्टिशियन खोजें